BREAKING NEWS

विदेश सचिव श्रृंगला ने अफगानिस्तान मामलों के यूरोपीय संघ के विशेष दूत से मुलाकात की◾ममता के बयान पर वेणुगोपाल का पलटवार, बोले- यह महज एक सपना है..कि कांग्रेस के बिना BJP को हरा सकते है◾मुंबई हवाई अड्डे पर पहुंचने वाले घरेलू यात्रियों को RTPCR की निगेटिव रिपोर्ट लेकर आना अनिवार्य : BMC ◾PM मोदी के कुशल नेतृत्व के चलते भारत आज वैश्विक अर्थव्यवस्था में एक ‘‘ब्राइट स्पॉट’’ के रूप में उभर रहा है: BJP◾पंजाब इलेक्शन से पहले SAD को लगा झटका, मनजिंदर सिंह सिरसा ने थामा BJP का कमल◾केजरीवाल के पेट्रोल की कीमतों पर देर से लिए फैसले से दिल्ली वासियों को करोड़ों रुपये का नुकसान हुआ : मनोज तिवारी◾कृषि कानूनों के खिलाफ आंदोलन कर रहे किसानों की सुरक्षा पर केंद्र ने झाड़ा पल्ला, कहा- इसकी जिम्मेदारी राज्य सरकारों की◾प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के जागरूकता मिशन की शुरुआत करेंगे ‘गोल्डन ब्वाय’ नीरज चोपड़ा ◾'ओमिक्रोन' के चलते सरकार ने पीछे खींचे अपने कदम, 15 दिसंबर से शुरू नहीं होंगी अंतर्राष्ट्रीय उड़ानें◾सरकार ने राज्यसभा में बताया- देश में नक्सली हिंसा की घटनाओं में 70 फीसदी की आई कमी ◾किसानों की मौत के 'जीरो' रिकॉर्ड पर भड़की कांग्रेस, खड़गे बोले-यह किसानों का अपमान◾जम्मू-कश्मीर में आतंकी घटनाओं में आई बड़ी गिरावट, सरकार ने राज्यसभा में बताया पिछले एक साल में इतने जवान हुए शहीद ◾UP चुनाव : BJP ने खेला धार्मिक कार्ड, केशव मौर्य का नारा 'अयोध्या-काशी.... जारी, अब मथुरा की तैयारी' ◾अखिलेश का BJP पर कटाक्ष, बोले- जिनके पास परिवार नहीं है, वे जनता का दर्द नहीं समझ सकते ◾दिल्ली में 8 रुपए सस्ता हुआ पेट्रोल, केजरीवाल सरकार ने VAT में कटौती का किया ऐलान◾SKM का दावा '700 से ज्यादा किसानों ने गंवाई जान', तोमर बोले- सरकार के पास मौतों का कोई रिकॉर्ड नहीं...◾4 दिसंबर को होगी SKM की अहम बैठक, रणनीति को लेकर होगी बड़ी घोषणा, टिकैत बोले- आंदोलन रहेगा जारी ◾मप्र में शिवराज सरकार के लिए मुसीबत का सबब बने भाजपा के नेताओं के विवादित बयान ◾निलंबन के खिलाफ महात्मा गांधी की प्रतिमा के सामने विपक्ष का प्रदर्शन, राहुल समेत कई नेता हुए शामिल ◾EWS वर्ग की आय सीमा मापदंड पर केंद्र करेगी पुनर्विचार, SC की फटकार के बाद किया समिति का गठन ◾

मॉर्गन से हुए झगड़े पर आर अश्विन का दो-टूक जवाब, आलोचना करने वालों की भी लगाई क्लास

दिल्ली कैपिटल्स के स्पिनर रविचंद्रन अश्विन और कोलकाता नाइट राइडर्स  के कप्तान ओईन मोर्गन के बीच हाल ही में कुछ कहा सुनी देखने को मिली। जिसके बाद अश्विन ने इस मामले पर चुप्पी तोड़ते हुए उन सभी लोगों पर निशाना साधा है, जिन्होंने उनकी खेल भावना पर सवाल खड़ा किया था।

दरअसल मंगलवार को केकेआर के खिलाफ  मैच के दौरान एक ओवर में ओवर थ्रो पर अश्विन ने एक रन चुरा लिया था, जिसके बाद इस पर बवाल मच गया। मामला यही शांत नहीं हुआ और मोर्गन ने सोशल मीडिया पर अश्विन पर निशाना साधा। जिसके बाद अब अश्विन ने केकेआर के कप्तान के सभी सवालों का सामने आकर मुंहतोड़ जवाब दिया है।

आईपीएल 2021 के 41वें मैच के दौरान दिल्ली की बल्लेबाजी के 19वें ओवर की एक गेंद पर राहुल त्रिपाठी ने थ्रो फेंका और वे पंत के शरीर पर लगने के बाद गेंद अगर छिटक कर चली गई। तब नॉन स्ट्राइकर एंड पर खड़े रविचंद्रन अश्विन ने एक एक्सट्रा रन लेने की कोशिश की। लेकिन केकेआर के खिलाड़ियों को यह कुछ ठीक नहीं लगा और उन्होंने इसको खेल भावना के खिलाफ बता दिया। 

हालांकि अश्विन का कहना है कि 19वें ओवर में घटे इस किस्से में रन लेना उनका अधिकार था। इस ओवर थ्रो के चलते कोलकाता के खेमे से टीम साउदी और इयोन मॉर्गन व दिल्ली के अश्विन के बीच कहासुनी भी हुई और अश्विन ने बताया कि मॉर्गन ने उन्हें डिसग्रेस बुलाकर उनका अपमान किया।

अश्विन ने ट्विटर पर घटनाक्रम का विवरण दिया और कहा कि मॉर्गन और साउदी दोनों को इस पर भाषण देने का कोई अधिकार नहीं है।

अश्विन ने लिखा...

1. मैं फील्डर के थ्रो करने पर ही दौड़ पड़ा था और मुझे यह नहीं पता था कि गेंद ऋषभ के शरीर पर लगी है।

2. अगर मुझे यह दिख भी जाए तो क्या मैं भागूंगा? जी हां और यह मेरा अधिकार है।

3. क्या मॉर्गन का मुझे डिसग्रेस बुलाकर अपमान करना उचित था? बिलकुल नहीं।

अश्विन ने तथाकथित स्पिरिट ऑफ द गेम (खेल भावना) के अलग-अलग मापदंडों पर भी अपनी राय रखते हुए कहा, इस खेल में लाखों युवक और युवतियां अपने अंदाज में खेलते हुए अपने करियर को संवारने की कोशिश करते हैं। उन्हें सिखाइए कि एक गलत थ्रो पर रन चुराने से आप अपना करियर बना सकते हैं और नॉन स्ट्राइकर छोर पर बाहर खड़े रहने से आपके करियर को नुकसान हो सकता है। आप उन्हें ऐसा कहकर भ्रमित मत कीजिए कि ऐसी परिस्थितियों में रन ना लेने से या खिलाड़ी को चेतावनी देने से आप अच्छे इंसान बन जाते हैं। 

यह हिदायत वही देते हैं जो खेल से पेट पाल चुके हैं और सफलता प्राप्त कर चुके हैं। आप मैदान पर डटकर मुकाबला करिए और मैच खत्म होने पर हाथ मिला लीजिए। 'स्पिरिट ऑफ द गेम' की परिभाषा मेरे लिए यही है।

अश्विन ने नॉन स्ट्राइकर को क्रीज के बाहर रहने पर रन आउट करके पहले भी क्रिकेट जगत में सोच के ध्रुवीकरण में योगदान दिया है। यह भी क्रिकेट के नियमों के अनुसार जायज है लेकिन आमतौर पर दिखाई नहीं देती। 2011 में आईसीसी ने एक नए नियम के तहत इस आउट करने के तरीके को और आसान बना दिया था लेकिन अश्विन की फिर भी कड़ी आलोचना हुई थी।