भारतीय रेल से जुड़े इतने रोचक तथ्य है जिनके बारे में जानना शुरू करें तो रोचकता बढ़ती ही जाएगी। कई ऐसे रहस्य है जो हमे बेहद आम लगते है पर इनके पीछे बेहद गहरा राज़ होता है। ये सवाल जब अक्सर हमारे सामने किसी परीक्षा या टेस्ट में आ जाते है तो हम चकित रह जाते है।

आपने रेलवे स्टेशनों के नाम तो सुने होंगे पर कुछ स्टेशनों के नाम ऐसे भी होते है जिनके मुख्य नाम के साथ Terminal, Junction, और Central जुड़ा होता है , जैसे मुंबई सेंट्रल , मथुरा जंक्शन , बांद्रा टर्मिनल। अगर आप सोचते है की इस अलग अलग नामकरण के पीछे कोई तथ्य नहीं है तो वो आप गलती कर रहे है। आईये आपको बताते है क्या है इस Terminal, Junction, और Central का ख़ास राज़।

टर्मिनल :किसी स्टेशन के नाम के End में Terminal तब लगता है जब उस Station पर ट्रेन जिस Direction से आयी है, उसी Direction में वह वापस चली जाती है। दूसरे शब्दों में कहे तो दूसरी Direction में रेलवे ट्रैक ख़त्म हो जाता है। इसलिए ट्रैन जिस दिशा से आती है वह उसी दिशा में वापस जाती है।

भारत में 27 Station ऐसे है जिनके एन्ड में टर्मिनल लगता है। उनमे से प्रमुख दो छत्रपति शिवाजी टर्मिनस (सीएसटी), लोकमान्य तिलक टर्मिनस (एलटीटी) है।

सेंट्रल :जिस Station के नाम के End में Central लगता है वह शहर का सबसे व्यस्त स्टेशन होता है। जिस शहर में एक से ज्यादा स्टेशन होते हैं, उनमे से जो सबसे पुराना और प्रमुख स्टेशन होता है उसके Name के End में Central लगता है।

भारत में 5 सेंट्रल स्टेशन हैं- मुंबई सेंट्रल (बीसीटी), चेन्नई सेंट्रल (एमएएस), त्रिवेंद्रम सेंट्रल (टीवीसी), मैंगलोर सेंट्रल (एमएक्यू), कानपुर सेंट्रल (सीएनबी)।

जंक्शन :अगर किसी स्टेशन में ट्रैन आने और जाने के लिए 3 से ज्यादा Routes होते हैं। तब उस स्टेशन के Name के End में junction लगता है। सरल भाषा में कहे जिस route पर train ने एंटर किया, उसके अलावा ट्रेन 2 अलग-अलग रूट से स्टेशन को छोड़ सकती है। जंक्शन के कुछ Examples हैं. कुछ उदाहरणों का जंक्शन मथुरा जंक्शन (7 मार्ग), (सेलम जंक्शन (6 मार्ग), विजयवाडा जंक्शन (5 मार्ग), बरेली जंक्शन (5 मार्ग)।

अधिक लेटेस्ट खबरों के लिए यहां क्लिक  करें।