BREAKING NEWS

PM मोदी प्रयागराज में 26,526 दिव्यांगों, बुजुर्गों को बांटे जाएंगे उपकरण ◾ओडिशा : 28 फरवरी को अमित शाह करेंगे CAA के समर्थन में रैली को संबोधित◾SP आजम खान के बेटे अब्दुल्ला की विधानसभा सदस्यता खत्म◾AAP पार्टी ने पार्षद ताहिर हुसैन को किया सस्पेंड, दिल्ली हिंसा में मृतक संख्या 38 पहुंची◾दिल्ली हिंसा : अंकित शर्मा की पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट में कई सनसनीखेज खुलासे, चाकू मारकर की गई थी हत्या◾दिल्ली हिंसा सोनिया समेत विपक्षी नेताओं के भड़काने का नतीजा : BJP ◾रॉ के पूर्व चीफ एएस दुलत ने फारूक अब्दुल्ला से की मुलाकात◾दिल्ली हिंसा : AAP पार्षद ताहिर हुसैन के घर को किया गया सील, SIT करेगी हिंसा की जांच◾दिल्ली HC में अरविंद केजरीवाल, सिसोदिया के निर्वाचन को दी गई चुनौती◾दिल्ली हिंसा की निष्पक्ष जांच हो, दोषियों को मिले कड़ी से कड़ी सजा -पासवान◾CAA पर पीछे हटने का सवाल नहीं : रविशंकर प्रसाद◾बंगाल नगर निकाय चुनाव 2020 : राज्य निर्वाचन आयुक्त मिले पश्चिम बंगाल के गवर्नर से◾दिल्ली हिंसा : आप पार्षद ताहिर हुसैन के घर से मिले पेट्रोल बम और एसिड, हिंसा भड़काने की थी पूरी तैयारी ◾TOP 20 NEWS 27 February : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾T20 महिला विश्व कप : भारत ने लगाई जीत की हैट्रिक, शान से पहुंची सेमीफाइनल में ◾पार्षद ताहिर हुसैन पर लगे आरोपों पर बोले केजरीवाल : आप का कोई कार्यकर्ता दोषी है तो दुगनी सजा दो ◾दिल्ली हिंसा में मारे गए लोगों के परिवार को 10-10 लाख का मुआवजा देगी केजरीवाल सरकार◾दिल्ली में हुई हिंसा का राजनीतिकरण कर रही है कांग्रेस और आम आदमी पार्टी : प्रकाश जावड़ेकर ◾दिल्ली हिंसा : केंद्र ने कोर्ट से कहा-सामान्य स्थिति होने तक न्यायिक हस्तक्षेप की जरूरत नहीं ◾ताहिर हुसैन को ना जनता माफ करेगी, ना कानून और ना भगवान : गौतम गंभीर ◾

अर्जुन को उसके हाल पर छोड़ दो

नई दिल्ली : यह जरूरी नहीं कि बड़े और चैम्पियन खिलाड़ी का बेटा भी बड़ा खिलाड़ी बने। ऐसे बहुत से खिलाड़ी हुए हैं जिन्होने अपने पिता के नक्शेकदम पर चलने का फैसला किया और नाकाम रहे। महान बल्लेबाज और भारतीय क्रिकेट को बुलंदियों तक पहुँचाने वाले सुनील गावस्कर और उनके बेटे रोहन गावस्कर का उदाहरण लें। रोहन को लगातार मौके मिले। कुछ एक अवसरों पर अच्छा प्रदर्शन किया पर अपने पिता के आस-पास भी नहीं पहुँच पाए।

तब बहुत से क्रिकेट जानकारों और समीक्षकों ने कहा कि रोहन पिता की महानता के बोझ तले दब कर रह गये। कुछ ऐसी ही स्थिति का सामना भारत रत्न सचिन तेंदुलकर के बेटे अर्जुन को भी करना पड़ सकता है। क्रिकेट पंडितों का मानना है कि अर्जुन मे एक अच्छे खिलाड़ी के तमाम गुण हैं लेकिन पिता की महानता का दबाव झेलने मे वह कहाँ तक सफल रहता है, यह देखने वाली बात होगी। जानकारों का तो यह भी कहना है कि मीडिया का एक खास वर्ग अर्जुन को उसके लक्ष्य से भटका सकता है या उसे मंजिल तक पहुँचने से पहले ही डिगा सकता है।

यदि अर्जुन यशस्वी पिता की संतान न होते तो श्रीलंका अंडर 19 के विरुद्ध खेलते हुए उनके द्वारा लिए गये एक विकेट की शायद ही कोई चर्चा होती और शून्य पर आउट होने पर भी मोटे अक्षरों मे खबर ना छापी जाती। बेशक, मीडिया की यह करतूत एक उभरते खिलाड़ी पर भारी पड़ सकती है। सचिन के बेटे होने पर हर अच्छे बुरे प्रदर्शन को अपने पैमाने से तोलने वाला आखिर मीडिया होता कौन है? सचिन ने तो कभी मीडिया से उसकी सिफारिश नहीं की और वह करेंगे भी नहीं। उन्हें अपने कद का आभास है।

लेकिन प्रचार माध्यमों को कब समझ आएगी? जरूरत अर्जुन को उसके हाल पर छोड़ने की है। वह पिता के कंधे या मीडिया के भद्देपन के दम पर आगे कदापि नहीं बढ़ना चाहेगा। अत: बेहतर यह होगा कि उसे उसके हाल पर छोड़ दिया जाए। वरना एक और बचपन पिता की महानता के बोझ तले सिसक कर रह जाएगा।

(राजेंद्र सजवान)