BREAKING NEWS

बवाल : गाजीपुर, सिंघू, टिकरी बॉर्डर से बैरिकेड तोड़ दिल्ली में घुसे किसान, पुलिस ने दागे आंसूगैस के गोले ◾राजपथ पर अत्याधुनिक हथियार, मिसाइल, लड़ाकू विमानों, भारतीय सैनिकों ने दिखाई भारत की ताकत ◾72वां गणतंत्र दिवस : राजपथ पर दिखी ऐतिहासिक विरासत, सांस्कृतिक धरोहर और शौर्य की झलक◾पीएम मोदी और गृह मंत्री अमित शाह ने देशवासियों को गणतंत्र दिवस की दी शुभकामनाएं ◾भाजपा ने जय श्रीराम का नारा लगाकर नेताजी का अपमान कियाः ममता बनर्जी ◾किसान संगठनों का ऐलान - बजट के दिन संसद की तरफ करेंगे कूच, यह पूरे देश का आंदोलन है◾गणतंत्र दिवस की पूर्व संध्या पर सम्बोधन में बोले कोविंद - किसानों के हित के लिए सरकार पूरी तरह समर्पित ◾प्रदूषण फैलाने वाले पुराने वाहनों पर लगाया जायेगा ‘ग्रीन टैक्स’, गडकरी ने दी मंजूरी◾पंजाब के CM अमरिंदर सिंह ने किसानों से शांतिपूर्ण तरीके से ट्रैक्टर परेड निकालने की अपील की ◾कृषि कानूनों को डेढ़ साल तक निलंबित रखने का फैसला सरकार की 'सर्वश्रेष्ठ' पेशकश : नरेंद्र सिंह तोमर◾मुंबई की किसान रैली में बोले पवार - राज्यपाल के पास कंगना के लिए समय है, किसानों के लिए नहीं◾टीकों के खिलाफ अफवाहों को रोकने और उन्हें फैलाने वालों के खिलाफ केंद्र द्वारा सख्त कार्रवाई के निर्देश ◾प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की गलत नीतियों के कारण देश में आर्थिक असमानता बढ़ी : कांग्रेस ◾PM की मौजूदगी में तानों का करना पड़ा सामना, BJP का नाम होना चाहिए ‘भारत जलाओ पार्टी’ : CM ममता ◾प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राष्ट्रीय बाल पुरस्कार विजेताओं से किया संवाद, जीवनी पढ़ने की दी सलाह ◾राहुल के आरोपों पर बोले CM शिवराज, कांग्रेस के माथे पर देश के विभाजन का पाप◾किसानों ने ट्रैक्टर परेड के लिए तैयार किया ब्लू प्रिंट, चाकचौबंद व्यवस्था के साथ ये है गाइडलाइन्स◾PM की वजह से देश हो गया एक कमजोर और विभाजित भारत, अर्थव्यवस्था हुई ध्वस्त : राहुल गांधी ◾महाराष्ट्र में किसानों का हल्ला बोल, कृषि कानून विरोधी रैली में उतरेंगे शरद पवार-आदित्य ठाकरे ◾सिक्किम में चीनी घुसपैठ को भारतीय सैनिकों ने किया नाकाम, चीन के 20 सैनिक जख्मी◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

इस परिवार ने घर बनाने के लिए नहीं काटा पेड़,150 साल पुराना है यह पेड़

अगर घर बनाना है तो इस पेड़ को काट दो खुद ही काफी सारी जगह बन जाएगी। किसी घर का निर्माण करने के लिए सबसे पहले पेड़ो को ही काट के रास्ते से हटाया जाता है। जबकि आप और हम सभी यह बात काफी अच्छी तरह से जानते हैं कि पेड़ों के बिना जीवन कितना ज्यादा मुश्किल है। जी हां कुछ लोग हैं जो हमें पेड़ों के साथ रहना खुद ही सीखा देते हैं। बता दें कि मध्य प्रदेश के जबलपुर में एक ऐसा ही परिवार रहता है जिसने अपने घर के निर्माण के दौरान पेड़ काटने की जगह उसे अपने ही परिवार का हिस्सा बना लिया। 

यह पेड़ 1994 से मौजूद है

जबलपुर में अगर आप किसी से भी पूछेंगे कि यहां वो घर कहां है जिसकी खिड़कियों से पीपल का पेड़ दिखाई देता है तो आपको लोग बिना किसी सवाल जवाब किए बिना सीधा आपको योगेश केसरवानी के घर भेज देंगे। केसरवाानी परिवार के इस घर में साल 1994 से एक पीपल का पेड़ है। उसी समय योगेश के मम्मी-पापा ने एक इंजीनियर की मदद से इस घर को बनवाया था। 

पेड़ 150 साल का हो चुका है

योगेश का कहना है कि हम प्रकृति से प्यार करने वाले लोग हैं। उनके पिता का इरादा पक्का था कि वो पेड़ को नहीं काटेंगे जो अब 150 साल का हो चुका है। क्योंकि पेड़ को काटना आसान है लेकिन उसे उगाना उतना ही मुश्किल है। देशभर में ज्यादातर जगहों पर पीपल के पेड़ को पवित्र माना जाता है। लोग इसे काटना अशुभ मानते हैं। इस पर योगेश का कहना है कि हमारा मानना है कि 35 करोड़ देवी-देवता एक पीपल के पेड़ में रहता हैं। गीता में भी पीपल का उल्लेख मिलता है।

पेड़ों को इस तरह बचाया जा सकता है

बता दें कि यह परिवार लोगों को संदेश देना चाहता है कि पेड़ों को ऐसे भी बचाया जा सकता है। यही वो पेड़ है जिसकी वजह से केसरवानी परिवार का घर एक लैंडमार्क बन चुका है। घर की खिड़कियों से बाहर पेड़ की पत्तियां और तने लोगों को काफी ज्यादा आकर्षित करते हैं। सबसे पहले लोग रूक कर इसे देखते हैं और कई सारे लोग तो इस पेड़ के साथ सेल्फी भी लेते हैं। 

नहीं हुई कभी कोई परेशानी पेड़ की वजह से

योगेश बताते है कि जब घर को बनवाया था तो इंजीनियरिंग के बच्चे यहां आते और इस खास डिजाइन पर अध्ययन करते थे। वो आगे कहते हैं कि इस पेड़ की वजह से परिवार को कोई परेशानी नहीं हुई। हमें तो पता ही नहीं चलता कि यहां पर कोई पेड़ भी है। क्योंकि  यह तो बस चुपचाप यू हीं खड़ा रहता है।