पटना : बिहार के पथ निर्माण मंत्री नंदकिशोर यादव ने आज कहा कि केंद्र और राज्य की डबल इंजन सरकार के प्रयासों की बदौलत पटना, बिहिया और खगड़िया में बन रहे रोड ओवर ब्रिज (आरओबी) का निर्माण कार्य अगले दो माह में पूरा हो जाएगा। श्री यादव ने यहां कहा कि अगले दो माह में पटना, बिहिया और खगड़िया में बन रहे आरओबी का निर्माण कार्य पूरा हो जाएगा।

उन्होंने कहा कि इन आरओबी के बन जाने से आम जनता को न तो रेलवे क्रॉसिंग पर जाम की समस्या से जूझना पड़गा और न ही रेल की पटरी को पार करने की जहमत उठानी पड़ेगी। मंत्री ने बताया कि 332 करोड़ रुपये की लागत से तीनों आरओबी का निर्माण हो रहा है। उन्होंने बताया कि इन आरओबी के निर्माण में जहां बिहार सरकार ने 241 करोड़ रुपये का निवेश किया है। वहीं, रेल मंत्रालय ने 91 करोड़ आवंटित किया है।

श्री यादव ने बताया कि पूर्व मध्य रेलवे के पटना-मुगलसराय रेलखंड में बिहिया रेलवे स्टेशन के निकट 46 करोड़ रुपये के लागत से आरओबी का निर्माण इस माह के अंत तक पूरा हो जाने की उम्मीद है। इसके लिए रेल मंत्रालय ने 18 करोड़ रुपये दिया हैं जबकि राज्य सरकार का योगदान 28 करोड़ रुपये है। उन्होंने कहा कि इस आरओबी के बन जाने से ब्रिज के उत्तर में आरा-बक्सर रोड में शाहपुर चैरस्ता के जरिए जगदीशपुर की ओर जाना आसान हो जायेगा।

मंत्री ने बताया कि राजधानी पटना में पटना जक्शन-दानापुर मुख्य रेल मार्ग पर यारपुर में 188 करोड़ रुपये की लागत से बन रहे रोड ओबर ब्रिज का काम 31 मार्च 2018 तक पूरा हो जायेगा। इसके निर्माण कार्य के लिए राज्य सरकार ने 138 करोड़ रुपये का निवेश किया है जबकि रेलवे का आवंटन 50 करोड़ रुपये है।

उन्होंने बताया कि इसी तरह खगड़या में बरौनी-कटिहार रेलखंड के बीच 98 करोड़ रुपये की लागत से बन रहा पुल भी 31 मार्च 2018 तक तैयार हो जायेगा। इसके निर्माण के लिए रेल मंत्रालय ने जहां 23 करोड़ रुपया दिये हैं वहीं बिहार सरकार का आवंटन 75 करोड़ रुपया है।

श्री यादव ने बताया कि इनके अलावा राज्य के विभिन्न भागों में 47 आरओबी के निर्माण की सहमति रेल मंत्रालय ने दे दी है, जिसकी विस्तृत परियोजना रिपोर्ट (डीपीआर) तैयार करने की प्रक्रिया शुरू हो गयी है। उन्होंने कहा कि विकास की डबल इंजन सरकार की आलोचना करने वाले नेताओं की आंखें अब तो खुल ही जानी चाहिए।

अधिक जानकारियों के लिए बने रहिये पंजाब केसरी के साथ।