BREAKING NEWS

नकवी और आरसीपी सिंह ने केंद्रीय मंत्रिमंडल से दिया इस्तीफा ; स्मृति ईरानी बनीं अल्पसंख्यक कल्याण मंत्री, सिंधिया को मिला इस्पात मंत्रालय◾एकनाथ शिंदे ने शरद पवार से मुलाकात का किया खंडन ◾दक्षिणी राज्यों की चार दिग्गज हस्तियां राज्यसभा के लिये मनोनीत◾देवी काली विवाद : Twitter ने निर्देशक का Tweet हटाया, महुआ मोइत्रा के खिलाफ FIR दर्ज◾PM मोदी 12 जुलाई को देवघर में अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे, एम्स का करेंगे उद्घाटन ◾राष्ट्रपति ने नकवी और इस्पात मंत्री रामचंद्र प्रसाद सिंह के इस्तीफे को किया मंजूर◾Lalu Yadav Health : लालू को बेहतर उपचार के लिए दिल्ली के एम्स लाया जा रहा है - तेजस्वी ◾'भारत में रोजाना विमान संबंधी करीब 30 घटनाएं घटती हैं, अधिकतर में कोई सुरक्षा संबंधी परिणाम नहीं'◾ शिवसेना की टीम ठाकरे ने लोकसभा में बदला पार्टी का चीफ व्हिप, भावना गवली की जगह राजन विचारे हुए नामित◾COVID-19: कोविड-19 टीके की दूसरी एवं एहतियाती खुराक के बीच अंतराल घटाकर छह माह किया गया◾ Farooq Abdullah News: अपने घर रखना... 'हर घर तिरंगा' के सवाल पर फारूक अब्दुल्ला का अजीबों खरीब बयान◾Kerala resigns News: केरल के मंत्री साजी चेरियन ने मुख्यमंत्री को दिया अपना इस्तीफा, जानें- ऐसा क्यों किया? ◾ Rajasthan Politics: राजस्थान में चढ़ा सियासी पारा, अशोक गहलोत ने बताया क्यों कहते हैं सचिन पायलट को 'निकम्मा'◾LPG Price Hike: जनता के बजट पर महंगाई का बुलडोजर चला रही केंद्र....., कांग्रेस ने साधा BJP पर निशाना ◾Shiv Sena Crisis: शिंदे होंगे बाला साहेब के उत्तराधिकारी? बागी विधायक ने किया बड़ा दावा, जानें क्या कहा ◾ मुख्तार अब्बास नकवी और आरसीपी सिंह ने कैबिनेट पद से किया रिजाइन, PM मोदी से मुलाकात बाद लिया ये फैसला◾पीएम बोरिस जॉनसन की सरकार को जोरदार झटका! मंत्रियों ने छोड़े अपने पद, जानें- इसके पीछे की मिस्ट्री◾Umesh Kolhe murder case: अमरावती मर्डर का मास्टरमाइंड इरफान पहले भी जा चुका हैं जेल, रेप केस में हुई थी गिरफ्तार ◾Rajasthan: भाजपा की हिंदुत्व नीति ने लोगों को भड़काने का काम किया........., गहलोत का केंद्र सरकार पर तंज ◾Kaali Poster Row: काली पर टिप्पणी कर फंसी मोइत्रा, पार्टी ने छोड़ा साथ.. BJP कर रही गिरफ्तारी की मांग ◾

ये खास रिश्ता है शिरडी के साईं बाबा और दशहरा के बीच, जानिए इसके पीछे की यह मुख्य तीन कहानियां

मान्यता है कि जो भी भक्त सच्चे मन से शिरडी के साईं बाबा की पूजा-अर्चना करता है या पूरा दिन उसके मुख पर उनका नाम होता है तो बाबा उनकी हर मनचाही मुराद पूर्ण करते हैं। साथ ही खुशियों से उनकी झोली को भर देते हैं। साईं बाबा की पूजा का दिन गुरुवार का माना गया है। इस दिन भक्त बाबा को प्रसन्न करने के लिए और अपनी मनोकामनाएं पूरी करने के लिए व्रत करते हैं। 

किसी भी जाति या धर्म का इंसान शिरडी वाले साईं बाबा की पूजा कर सकता है। साईं बाबा अपने हर भक्त की प्रार्थना को सुनते हैं फिर चाहे वह किसी भी जाति या धर्म का क्यों न हो। मान्यता है कि एक चमत्कारिक संत साईं बाबा हैं। कहा जाता है कि झोली भरकर लौटता है उनकी समाधि पर कोई भी जाता है। लेकन क्या आप जानते हैं दशहरे या विजयादशमी से एक खास कनेक्‍शन शिरडी वाले साईं बाबा का है। चलिए आपको इसके पीछे की बातें आज हम बताते हैं। 

तात्या की मौत

मान्यताओं के अनुसार,साईं बाबा ने रामचन्द्र पाटिल नामक अपने भक्त को दशहरे से कुछ दिन पहले कहा था कि ‘तात्या’की मौत विजयादशमी पर बात कही थी। साईं बाबा की परम भक्त बैजाबाई थीं। तात्या उनकी का पुत्र था। साईं बाबा को ‘मामा’कहकर तात्या बोलते थे। यही कारण था कि तात्या को जीवनदान देने का निर्णय साईं बाबा को लिया था। 

रामविजय प्रकरण 

साईं बाबा को जब पता लगा कि जाने का समय अब आ गया है तो ‘रामविजय प्रकरण’ (श्री रामविजय कथासार)श्री वझे को सुनाने की आज्ञा उन्होंने दी थी। एक सप्ताह रोजाना पाठ श्री वझे ने सुनाया। उसके बाद आठों प्रहर पाठ करने की उन्हें बाबा ने आज्ञा दी। उस अध्याय का द्घितीय  आवृत्ति श्री वझे ने 3 दिन में पूरी कर दी और ऐसा 11 दिन इस प्रकार बीत गए। 

उसके बाद उन्होंने 3 दिन और पाठ किया। लगातार पाठ करके बिल्कुल ही श्री वझे को थकान हो गई थी इसलिए विश्राम करने के लिए उन्होंने आज्ञा मांगी। बिल्‍कुल अब शांत बाबा बैठ गए और वह अंतिम क्षण की आत्मस्थित की प्रतीक्षा करने लगे। 

समाधि ली साईं बाबा ने

1918 में 15 अक्टूबर दशहरे के दिन शिरडी में ही समाधि साईं बाबा ने ले ली थी। साईं बाबा के शरीर का तापमान 27 सितंबर 1918 को बढ़ना शुरु हो गया था। अन्न-जल सब कुछ ही उन्होंने त्याग दिया था। कुछ दिन पहले जब बाबा के समाधिस्त होने वाला था तब तात्या की तबीयत बहुत खराब हो रही थी। उसका जिंदा रहना भी मुश्किल हो गया था। मगर 15 अक्टूबर 1918 को साईं बाबा ने तात्या की जगह ब्रह्मलीन में अपने नश्वर शरीर का त्याग हो गए। विजयादशमी यानी दशहरा उस दिन था। 

इस लेख में जो जानकारी और सूचना हमने दी है वह सामान्य जानकारी पर ही आधारित है। इनकी पुष्टि punjabkesari.com नहीं करता है। अगर आप इन पर अमल कर रहे हैं तो संबंधित विशेषज्ञ से पहले आप संपर्क करके इस बात की पूरी पुष्टि कर लें।