BREAKING NEWS

शरद पवार ने NCP छोड़ने वाले नेताओं को बताया ‘कायर’◾जम्मू कश्मीर का विशेष दर्जा समाप्त करना भाजपा की राष्ट्रीय प्रतिबद्धता थी : नड्डा ◾आजाद ने अपने गृह राज्य जाने की अनुमति के लिए उच्चतम न्यायालय का किया रुख◾सिद्धारमैया ने बाढ़ राहत को लेकर केन्द्र कर्नाटक सरकार की आलोचना की◾बेरोजगारी पर बोले श्रम मंत्री-उत्तर भारत में योग्य लोगों की कमी, विपक्ष ने किया पलटवार ◾INLD के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष अशोक अरोड़ा और निर्दलीय विधायक कांग्रेस में हुये शामिल ◾PAK ने इस साल 2,050 से अधिक बार किया संघर्षविराम उल्लंघन, 21 भारतीयों की मौत : विदेश मंत्रालय ◾PM मोदी,वेंकैया,शाह ने आंध्र नौका हादसे पर जताया शोक◾पासवान ने किया शाह के हिंदी पर बयान का समर्थन◾न्यायालय में सोमवार को होगी अनुच्छेद 370 को खत्म करने, कश्मीर में पाबंदियों के खिलाफ याचिकाओं पर सुनवाई◾TOP 20 NEWS 15 September : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾आंध्र प्रदेश के गोदावरी में बड़ा हादसा : नाव पलटने से 13 लोगों की मौत, कई लापता◾संतोष गंगवार ने कहा- नौकरी के लिये योग्य युवाओं की कमी, मायावती ने किया पलटवार ◾पाकिस्तान ने इस साल 2050 बार किया संघर्षविराम उल्लंघन, मारे गए 21 भारतीय◾संतोष गंगवार के 'नौकरी' वाले बयान पर प्रियंका का पलटवार, बोलीं- ये नहीं चलेगा◾CM विजयन ने हिंदी भाषा पर बयान को लेकर की अमित शाह की आलोचना, दिया ये बयान◾महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव में 'अप्रत्याशित जीत' हासिल करने के लिए तैयार है BJP : फडणवीस◾ देश में रोजगार की कमी नहीं बल्कि उत्तर भारतीयों में है योग्यता की कमी : संतोष गंगवार ◾ममता बनर्जी पर हमलावर हुए BJP विधायक सुरेंद्र सिंह, बोले- होगा चिदंबरम जैसा हश्र◾International Day of Democracy: ममता का मोदी सरकार पर वार, आज के दौर को बताया 'सुपर इमरजेंसी'◾

खेल

आंद्रिस्कू ने जीता अमेरिकी ओपन

न्यूयार्क : युवा बियांका आंद्रिस्कू कनाडा की पहली ग्रैंडस्लैम चैम्पियन बन गई जिसने 23 बार की ग्रैंडस्लैम विजेता सेरेना विलियम्स को 6-3, 7-5 से हराकर अमेरिकी ओपन महिला एकल खिताब जीता। उन्नीस बरस की आंद्रिस्कू पिछले 15 साल में सबसे युवा ग्रैंडस्लैम चैम्पियन भी बनी। इससे पहले अमेरिकी ओपन 2004 में स्वेतलाना कुजनेत्सोवा ने खिताब जीता था। सेरेना की किसी ग्रैंडस्लैम फाइनल में लगातार चौथी हार है जिससे रिकार्ड की बराबरी वाले 24वें ग्रैंडस्लैम का उनका इंतजार और लंबा हो गया। 

आंद्रिस्कू ने कहा कि मैं शब्दों में बयां नहीं कर सकती कि कैसा महसूस कर रही हूं। मैने इस पल के लिये बहुत मेहनत की है। इस सत्र में आंद्रिस्कू का शीर्ष 10 रैंकिंग वाले खिलाड़ियों के खिलाफ रिकार्ड 8-0 का था। इस जीत के बाद वह रैंकिंग में पांचवें स्थान पर पहुंच जायेगी। आंद्रिस्कू ने मोनिका सेलेस की भी बराबरी कर ली जिन्होंने 1990 में चौथा ग्रैंडस्लैम खेलते हुए ही खिताब जीत लिया था। 

सेरेना की अमेरिकी ओपन फाइनल में लगातार दूसरी हार है। उन्होंने कहा कि बियांका ने अद्भुत खेल दिखाया। मुझे उस पर गर्व है। यदि वीनस के अलावा किसी और के जीतने पर मुझे खुशी होती तो वह बियांका है। सेरेना ने 1999 में पहला ग्रैंडस्लैम जीता था तब आंद्रिस्कू पैदा भी नहीं हुई थी। वह पिछले दो साल में फ्लशिंग मीडोस पर मुख्य ड्रा में भी जगह नहीं बना सकी थी।

नाकामियों के बावजूद सपने पूरे करने का हौसला बनाये रखा 

एक बरस पहले लगातार मिली नाकामियों और चोट के कारण विश्व रैंकिंग में शीर्ष 200 के बाहर हो चुकी बियांका आंद्रिस्कू को यकीन था कि एक दिन उसके सपने जरूर पूरे होंगे और सेरेना विलियम्स जैसी धुरंधर को हराकर अमेरिकी ओपन खिताब जीतकर वह युवा खिलाड़ियों के लिये नज़ीर बन गई है। पिछले साल इस सतय आंद्रिस्कू अमेरिकी ओपन के मुख्य ड्रा में जगह नहीं बना पाने के बाद चोटिल होकर घर बैठी थी। 

यहां 23 बार की चैम्पियन सेरेना को हराकर खिताब जीतने के बाद उन्होंने कहा कि यह जीवन की प्रक्रिया है। हमेशा वक्त अच्छा या बुरा नहीं रहता। आपको अपने सपने पूरे करने के लिये मेहनत करते रहनी होती है। एक दिन बिगड़ी किस्मत संवर ही जाती है। कनाडा की पहली ग्रैंडस्लैम एकल चैम्पियन 19 बरस की आंद्रिस्कू ने कहा कि यह पहली बार नहीं था जब मैने सेरेना विलियम्स के खिलाफ फाइनल खेलने की कल्पना की होगी। यह अद्भुत है। 

यह लंबे समय से मेरा सपना था और मुझे यकीन था कि यह पूरा होगा। उन्होंने कहा कि यह मेरा लक्ष्य था कि कनाडा के खिलाड़ियों के लिये प्रेरणा बनूं। उम्मीद है कि अब ऐसा होगा। यदि मैं जीत सकती हूं, रोजर फेडरर जीत सकते हैं, सेरेना जीत सकती है, स्टीव नैश (दो बार एनबीए के सबसे कीमती खिलाड़ी) जीत सकते हैं तो कोई भी जीत सकता है।