नई दिल्ली : मर्सिडीज टीम के ब्रिटिश चालक लुइस हेमिल्टन ने रविवार को शंघाई इंटरनेशनल सर्किट पर आयोजित चाइनीज ग्रां प्री रेस जीतकर अपना नाम इस खेल के इतिहास में अमर कर लिया। यह एफ-1 विश्व चैम्पियनशिप इतिहास की 1000वीं रेस थी। हेमिल्टन ने 900वीं रेस भी जीती थी और वह अब तक मौजूदा चालकों में सबसे अधिक 75 बार पहला स्थान हासिल कर चुके हैं।

एफ-1 इतिहास में ब्रिटिश चालकों का बोलबाला रहा है। 1000 में से 279 बार ब्रिटेन के चालकों ने रेस में पहला स्थान हासिल किया है। इनमें 75 जीत के साथ हेमिल्टन सबसे आगे हैं। वैसे एफ-1 इतिहास में सबसे अधिक जीत का रिकार्ड जर्मनी के चालक माइकल शूमाकर के नाम है। शूमाकर ने कुल 91 रेस जीती है। जर्मन चालक 178 बार पहला स्थान हासिल करने में सफल रहे हैं।

ब्रिटिश चालकों की बात करें तो हेमिल्टन के बाद निगेल मैंशेल ने 31, जैकी स्टीवार्ट ने 27, जिम क्लार्क ने 25, डेमन हिल ने 22, स्टर्लिग मॉस ने 16, जेनसन बटन ने 15, ग्राहम हिल ने 14, डेविड कोर्टलैंड ने 13, जेम्स हंट ने 10, टोनी ब्रूक्स ने 6, जॉन सर्टीस ने 6, जॉन वॉटसन ने 5, एडी इर्विन ने 4, माइक हॉथॉर्न ने 3, पीटर कोलिंस ने 3, जॉनी हर्बर्ट ने तीन, इनेस आयरलैंड और पीटर गेटहिन ने एक-एक रेस जीती है।

चालक के लिहाज से सबसे अधिक जीत का रिकार्ड शूमाकर के नाम रहा है, जो 1991 से 2006 और 2010 से 2012 तक सक्रिय रहे। चाइनीज ग्रां प्री शूमाकर की अंतिम रेस थी। इसके बाद हेमिल्टन (75), विटेल (52), एलेन प्रॉस्ट (51) का स्थान आता है।