वैसे तो हिन्दू धर्म में पूजा करते समय गजानंद (भगवान श्रीगणेश जी) को सर्वश्रेष्ठ स्थान दिया गया है। बता दे कि जब भी हम कोई शुभ कार्य करने जा रहे होते है तो सबसे पहले भगवान गणेश की ही पूजा की जाती है जो हिन्दू धर्म में अनिवार्य भी बताई गयी है। धर्म ग्रंथों के अनुसार , श्रीगणेश प्रथम पूज्य देव कहलाते है। देवता भी अपने कार्यों की बिना किसी विघ्न से पूरा करने के लिए गणेश जी की अर्चना सबसे पहले करते हैं। ऐसा इसलिए है क्योंकि देवगणों ने स्वयं उनकी अग्रपूजा का विधान बनाया है।

बता दे कि इनके अलग-अलग स्वरूपों की पूजा करने पर सभी देवी-देवताओं की कृपा प्राप्त होती है। आज हम आपको श्रीगणेश की 4 ऐसी चमत्कारी मूर्तियां के बारे में बताने जा रहे है जिनकी पूजा से घर-परिवार पर देवी लक्ष्मी सहित सभी देवी-देवता प्रसन्न होते हैं और गरीबी दूर होती है।

4 . हल्दी की गांठ से बनी गणेश मूर्ति


आप हल्दी की ऐसी गांठ चुनिए, जिसमें श्री गणेश की आकृति दिखाई दे रही हो। साथ ही भगवान श्रीगणेश जी का ध्यान करते हुए इस गांठ की पूजा रोज़ करें।

3 . गोमय यानी गोबर से बनी गणेश मूर्ति

वैसे तो हिन्दू धर्म में गाय को बहुत महत्व दिया गया है। और इनकी पूजा भी की जाती है साथ ही आपको बता दे कि गोमय में महालक्ष्मी का वास माना गया है। यही वजह है कि गोमय से बनी गणेश मूर्ति की पूजा करने से गणेश जी के साथ ही लक्ष्मी कृपा भी मिलती है। गोबर से गणेश जी की आकृतियां बनाएं और उसकी पूजा करें।

2 . लकड़ी से बनी गणेश मूर्ति


वैसे अगर आप पीपल, आम, नीम आदि इन पेड़ों की लकड़ी से बनी गणेश मूर्ति को घर के मुख्य दरवाज़े पर लगाएं। और इस मूर्ति की पूजा रोज़ करेंगे तो घर के सभी दोष दूर हो जाएंगे।

1 . श्वेतार्क की गणेश मूर्ति


सफ़ेद आकड़ें की जड़ में गणेशजी की आकृति (मूर्ति) बन जाती है। इसे श्वेतार्क गणेश कहां जाता है। इस मूर्ति की पूजा से सुख-सौभाग्य बढ़ता है। इस बात का भी खास ध्यान रखें कि रविवार या पुष्य नक्षत्र में श्वेतार्क गणेश की मूर्ति घर लेकर आएं और रोज़ इसकी पूजा करें।

विसर्जन पर करें गणेशा को खुश, लगाए केसरी मोदक का भोग