BREAKING NEWS

स्मृति ईरानी एवं हेमा मालिनी पर टिप्पणी कों लेकर EC से कांग्रेस की शिकायत◾उप्र विधानसभा चुनाव जीतने के लिए नफरत फैला रही है भाजपा, हो सकता है भारत का विघटन : फारूक अब्दुल्ला◾एनसीबी के सामने पेश हुईं अभिनेत्री अनन्या पांडे, कल सुबह 11 बजे फिर होगा सवालों से सामना ◾सिद्धू का अमरिंदर सिंह पर पलटवार - कैप्टन ने ही तैयार किये है केन्द्र के तीन काले कृषि कानून◾हिमाचल के छितकुल में 13 ट्रैकरों की हुई मौत, अन्य छह लापता◾कांग्रेस का PM से सवाल- जश्न से जख्म नहीं भरेंगे, ये बताएं 70 दिनों में 106 करोड़ टीके कैसे लगेंगे ◾केरल - वरिष्ठ माकपा नेता पर बेटी ने ही लगाया बच्चा छीनने का आरोप, मामला दर्ज ◾‘विस्तारवादी’ पड़ोसी को सेना ने दिया मुंहतोड़ जवाब, संप्रभुता से कभी समझौता नहीं करेगा भारत : नित्यानंद राय ◾कोरोना वैक्सीन का आंकड़ा 100 करोड़ के पार होने पर केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री ने गीत और फिल्म जारी की◾केंद्रीय कर्मचारियों और पेंशन धारकों को दीपावली का तोहफा, महंगाई भत्ते में 3 प्रतिशत वृद्धि को मिली मंजूरी◾SC की सख्ती के बाद गाजीपुर बॉर्डर से किसान हटाने लगे टैंट, कहा- हमने कभी बन्द नहीं किया था रास्ता ◾नेहरू के जन्मदिन पर महंगाई के खिलाफ अभियान शुरू करेगी कांग्रेस, कहा- भारी राजस्व कमा रही है सरकार ◾ देश में टीकाकरण का आंकड़ा 100 करोड़ के पार, WHO प्रमुख ने PM मोदी और स्वास्थ्यकर्मियों को दी बधाई ◾आर्यन केस : शाहरुख के घर मन्नत में जांच के बाद निकली NCB टीम, अब अनन्या पांडे से होगी पूछताछ ◾जम्मू-कश्मीर में जारी है आतंकवादी गतिविधियां, बारामूला में टला बड़ा हादसा, आईईडी किया गया निष्क्रिय ◾SC की किसानों को फटकार- विरोध करना आपका अधिकार, लेकिन सड़कों को अवरुद्ध नहीं किया जा सकता◾100 करोड़ टीकाकरण पर थरूर बोले- 'आइए सरकार को श्रेय दें', पहले की विफलताओं के प्रति केंद्र जवाबदेह◾देश के पास महामारी के खिलाफ 100 करोड़ खुराक का ‘सुरक्षात्मक कवच’, आज का दिन ऐतिहासिक : PM मोदी◾ड्रग्स केस : बॉम्बे HC में आर्यन खान की जमानत याचिका पर 26 अक्टूबर को होगी सुनवाई◾MP : भिंड में वायुसेना का विमान क्रेश होकर खेत में गिरा, पायलट सुरक्षित बच निकलने में रहा सफल ◾

बच्चों की पिटाई करने से हो सकते ये बुरे प्रभाव, समाधान के चक्कर में खड़ी न हो जाए बड़ी समस्या

बच्चों के व्यवहार में सुधार लाने के लिए उन्हें थप्पड़ मारना या पीटना समस्या का हल नहीं होता है लेकिन एक नई समस्या खड़ी जरूर कर देता है। ऐसा करने से बच्चों के व्यवहार पर प्रतिकूल असर पड़ता है। यह बात यूनिवर्सिटी कॉलेज लंदन (यूसीएल) और विशेषज्ञों की एक अंतरराष्ट्रीय टीम के अध्ययन में निकलकर सामने आई है, जिसने इस मुद्दे पर 20 साल के अध्ययन का विश्लेषण किया। 

यह अध्ययन ‘द लासेंट’ जर्नल में प्रकाशित हुई और इसमें दुनिया भर के उन 69 अध्ययनों का विश्लेषण किया गया, जिसमें बच्चों पर एक अरसे तक नज़र रखी गई और शारीरिक दंड और उससे उपजे परिणामों के आंकड़ों का विश्लेषण किया गया। 

ऐसा कहा गया कि दुनिया भर में दो से चार साल उम्र के दो तिहाई (63 फीसदी) करीब 25 करोड़ बच्चे अपने अभिभावकों या देखरेख करने वालों के द्वारा शारीरिक दंड का सामना करते हैं। इस समीक्षा अध्ययन की मुख्य लेखिका और यूसीएल की महामारी विज्ञान एवं लोक स्वास्थ्य की डॉक्टर अंजा हेलेन ने बताया, ‘‘ शारीरिक दंड देना अप्रभावी और नुकसानदेह है तथा इससे बच्चों और उनके परिवार को कोई लाभ नहीं मिलता है।’’ 

उन्होंने कहा, ‘‘ हम शारीरिक दंड और व्यवहार संबंधी दिक्कतों जैसे कि आक्रामकता के बीच एक संबंध देखते हैं। शारीरिक दंड देने से बच्चों में लगातार इस तरह की व्यवहार संबंधी परेशानियां बढ़ने का अनुमान रहता है।’’ उन्होंने बताया, ‘‘ इससे भी अधिक चिंता की बात है कि जिन बच्चों को शारीरिक दंड दिया जाता है, उनमें हिंसा के अधिक गंभीर स्तर का शिकार होने का खतरा बढ़ जाता है।’’ 

अब तक स्कॉटलैंड और वेल्स समेत 62 देशों में इस तरह के चलन पर रोक लग चुकी है और विशेषज्ञों की मांग है कि इंग्लैंड और नदर्न आयरलैंड समेत सभी देशों में घर समेत अन्य स्थलों पर बच्चों को शारीरिक दंड देने पर रोक लगाई जाए। 

अमेरिका में यूनिवर्सिटी ऑफ टेक्सास की प्रोफेसर और इस अध्ययन की वरिष्ठ लेखिका एलिज़ाबेथ ग्रेसोफ ने कहा, ‘‘ अभिभावक बच्चों को यह समझ कर शारीरिक दंड देते हैं कि इससे बच्चों के व्यवहार में सकारात्मक बदलाव होंगे। लेकिन हमारा अध्ययन स्पष्ट तौर पर यह सबूत पेश करता है कि शारीरिक दंड से बच्चों के व्यवहार में परिवर्तन नहीं होते बल्कि इससे उनका व्यवहार और खराब हो जाता है।’’ 

शारीरिक दंड से बच्चों के व्यवहार में जो नकारात्मक बदलाव आते हैं, उसका बच्चों के लिंग, जातीयता या उनकी देखभाल करने वालों के संपूर्ण तरीके से इसका कोई लेना-देना नहीं है।