भारत और न्यूजीलैंड के बीच बीती रविवार को टी20 सीरीज का दूसरा मैच खेला गया जिसे भारत ने 4 रनों से गंवा दिया। न्यूजीलैंड ने भारत को टी20 सीरीज में 2-1 से करारी हार दे दी और सीरीज अपने नाम कर ली। इस मैच में क्रुणाल पांड्या और दिनेश कार्तिक ने अपने आक्रमक पारी खेलते हुए टीम को जीत की दहलीज तक तो पहुंचाया लेकिन मैच नहीं जीता पाए। भारत की इस हार के सीधा जिम्मेदार दिनेश कार्तिक को बनाया जा रहा है।

दरअसल आखिरी ओवर न्यूजीलैंड के तेज गेंदबाज टिम साउदी डाल रहे थे और उस ओवर की तीसरी गेंद पर दिनेश कार्तिक ने सिंगल नहीं लिया था अगर वह उस गेंद पर सिंगल ले लेते तो मैच का परिणाम कुछ और होता। दिनेश कार्तिक के सिंगल ना लेने पर हर कोई सवाल उठा रहा है। इसी के साथ भारतीय टीम के गेंदबाज हरभजन सिंह ने भी आखिरी ओवर में दिनेश कार्तिक द्वारा सिंगल ना लेने पर सवाल उठाए हैं।

आखिरी क्यों नहीं लिया दिनेश कार्तिक ने सिंगल

बता दें कि मैच के आखिरी ओवर की तीसरी गेंद पर दिनेश कार्तिक ने शॉट लगाया था और दूसरे छोर पर खड़े पांड्या रन लेने के लिए भागे भी थे यहां तक की वह दिनेश कार्तिक की तरफ आ गए थे लेनिक पांड्या को कार्तिक ने वापस उनके छोर पर भेज दिया और अगला स्ट्राइक भी अपने पास रखा।

तीसरी गेंद पर भारत को जीतने के लिए सिर्फ 14 रनों की जरूरत थी। मैच के इस नाजुक मोड़ पर हर एक रन की बहुत कीमत होती है लेकिन कार्तिक के सिंगल ना लेने पर बहुत सवाल उठ रहे हैं। क्रुणाल पांड्या ने साउदी के पिछले ओवर में बहुत रन बनाए थे और वह जानते थे कि ऐसी स्थिति में टीम को कैसे जीताया जाता है। लेकिन कार्तिक के रन ना लेने की वजह से कोई ठोस वजह भी नजर नहीं आ रही है।

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि आखिरी समय में सिंगल लेना धोनी ने मना किया था वह हमेशा ही आखिरी ओवर में चौका या छक्का लगाकर टीम को मैच जीताते हैं। धोनी ने साल 2013 में श्रीलंका में ट्राई सीरीज के फाइनल मैच में वेस्टइंडीज के खिलाफ आखिरी ओवर में सिंगल नहीं लिया था और बाद में छक्का लगाकर टीम को मैच जीताया था। उस मैच में धोनी टीम के 10वें और 11वें नंबर के बल्लेबाजों के साथ बल्लेबाजी कर रहे थे जिसकी वजह से उनका स्ट्राइक पर होना बहुत जरूरी था।

हरभजन सिंह ने उठाए कार्तिक के फैसले पर सवाल

दिनेश कार्तिक के सिंगल ना लेने के फैसले पर क्रिकेट हरभजन सिंह ने कहा है, धोनी को अगर पता हो कि दूसरा बल्लेबाज लंबे शॉट्स लगा सकता है तो वह रन लेने से कभी मना नहीं करते हैं। फिनिशर का काम विनिंग शॉट लगाना नहीं, पार्टनर के साथ मिलकर टीम की नैया पार लगाना होता है। कार्तिक का रविवार के मैच में रन नहीं लेने का निर्णय तर्कों के विरुद्ध है। अगर भुवनेश्वर कुमार भी दूसरी छोर पर होते तो मुझे समझ में आता, लेकिन क्रुणाल वहां थे। मुझे पता नहीं कि कार्तिक के दिमाग में क्या चल रहा था।

हरभजन सिंह ने कहा कि फिनिशन के टैग को कार्तिक को ज्यादा गंभीरता से नहीं लेना चाहिए। हरभजन सिंह ने कहा, मुझे भरोसा है कि टीम मैनेजमेंट उनसे पूछेगा कि उन्होंने वो सिंगल लेने से क्यों मना किया। क्षण भर के फैसलों से मैच का पासा पलट सकता है और कार्तिक जैैसे अनुभवी खिलाड़ी को यह पता है।

यहां पढें ये ट्वीट

यहां पढें ये ट्वीट

क्रिकेट फैन्स ने जमकर ट्रोल किया कार्तिक को

1.

 

 

2.

3.

4.

5.

6.

7.

8.

9.

10.

11.

Ind vs NZ 3rd T20I : न्यूजीलैंड ने भारत को 4 रनों से दी शिकस्त और 2-1 से जीती सीरीज