BREAKING NEWS

PFI case: इसरार अली और मोहम्मद समून को मिली राहत, अदालत ने दी सशर्त जमानत ◾Babri Masjid Demolition Anniversary : बाबरी मस्जिद विध्वंस की बरसी पर बोले ओवैसी◾AYODHYA ;बाबरी मस्जिद गिराए जाने के तीन दशक बाद तीर्थनगरी का माहौल कैसा?◾Yamuna Expressway: दुर्घटनाएं रोकने के लिए 15 दिसंबर से गति सीमा में होगा बदलाव, नहीं दौड़ पाएंगे तेज वाहन◾CANADA MURDER : कनाडा में भारतीय महिला के सिर पर गोली मारकर शूटर हुआ फ़रार, पुलिस कर रही तलाश ◾अधीर रंजन चौधरी ने केंद्र की नीतियों को लिया आडे़ हाथों, संसद के शीतकालीन सत्र की तारीख को लेकर कही यह बात◾MCD चुनाव 2022: तारीख, समय और परिणाम◾इंडोनेशिया में नया कानून, प्री-मैरिटल सेक्स बैन, अपराध श्रेणी में Live-in-relationship◾मार्केट में 500 रुपये के नकली नोट होने की खबर, RBI ने दी जानकारी...जानें किसे बताया जा रहा जाली ◾6 दिसंबर का दिन हमारी पीढ़ी कभी नहीं भूलेगी.... लोकतंत्र का काला दिन, बाबरी मस्जिद विध्वंस की बरसी पर बोले ओवैसी◾बिहार पुलिस में बंपर बहाली, 62 हजार नए पदों पर मिलेगी नौकरी, महिलाओं को भी दिया जाएगा 35% आरक्षण◾भारत के मिसाइल परीक्षण से कांप रहा चीन, डर के कारण ओसियन क्षेत्र में भेजा जासूसी पोत◾नोएडा में तेज रफ़्तार का कहर, जगुआर कार की टक्कर से स्कूटी सवार युवती की मौत◾लालू यादव की किडनी ट्रांसप्लांट सफल, ऑपरेशन के बाद बाप-बेटी दोनों स्वस्थ, मीसा भारती ने शेयर की वीडियो◾Mahakal temple: 20 दिसंबर से मंदिर में मोबाइल ले जाने पर प्रतिबन्ध, प्रसादी भी हुई महंगी◾दिल्ली HC ने दी 8 माह से अधिक के गर्भ को गिराने की अनुमति, कहा- मां का फैसला ही सर्वोपरि◾राहुल गांधी के थमते ही कमान संभालेंगी प्रियंका, 26 जनवरी को श्रीनगर पहुंचकर फहरा सकते तिरंगा !◾गुजरात, हिमाचल के विधानसभा और दिल्ली के MCD में समझिए पार्टियों का गणित, Exit Poll के बाद इस पार्टी पर लगा ग्रहण ◾भारत जोड़ो यात्रा का चुनाव पर कितना हुआ असर ,एक्जिट पोल में असफल हुई कांग्रेस◾Uttar Pradesh: बुंदेलखंड एक्सप्रेस-वे पर हुआ भीषण सड़क हादसा, 4 की मौत अन्य 2 की हालत गंभीर◾

प्रतियोगिता नहीं होने पर खुद को प्रेरित रखना है बहुत महत्वपूर्ण:बीरेंद्र लाकड़ा

भारतीय पुरुष हॉकी टीम के डिफेंडर बीरेंद्र लाकड़ा का कहना है कि प्रतियोगिता नहीं होने पर खुद को प्रेरित रखना काफी महत्वपूर्ण है। लाकड़ा के लिए वो समय काफी कठिन था जब 2016 में रियो ओलंपिक से पहले उन्हें घुटने में चोट लग गयी थी और उन्हें ओलंपिक से बाहर होना पड़ा था। उन्होंने बताया कि ऐसे वक्त में खुद को प्रेरित रखना काफी चुनौतीपूर्ण होता है।

लाकड़ा ने कहा, जब मैं 2016 में चोटिल हुआ तो मैं इस बात से चिंतित था कि क्या मैं दोबारा खेल पाऊंगा। लेकिन हॉकी इंडिया ने मेरा अच्छा इलाज कराया जिसके कारण मैं आठ-दस महीनों के बाद मैं हॉकी में वापसी कर सका। लेकिन इस महामारी के कारण कोई प्रतियोगिता नहीं होने पर मुझे वो दिन याद आ रहा है जब मैंने खुद को प्रेरित रखा था। 

उन्होंने कहा, यह स्थिति ऐसी है जो हम लोगों में से किसी ने नहीं देखी है लेकिन एक एथलीट होने के नाते हमें सकारात्मक रहना होगा और खुद को प्रेरित रखना होगा। जब मैं चोटिल था तो मुझे काफी परेशानी होती थी और मैं ज्यादातर चीजें नहीं कर पाता था। मैं दूसरों पर निर्भर था और साथी खिलाड़ियों को मैच खेलते देखता था लेकिन खुद नहीं खेल पा रहा था। यह मेरे लिए काफी चुनौतीपूर्ण था। लेकिन उस दौर ने मुझे लॉकडाउन की चुनौतियों से पार पाने में मदद की है।