BREAKING NEWS

लॉकडाउन के बीच, आज से पटरी पर दौड़ेंगी 200 नॉन एसी ट्रेनें, पहले दिन 1.45 लाख से ज्यादा यात्री करेंगे सफर ◾तनाव के बीच लद्दाख सीमा पर चीन ने भारी सैन्य उपकरण - तोप किये तैनात, भारत ने भी बढ़ाई सेना ◾जासूसी के आरोप में पाक उच्चायोग के दो अफसर गिरफ्तार, 24 घंटे के अंदर देश छोड़ने का आदेश ◾महाराष्ट्र में कोरोना का कहर जारी, आज सामने आए 2,487 नए मामले, संक्रमितों का आंकड़ा 67 हजार के पार ◾दिल्ली से नोएडा-गाजियाबाद जाने पर जारी रहेगी पाबंदी, बॉर्डर सील करने के आदेश लागू रहेंगे◾महाराष्ट्र सरकार का ‘मिशन बिगिन अगेन’, जानिये नए लॉकडाउन में कहां मिली राहत और क्या रहेगा बंद ◾Covid-19 : दिल्ली में पिछले 24 घंटे में 1295 मामलों की पुष्टि, संक्रमितों का आंकड़ा 20 हजार के करीब ◾वीडियो कन्फ्रेंसिंग के जरिये मंगलवार को पीएम नरेंद्र मोदी उद्योग जगत को देंगे वृद्धि की राह का मंत्र◾UP अनलॉक-1 : योगी सरकार ने जारी की गाइडलाइन, खुलेंगें सैलून और पार्लर, साप्ताहिक बाजारों को भी अनुमति◾श्रमिक स्पेशल ट्रेनों में 80 मजदूरों की मौत पर बोलीं प्रियंका-शुरू से की गई उपेक्षा◾कपिल सिब्बल का प्रधानमंत्री पर वार, कहा-PM Cares Fund से प्रवासी मजदूरों को कितने रुपए दिए बताएं◾कोरोना संकट : दिल्ली सरकार ने राजस्व की कमी के कारण केंद्र से मांगी 5000 करोड़ रुपए की मदद ◾मन की बात में PM मोदी ने योग के महत्व का किया जिक्र, बोले- भारत की इस धरोहर को आशा से देख रहा है विश्व◾'मन की बात' में PM मोदी ने देशवासियों की सेवाशक्ति को कोरोना जंग में बताया सबसे बड़ी ताकत◾तमिलनाडु सरकार ने 30 जून तक बढ़ाया लॉकडाउन, सार्वजनिक परिवहन की आंशिक बहाली की दी अनुमति ◾कोविड-19 : देश में संक्रमितों का आंकड़ा 1 लाख 82 हजार के पार, महामारी से 5164 लोगों ने गंवाई जान ◾विश्व में कोरोना मरीजों का बढ़ोतरी का सिलसिला जारी, संक्रमितों का आंकड़ा 60 लाख के पार◾महाराष्ट्र में लॉकडाउन बढ़ाए जाने के बाद शरद पवार ने CM उद्धव ठाकरे से की मुलाकात ◾दिल्ली में कोविड-19 के 1163 नए मामले की पुष्टि, संक्रमितों की संख्या 18 हजार को पार◾देशभर में 30 जून तक बढ़ा लॉकडाउन, 8 जून से रेस्टोरेंट, मॉल और धार्मिक स्थल खोलने की मिली अनुमति ◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

विराट, शास्त्री, प्रसाद से होगी ‘पूछताछ’

लंदन : उच्चतम न्यायालय द्वारा नियुक्त प्रशासकों की समिति (सीओए) विश्व कप में भारत के प्रदर्शन की कोच रवि शास्त्री और कप्तान विराट कोहली के साथ समीक्षा करके अगले साल होने वाले टी20 विश्व कप के लिये खाका तैयार करेगी। विनोद राय की अध्यक्षता वाली समिति प्रमुख चयनकर्ता एमएसके प्रसाद से भी बात करेगी। समिति में डायना एडुल्जी और लेफ्टिनेंट जनरल (रिटायर्ड) रवि थोडगे भी हैं। 

राय ने कहा कि कप्तान और कोच के ब्रेक से लौटने के बाद बैठक जरूर होगी। मैं तारीख और समय नहीं बता सकता लेकिन हम उनसे बात करेंगे। हम चयन समिति से भी बात करेंगे। उन्होंने आगे ब्यौरा देने से इनकार कर दिया। राय ने कहा कि भारत का अभियान अभी खत्म हुआ है। कहां, कब और कैसे जैसे सवालों का मैं आपको कोई जवाब नहीं दे सकूंगा। शास्त्री, कोहली और प्रसाद को कुछ सवालों का जवाब देना पड़ सकता है। 

इसके अलावा मौजूदा चयन समिति बीसीसीआई की आमसभा की बैठक तक बनी रहेगी। ऐसे में प्रसाद को चयन बैठकों में अधिक सक्रिय रहने की सलाह दी जा सकती है। असल में समस्या प्रसाद से नहीं बल्कि शरणदीप सिंह और देवांग गांधी से है क्योंकि कइयों का मानना है कि उनका कुछ योगदान नहीं रहता।

किन-किन सवालों से कोहली-शास्त्री को होना पड़ सकता है रूबरू

सवाल नंबर एक- आखिरी सीरीज तक अंबाती रायुडू का चयन तय था लेकिन अचानक वह चौथे नंबर की दौड़ से बाहर कैसे हो गए। विजय शंकर को नंबर चार पर टीम में शामिल करने का फैसला किस तरह से लिया गया। क्या विजय शंकर की उपयोगिता टीम में अबांती रायुडू से ज्यादा थी। 

सवाल नंबर दो- टीम में तीन विकेटकीपर क्यो थे खासकर दिनेश कार्तिक की क्या जरूरत थी जो लंबे समय से फार्म में नहीं थे। अगर दिनेश कार्तिक को टीम में रखा गया था तो ​ऋषभ पंत को टीम में नंबर चार के लिये क्यों बुलाया गया जबकि अंबाती रायुडू को रिजर्व खिलाड़ियों में रखा गया था। अंबाती की ऐसे मौके पर अनदेखा क्यों किया गया। 


सवाल नंबर तीन- सेमीफाइनल में महेंद्र सिंह धोनी को सातवें नंबर पर क्यों उतारा गया। समझा जाता है कि धोनी को नीचे भेजने का फैसला बल्लेबाजी कोच संजय बांगड़ का था। यह भी पूछा जायेगा कि सहायक कोच के इस फैसले का मुख्य कोच ने विरोध क्यो नहीं किया। क्या टीम में रवि शास्त्री से भी ज्यादा बल्लेबाजी कोच की चलती है। रवि शास्त्री की ऐसे में क्या भूमिका थी। 

सवाल नंबर चार-  टीम में नंबर चार, पांच पर विशेषज्ञ बल्लेबाजों की जगह ऐसे खिलाड़ियों का रखने का निर्णय किसका था जो नियमित तौर पर इन स्थानों पर नहीं खेलते। ऋषभ पंत आमतौर पर ओपनिंग बल्लेबाज के तौर पर टीम में खेलते रहे हैं। दिनेश कार्तिक को भी इन स्थानों पर खेलने का अनुभव होने के बावजूद वह कभी सफल नहीं रहे हैं। चयन समिति के अध्यक्ष के साथ अन्य सदस्यों से भी जवाब मांगा जा सकता है।