आपने उन लोगों के बारे में काफी सुना होगा जो बनना कुछ और चाहते है पर बन कुछ और जाते है पर यहाँ मामला उलट है। आज जिस शख्स की बात हम आपको बताने जा रहे है इन्होने अपनी लाइफ में ऐसा ‘यू टर्न’ लिया की दुनिया आज हैरान है।

इन्होने बहुत से लोगों के लिए मिसाल पैदा की है जो अपनी इच्छा को दिल में दबाकर अपना जीवन बिता देते है। आइये नजर डालते है इस इंसान की कहानी पर जिन्होंने अपनी जिंदगी को बनाया अपने तरीके से खुद के लिए ख़ास।

ये किस्सा है 22 वर्षीय मिमी ताओ के बारे में जिनका जन्म के लड़के के रूप में थाईलैंड में हुआ था। 12 वर्ष की उम्र में मिमी को यहाँ के ऑल बॉयज स्कूल में बौद्ध भिक्षु बनने के लिए भेज दिया गया था।

अपने परिवार की आर्थिक स्थिति नाजुक होने की वजह से मिमी ने मोंटेसरी स्कूल में दाखिला ले लिया जहाँ पर वो बौद्ध भिक्षु बनकर अपनी आगे की शिक्षा पूरी करना चाहते थे।

एक बौद्ध भिक्षु बनने के बाद शिक्षा के साथ-साथ मिमी को अपने आप को बेहतर तरीके से जानने का मौका मिला और उसने महसूस किया की वो भले ही लड़का है पर उसकी आदतें और पसंद लड़कियों वाली है। तब उन्हें लगा की वो एक लड़की की तरह अपना जीवन जीने की इच्छा रखते है।

यहाँ से उनके जीवन में ऐसा परिवर्तन आया और वो पढाई पूरी करने के बाद खुद को एक लड़की के रूप ढालने में जुट गए। पहले उनके परिवार ने उनका विरोध किया पर वो नहीं रुके।

अपने आपको बदलने में मिमी को थाईलैंड की सुपरमॉडल Yui Phetkanha से काफी कुछ सीखने को मिला और उन्होंने मॉडलिंग की दुनिया में कदम रखा।

आज वो एक सफल और हॉट मॉडल के रूप में खुद को स्थापित कर चुके है। मिमी ने बताया की वो मॉडलिंग के जरिये अपने परिवार को सक्षम बनाना चाहते है लेकिन वो अपनी पूरी जिंदगी एक मॉडल के रूप में गुज़ारना नहीं चाहते मुमकिन है वो फिर एक बार अपने पुराने जीवन में लौट जाए।

आप इन तस्वीरों को देखकर अंदाजा भी नहीं लगा सकते की इस शख्स की असली पहचान कितनी अलग है। मिमी मानते है की लोगों को अपनी जिंदगी उस तरीके से जीनी चाहिए जैसी वो चाहते है। आज मिमी ट्रांसजेंडर्स के साथ-साथ अन्य लोगों के लिए एक प्रेरणा बन चुके है।