मंदिर आस्था से तो जुड़े हुए ही है साथ ही कला का भी केंद्र होते है। आपने कई प्राचीन मंदिरों के बारे में सुना होगा जो अपनी कलात्मकता के लिए पूरी दुनिया में मशहूर है और हर धर्म सम्प्रदाय के लोग दुनिया भर से इनकी सुन्दरता देखने के लिए आते है। प्राचीन मंदिरों के अलावा आजकल जो मंदिर निर्माण किये जा रहे उनमे भी वास्तुकला के बेहतरीन नमूने देखने को मिलते है जो किसी का भी मन मोह लें।

अक्षरधाम मंदिर

आज हम एक ऐसे ही मंदिर के बारे में आपको बताने जा रहे हैं जो कि भारत के बाहर पहला सबसे बड़ा मंदिर है। अमेरिका के न्यूजर्सी का मंदिर भारत के बाहर पहला सबसे बड़ा मंदिर है। एरिया के लिहाज से इसे दुनिया का सबसे बड़ा हिंदू मंदिर कहा जाता है। मंदिर में लगे 13,499 पत्थरों भारत से न्यूजर्सी भेजा गया था।

अक्षरधाम मंदिर

इसका निर्माण बोचासनवासी अक्षर पुरषोत्तम स्वामीनारायण संस्था ने करवाया है। तकरीबन एक हजार करोड़ रुपए की लागत से बना ये अक्षरधाम मंदिर क्षेत्रफल के हिसाब से (162 एकड़) विश्व का सबसे बड़ा हिंदू मंदिर है।

swami narayan mandir , new jersey

यह मंदिर 134 फुट लंबा और 87 फुट चौड़ा है। इसमें 108 खंभे और तीन गर्भगृह हैं। इस मंदिर को शिल्पशास्त्र के मुताबिक बनाया गया है। इस मंदिर में 68 हजार क्यूबिक फीट इटालियन करारा मार्बल का इस्तेमाल हुआ है। मंदिर की आर्टिस्टिक डिजाइन के लिए 13,499 पत्थरों का इस्तेमाल किया गया है।

swami narayan mandir , new jersey

पत्थरों पर नक्काशी का पूरा काम भारत में ही करवाया गया है। नक्काशी का काम पूरा हो जाने के बाद इन्हें समुद्री रास्ते से न्यूजर्सी पहुंचाया गया था। वहीं, भारत में सबसे बड़ा हिन्दू मंदिर तमिलनाडु के श्रीरंगम में 156 एकड़ के एरिया में बना है, जिसका नाम श्री रंगनाथ स्वामी मंदिर है।

swami narayan mandir , new jersey

अक्षरधाम मंदिर अमेरिका के कई शहरों में बने हैं। एटलांटा, ह्यूस्टन, शिकागो, लॉस एंजिलिस सहित कनाडा के टोरंटो में भी मंदिर हैं।

swami narayan mandir , new jersey

इन्हें बनाने वाली मूल संस्था बीएपीएस द्वारा गांधी नगर गुजरात और दिल्ली के यमुना तट पर बने मंदिर बहुत विशाल हैं। गांधीनगर का मंदिर 23 एकड़ जबकि दिल्ली का 60 एकड़ में बना है।

भारत के प्रसिद्ध गुरुद्वारा साहिब, जो बेहद दर्शनीय और दुनियाभर में मशहूर है !