कोटद्वार: उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के परिवार को उत्तराखंड सरकार ने वाई श्रेणी की सुरक्षा प्रदान कर दी है। शासन के आदेश मिलते ही पौड़ी पुलिस की सुरक्षा टीम ने गांव में डेरा डाल दिया है। इससे पूर्व उनके परिवार खासकर माता-पिता की सुरक्षा के लिए सुरक्षा गार्ड मुहैया करवाए गए थे। माता-पिता को गांव से बाहर जाने के लिए दो सुरक्षा गार्ड भी मुहैया करवाए गए हैं। यूपी के सीएम बनते ही यमकेश्वर विकासखंड का पंचूर गांव भी वीआईपी गांवों में शुमार हो गया है। सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि विषम भौगोलिक परिस्थितियों के बावजूद योगी के परिजनों ने अपना पैतृक गांव नहीं छोड़ा। रेंज अधिकारी के पद से सेवानिवृत्त योगी के अस्सी वर्षीय पिता आनंद सिंह बिष्ट अपने पूरे परिवार के साथ गांव में ही रहते हैं।

योगी के सीएम बनते ही पौड़ी के एसएसपी मोहसिन मुख्तार ने परिवार की सुरक्षा के लिए अपनी ओर से सुरक्षा गई तैनात करते हुए शासन को वाई श्रेणी सुरक्षा का प्रस्ताव भेजा था। शासन की ओर से योगी के परिवार को वाई श्रेणी की सुरक्षा की मंजूरी मिल गई है। शासन से मंजूरी मिलते ही योगी के पैतृक गांव पंचूर में श्रेणी के हिसाब से सुरक्षा प्रदान कर दी गई है। यमकेश्वर के बिथ्याणी में योगी के परिजन गोरखपुर गोरक्षापीठ ट्रस्ट द्वारा खोले गए गुरू गोरखनाथ महाविद्यालय को संचालित कर रहे हैं।