BREAKING NEWS

TET परीक्षा : सरकार अभ्यर्थियों के साथ-योगी, विपक्ष ने लगाया युवाओं के भविष्य से खिलवाड़ का आरोप◾संसद में स्वस्थ चर्चा चाहती है सरकार, बैठक में महत्वपूर्ण मुद्दों को हरी झंडी दिखाई गई: राजनाथ सिंह ◾त्रिपुरा के लोगों ने स्पष्ट संदेश दिया है कि वे सुशासन की राजनीति को तरजीह देते हैं : PM मोदी◾कांग्रेस ने हमेशा लोगों के मुद्दों की लड़ाई लड़ी, BJP ब्रिटिश शासकों की तरह जनता को बांट रही है: भूपेश बघेल ◾आजादी के 75 वर्ष बाद भी खत्म नहीं हुआ जातिवाद, ऑनर किलिंग पर बोला SC- यह सही समय है ◾त्रिपुरा नगर निकाय चुनाव में BJP का दमदार प्रदर्शन, TMC और CPI का नहीं खुला खाता ◾केन्द्र सरकार की नीतियों से राज्यों का वित्तीय प्रबंधन गड़बढ़ा रहा है, महंगाई बढ़ी है : अशोक गहलोत◾NFHS के सर्वे से खुलासा, 30 फीसदी से अधिक महिलाओं ने पति के हाथों पत्नी की पिटाई को उचित ठहराया◾कोरोना के नए वेरिएंट ओमीक्रॉन को लेकर सरकार सख्त, केंद्र ने लिखा राज्यों को पत्र, जानें क्या है नई सावधानियां ◾AIIMS चीफ गुलेरिया बोले- 'ओमिक्रोन' के स्पाइक प्रोटीन में अधिक परिवर्तन, वैक्सीन की प्रभावशीलता हो सकती है कम◾मन की बात में बोले मोदी -मेरे लिए प्रधानमंत्री पद सत्ता के लिए नहीं, सेवा के लिए है ◾केजरीवाल ने PM मोदी को लिखा पत्र, कोरोना के नए स्वरूप से प्रभावित देशों से उड़ानों पर रोक लगाने का किया आग्रह◾शीतकालीन सत्र को लेकर मायावती की केंद्र को नसीहत- सदन को विश्वास में लेकर काम करे सरकार तो बेहतर होगा ◾संजय सिंह ने सरकार पर लगाया बोलने नहीं देने का आरोप, सर्वदलीय बैठक से किया वॉकआउट◾TMC के दावे खोखले, चुनाव परिणामों ने बता दिया कि त्रिपुरा के लोगों को BJP पर भरोसा है: दिलीप घोष◾'मन की बात' में प्रधानमंत्री ने स्टार्टअप्स के महत्व पर दिया जोर, कहा- भारत की विकास गाथा के लिए है 'टर्निग पॉइंट' ◾शीतकालीन सत्र से पूर्व विपक्ष में आई दरार, कल होने वाली कांग्रेस नेता खड़गे की बैठक से TMC ने बनाई दूरियां ◾उद्धव ठाकरे की सरकार के दो साल के कार्यकाल में विपक्ष पूरी तरह से दिशाहीन रहा : संजय राउत◾कांग्रेस Vs कांग्रेस : अधीर रंजन चौधरी के वार पर मनीष तिवारी का पलटवार◾कल से शुरू हो रहा है संसद का शीतकालीन सत्र, पेश होंगे ये 30 विधेयक◾

Sawan Somvar 2020: सावन के तीसरे सोमवार पर बन रहे हैं यह खास योग, शिव की ऐसे करें पूजा-अर्चना

सावन का तीसरा सोमवार 20 जुलाई यानी आज है। दरअसल इस बार सोमवती अमावस्या, हरियाली अमावस्या का शुभ संयोग सावन के तीसरे सोमवार पर बन रहा है। भगवान शिव को इन योग में प्रसन्न करने के लिए भक्तों के पास पूरे अवसर हैं। 

मान्यता के अनुसार, इस शुभ योग में भगवान शिव की पूजा अर्चना करने से भक्तों की सभी मुरादें पूर्ण हो जाती हैं। इसके अलावा सुखशांति का वास घर में होता है। चलिए आपको इन खास संयोग के बारे में बताते हैं जो सावन के तीसरे सोमवार पर बन रहे हैं। 

सोमवती अमावस्या 

पितरों की पूजा के लिए सावन के तीसरे सोमवार पर शुभ संयोग बन रहा है। सोमवती अमावस्या भी इस दिन है। दीप अमावस्या भी इस अमावस्या को देश के कुछ हिस्सों में कहा जाता है। पितरों की आत्मा की शांति के लिए इस दिन दान व तर्पण किया जाता है। ऐसा करने से शांति पितर परलोक में प्राप्त कर लें साथ ही जीवन में सुख-शांति पितरों के आशीर्वाद से बनी रहे और वंश की आगे वृद्धि हो। 

हरियाली अमावस्या 


हरियाली अमावस्या भी सावन मास की अमावस्या को कहते हैं। सावन के तीसरे सोमवार को यह शुभ योग बन रहा है। दरअसल मानसून को यह अमावस्या दर्शाता है जो हरियाली धरती पर चरों तरफ करता है। प्रकृति का नजारा इस समय देखने लायक होता है। बारिश में नहाकर हर चीज नई प्रतीत होती है। विशेष लाभ पीपल के पेड़ की पूजा करके परिक्रमा इस दिन करने से होता है। ऐसा करने से सारी समस्याएं दूर हो जाती हैं। 

सर्वार्थ सिद्धि योग 


हर कार्य को सिद्धि देने वाला सर्वार्थ योग भी सावन के तीसरे सोमवार पर बन रहा है। यह सौभाग्यदायनी भी होता है। सूर्योदय से लेकर सूर्यास्त तक यह योग बना रहता है। जो भी शुभ कार्य इस शुभ योग में करेंगे उससे शुभ लाभ मिलेगा। भगवान शिव की पूजा सर्वार्थ सिद्धि योग में करने से सौभाग्य की प्राप्ति होती है साथ ही वैवाहिक जीवन सुखयम रहता है। सुयोग्य वर-वधु भगवान शिव की आरधना इस दिन करने से मिलता है। 

यह संयोग बना है 47 सालों बाद


कई शुभ और अद्भुत संयोग सावन के तीसरे सोमवार पर बन रहे हैं। सोमवार को अमावस्या और पूर्णिमा दोनों सावन में इस बार पड़ रही हैं। 47 साल बाद ऐसा संयोग बना है। सावन का महीना इसलिए भी खास हो जाता है। शिवपुराण का पाठ और महामृत्युंजय मंत्र का जप  इस मौके पर करना बेहद लाभदायी होता है। सुख और सौभाग्य की प्राप्ति इससे होती है। 

पूजा करें इस तरह 


एक तांबे के लोटे में अक्षत, दूध, पुष्प, बेल पत्र आदि सोमवार को सुबह स्नान करके डालें। उसके बाद शिव मंदिर में जाकर शिवलिंग का अभिषेक करें। ‘ऊं नम: शिवाय’ मंत्र का जापइस दौरान करें। शिव चालीसा और रुद्राष्टक का पाठ संभव हो सके तो मंदिर परिसर में ही करें। घर पर रहकर ही पूजा कर सकते हैं।