BREAKING NEWS

खुले में नमाज पढ़ने के विरोध में उतरी भीड़, लोगों ने भजन-कीर्तन करते हुए दर्ज कराई आपत्ति◾यूपी विधानसभा चुनाव : जयंत चौधरी बोले- सपा के साथ गठबंधन को लेकर बातचीत चल रही है◾अखिलेश का भाजपा पर हमला, बोले- उन्हें सिर्फ 'जीभ चलाना' और 'जीप चढ़ाना' ही आता है ◾अब बिना आधार कार्ड वालों को भी लगेगी कोरोना की वैक्सीन, CM नीतीश ने दिए निर्देश◾ कश्मीर में आतंकियों का खूनी खेल जारी, कायर आतंकियों ने अब गोलगप्पे वाले की ली जान ◾PM मोदी 25 अक्टूबर को सिद्धार्थनगर में सात मेडिकल कालेजों का उद्घाटन करेंगे: CM योगी◾तमाम सियासी अटकलों को खारिज करते हुए तेजस्वी ने कहा- लालू बिहार आने को इच्छुक, लेकिन स्वास्थ्य नहीं दे रहा साथ◾लंबे समय बाद करीब पांच घंटे चली CWC मीटिंग, अगले साल चुना जा सकता है कांग्रेस अध्यक्ष◾लखीमपुर में मगरमच्छी आंसू बहा रहे थे भाई-बहन, क्या छत्तीसगढ़ ले जाएंगे मुंगेरी लाल के हसीन सपनों का रथ : BJP ◾अध्यक्ष बनने की मांग पर राहुल गांधी का जवाब- दबाव बनाया गया तो पुन: बन सकता हूं कांग्रेस प्रमुख ◾कांग्रेस वर्किंग कमेटी कम और 'परिवार बचाओ वर्किंग' कमेटी ज्यादा लगती है CWC की बैठक : BJP◾श्रीनगर के 5 में से 3 आतंकवादियों को हमने 24 घंटे से भी कम समय में ढेर कर दिया है: IGP विजय कुमार◾ अंडमान-निकोबार: अमित शाह ने कहा-यहां की हवाओं में हैं सावरकर और बोस, उनके साथ अन्याय हुआ◾राम वियोग में 'दशरथ' ने मंच पर ही त्याग दिए प्राण, रामलीला मंचन के दौरान हार्ट अटैक से कलाकार की मौत◾पुलवामा मुठभेड़ में ढेर हुआ लश्कर का खूंखार कमांडर उमर मुश्ताक, दो पुलिसकर्मियों की हत्या में था शामिल◾कांग्रेस केंद्रीय नेतृत्व को निशाने पर लेते हुए बोले CM शिवराज- ‘सर्कस’ जैसी हो गई है पार्टी की स्थिति◾कौन है Fletcher Patel? नवाब मलिक ने ट्वीट कर NCB से पूछे कई सवाल◾सिंघु बॉर्डर हत्या मामला पहुंचा सुप्रीम कोर्ट के दरबार में, आंदोलनकारी प्रदर्शन की आड़ में कानून की खुलेआम धज्जियां उड़ा रहे ◾UN का दावा- लड़कियों को स्कूलों में पढ़ाई की इजाजत पर जल्द घोषणा करेगा तालिबान◾जशपुर हादसा : मृतक गौरव अग्रवाल के परिजनों को 50 लाख का मुआवजा देगी छत्तीसगढ़ सरकार◾

एकेडमी में ट्रेनिंग के लिए युवा क्रिकेटर शेफाली वर्मा ने 'लड़का' बनकर लिया था दाखिला, खेली 46 रनों की ताबतोड़ पारी

साउथ अफ्रीका के खिलाफ टी20 मैच में भारतीय महिला क्रिकेट टीम की युवा खिलाड़ी शेफाली वर्मा ने 46 रनों की पारी खेलकर सबको प्रभावित कर दिया है। अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में शेफाली वर्मा ने 15 साल की उम्र में डेब्यू करके सबसे महिला युवा खिलाड़ी बन गई हैं। 

साउथ अफ्रीका और भारत के बीच में टी20 सीरीज का दूसरा मैच सूरत में खेला गया और इस मैच में उन्होंने 46 रनों की ताबड़तोड़ पारी खेली। इस सीरीज के दूसरे मैच में शून्य पर शेफाली आउट हो गईं थीं इसके बाद वह निराश नहीं हुई और दूसरे मैच में अपनी जबरदस्त पारी से सबका ध्यान खींच लिया। 

हरियाणा के रोहतक की शेफाली रहने वाली हैं। क्रिकेट का सफर शेफाली के लिए बहुत कठिन था। लड़कियों के लिए रोहतक में कोई क्रिकेट एकेडमी नहीं है जिसकी वजह से शेफाली ने लड़का बनकर क्रिकेट खेलना शुरु किया। 

मिन्नतें करने के बाद भी कोई नहीं माना

एक रिपोर्ट के मुताबिक, संजीव वर्मा शेफाली के पिता जब वह क्रिकेट एकेडमी दाखिला करवाने गए तो वहां मना कर दिया गया कि शेफाली लड़की है इसलिए इसे हम दाखिला नहीं देंगे। 

संजीव वर्मा ने कहा कि एकेडमी में दाखिला करवाने के लिए हमें कई मिन्नतें की थी लेकिन उन्होंने नहीं किया। उसके बाद उन्होंने फैसला किया कि शेफाली को दाखिला करवाना है तो उसे लड़का बनाना पड़ेगा जिसके लिए शेफाली के बाल उन्होंने लड़कों की तरह रखने शुरु कर दिए। उसके बाद क्रिकेट एकेडमी में शेफाली को दाखिला दे दिया गया। 

ज्वैलरी की दुकान है पिता की

रोहतक में एक छोटी सी ज्वैलरी की दुकान शेफाली के पिता की है। शेफाली ने कहा कि लड़कों के साथ क्रिकेट खेलना बिल्कुल भी आसान नहीं था। कई बार तो शेफाली के हेलमेट पर गेंद लग जाती थी। इतना ही नहीं हेलमेट की जाली कई बार टूटी भी है। इन सब परेशानियों के बाद भी शेफाली ने हार नहीं मानी और वह खेलती रहीं। 

सचिन तेंदुलकर हरियाणा के लाहली में साल 2013 में अपना अंतिम रणजी ट्रॉफी मैच खेले गए थे। उस मैच को स्टेडियम देखने शेफाली अपने पिता के साथ गई थीं। सचिन को क्रिकेट खेलते हुए देखकर शेफाली बहुत प्रेरित हुई थी। दिग्गज क्रिकेटर मिताली राज और डेनियल वेट शेफाली के शानदार प्रदर्शन की मुरीद हैं। 

ताने मारते थे पड़ोसी

शेफाली ने घरेलू क्रिकेट में शानदार प्रदर्शन करते हुए 1923 रन बनाए हैं। घरेलू क्रिकेट में शेफाली ने 6 शतक और 3 अर्धशतक जड़े हैं। शेफाली 10वीं कक्षा में हैं। शेफाली की ही तरह क्रिकेट सीख रही है उनकी छोटी बहन। 

शेफाली के पिता ने कहा कि पड़ोसी शुरुआत में ताने मारते थे और कहते थे कि क्रिकेट में कोई भविष्य नहीं है लड़कियों का लेकिन महिला आईपीएल में जब शेफाली ने खेलना शुरु किया ताे सबकी बोलती बंद हो गई।