BREAKING NEWS

अखिलेश बोले- आज जो कश्मीरियों के साथ हो रहा है, वह कल हमारे साथ भी होगा◾कश्मीर मुद्दे पर आज पाकिस्तान को संबोधित करेंगे इमरान खान◾अमित शाह ने की नक्सलियों के खिलाफ चल रहे अभियानों की समीक्षा, बैठक में कई राज्यों के CM भी रहे शामिल◾INX मीडिया केस: अग्रिम जमानत ठुकराए जाने के खिलाफ चिदंबरम की अपील पर SC का सुनवाई से इनकार◾पूर्व PM मनमोहन सिंह की हटाई गई SPG सुरक्षा, अब मिलेगा सिर्फ Z+ कवर◾मायावती ने कांग्रेस पर बोला तीखा हमला, Article 370 का समर्थन करने की बताई वजह◾सुबोधकांत सहाय बोले- कांग्रेस अनुच्छेद 370 हटाने का नहीं, उसके तरीके का विरोध कर रही◾PM मोदी आज G-7 सम्मेलन के दौरान डोनाल्ड ट्रंप से करेंगे मुलाकात, कश्मीर मुद्दे पर चर्चा संभव◾अधीर रंजन चौधरी का विवादित बयान, बोले- सत्यपाल मलिक को J-K बीजेपी का अध्यक्ष बना देना चाहिए◾कुमारस्वामी ने मुझे दुश्मन समझा और इससे सारी समस्याएं पैदा हुई : सिद्धारमैया◾आईएनएक्स मीडिया मामले में चिदंबरम की अर्जी पर SC में सुनवाई आज, हाईकोर्ट के आदेश को दी है चुनौती◾मंदी को लेकर शत्रुघ्न सिन्हा का केंद्र सरकार पर हमला, कहा-इस गड़बड़ी का कारण क्या है? ◾जसप्रीत बुमराह की आंधी में उड़ा वेस्ट इंडीज, एंटीगा टेस्ट में 318 रन से जीता भारत◾राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री समेत अन्य नेताओं ने सिंधू को शानदार जीत पर बधाई दी ◾PM मोदी ने संयुक्त राष्ट्र प्रमुख एंतोनियो गुतारेस के साथ ‘सार्थक चर्चा’ की◾J&K : केंद्र सरकार ने राज्य के लिए की 85 विकास योजनाओं की शुरुआत◾फ्रांस में PM मोदी ने ब्रिटेन के प्रधानमंत्री जॉनसन से की मुलाकात◾विपक्ष, प्रेस को जम्मू कश्मीर में लोगों पर बल के बर्बर प्रयोग का अहसास हुआ : राहुल◾जेटली के निधन से भाजपा में ‘दिल्ली-4’ दौर हुआ समाप्त ◾जेटली राजनीतिक दिग्गज, देश के लिए अमूल्य संपत्ति थे : लोकसभा अध्यक्ष◾

खेल

सिर्फ 1 साल बचा है सचिन, लक्ष्मण, गांगुली के पास BCCI को सेवा देने के लिए

बीते मंगलवार को भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड के लोकपाल के डे.के.जैन के सामने सचिन तेंदुलकर और वीवीएस लक्ष्मण पेश हुए थे। दरअसल क्रिकेट सलाहकार समिति यानी सीएसी के सचिन तेंदुलकर, वीवीएस लक्ष्मण और सौरव गांगुली सदस्य हैं और साथ ही वह आईपीएल की फ्रेंचाइजी टीमों के मेंटोर भी हैं जिसके बाद से इसमें विवाद खड़ा हो गया था। जिसके लिए वह डे.के.जैन से मिले थे।

\"\"

शायद आपको इस बात की जानकारी नहीं है कि बोर्ड के नए संविधान के अनुसार सचिन, लक्ष्मण और सौरव गांगुली बोर्ड की किसी भी समिति का हिस्सा नहीं होंगे।

\"\"

भारतीय टीम के इन पूर्व खिलाडिय़ों से सारी सेवाएं नहीं ली गईं हैं क्योंकि इनके पास अभी भी भारतीय टीम के मुख्य कोच चुनने की जिम्मेदारी बरकरार है। बता दें कि इन तीनों खिलाडिय़ों को सीएसी ने 2016 और 2017 में भारतीय टीम का कोच बनाया था। इसके साथ ही जब महिला टीम के मुख्य कोच की नियुक्त करने की बारी थी तब भी प्रशासकों की समिति यानी सीओए ने इन तीनों खिलाडिय़ों को कुछ ज्यादा समय नहीं दिया था।

अधिकारी ने सीएसी सदस्यों पर किया यह बड़ा खुलासा

आईएएनएस से बातचीत के दौरान बीसीसीआई के सीनियर अधिकारी ने कहा कि भारतीय क्रिकेट टीम के इन तीनों पूर्व खिलाडिय़ों की सेवाओं को इस तरह से बोर्ड ने खत्म कर दिया है। अधिकारी ने कहा, ये बेहद दुख की बात है। मौजूदा हालात में तीनों को लोकपाल के सामने जाने को मजबूर कर दिया जहां सीओए लोकपाल से कह सके कि ये तीनों ‘साफ तौर से’ हितों के टकराव के मुद्दे में घिरे हैं। सीओए ने भारतीय क्रिकेट के इन तीन दिग्गजों की सेवाओं को पूरी तरह से उपयोग भी नहीं किया।

\"\"

इस मामले में अधिकारी ने आगे कहा, नए संविधान के मुताबिक ये तीनों पांच साल के बाद किसी भी समिति का हिस्सा नहीं हो सकते और ये नियम 2020 के बाद इन्हें बाहर कर देगा। क्या बोर्ड में जो तंत्र पेशेवर तरीके से काम कर रहा है उसे पता है कि उन्हें क्या खोया है? उन्होंने इन तीनों को महिला टीम का कोच नियुक्त करने के लिए पर्याप्त समय भी नहीं दिया। कम देखना बड़ी बीमारी है।

\"\"

वहीं दूसरे अधिकारी ने कहा कि ये जो साफ तौर पर हितों के टकराव का मुद्दा है वो सीओए की तरफ से गैरजरूरी है। अधिकारी ने आगे बातचीत में कहा, वो ये कहने की स्थिति में बिल्कुल नहीं हैं। सचिन का उदाहरण ले लीजिए क्या उन्हें मुंबई इंडियंस या सीएसी में रहने के लिए बीसीसीआई की तरफ से कोई पैसा मिल रहा है? तो फिर हितों के टकराव का मुद्दा कहां है? साथ ही 2020 के बाद से आप उन्हें किसी भी क्रिकेट समिति में शामिल नहीं कर सकते। एक दिग्गज जिसने 24 साल 25 सीजनों तक देश के लिए क्रिकेट खेली वो कभी भी चयनकर्ता बनने के लिए योग्य नहीं होगा।

\"\"

अब जो नए बीसीसीआई के संविधान आए हैं उनके अनुसान, किसी भी क्रिकेट समिति का कोई भी शख्स पांच साल तक हिस्सा होता है वह आगे भविष्य में किसी दूसरी समिति का हिस्सा नहीं बन सकता है। अब इस नियम के अनुसार 2015 में सीएसी नियुक्त हुई थी अब उसके पास महज 1 साल का समय ही रह गया है। इसका मतलब है कि सचिन, गांगुली और लक्ष्मण अब किसी दूसरी क्रिकेट समिति का हिस्सा नहीं बनेंगे।

\"\"

इसमें एक दूसरी परेशानी की बात यह भी है कि इस तिगड़ी को जिस समय सीएसी के सदस्य बनाया गया था तो उसमें से यह सोचा गया था कि देश की राष्ट्रीय टीम के प्रदर्शन में सुधार लाने केलिए चुना गया था। इसकेअलावा इन्हें विश्व कप भी भारत की सर्वश्रेष्ठ टीम बनाने के लिए रोडमैप भी तैयार करके देना था।

\"\"

लेकिन पिछले चार सालों में इन तीनों ने समिति के तौर पर महज दो काम किए हैं। पहला 2016 में राष्ट्रीय टीम का अनिल कुंबले को कोच नियुक्त किया था और दूसरा जब उनका कार्यकाल खत्म हो गया तो रवि शास्त्री को राष्ट्रीय टीम का 2017 में कोच नियुक्त किया।

\"\"

सबसे दुख की बात तो यह है कि खेल को इन दिग्गजों ने काफी लंबे समय तक सेवाएं दी थीं। इन्हें अब यह साबित करना है कि यह हितों का टकराव के मामले में नहीं हैं।

\"\"

एमएस धोनी के रन आउट होने के बाद, इस बच्चे का रोने वाला वीडियो हुआ वायरल