BREAKING NEWS

अकाली दल नहीं लड़ेगा दिल्ली चुनाव : मनजिंदर सिंह सिरसा◾दविंदर सिंह का डीजीपी पदक और प्रशस्ति पत्र जब्त ◾CAA को लेकर कपिल सिब्बल बोले- इसे लेकर मेरे रुख में कोई बदलाव नहीं ◾राष्ट्रपति कोविंद ने कहा- पत्रकारिता ‘कठिन दौर’ से गुजर रही है, फर्जी खबरें नये खतरे के तौर पर सामने आई हैं◾कपिल सिब्बल ने ''परीक्षा पे चर्चा' को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर साधा निशाना ◾सीडीएस बिपिन रावत बोले- पाक के साथ युद्ध की परिस्थिति उत्पन्न होगी या नहीं, अनुमान लगाना मुश्किल◾भाजपा के नये अध्यक्ष बने नड्डा, नरेंद्र मोदी समेत इन नेताओं ने दी शुभकामनाएं ◾TOP 20 NEWS 20 January : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾भाजपा के नये अध्यक्ष नड्डा बोले- जिन राज्यों में भाजपा मजबूत नहीं, वहां कमल पहुंचाएं◾PM मोदी ने विपक्ष पर साधा निशाना, कहा- जिन्हें जनता ने नकार दिया अब वे भ्रम और झूठ के शस्त्र का इस्तेमाल कर रहे हैं◾उम्मीद है कि नड्डा के नेतृत्व में BJP निरंतर सशक्त और अधिक व्यापक होगी : अमित शाह ◾निर्भया गैंगरेप: सुप्रीम कोर्ट ने खारिज की दोषी पवन की याचिका, अब फांसी तय◾आज नामांकन नहीं भर पाए CM केजरीवाल, रोड शो के चलते हुई देरी◾JP नड्डा बने बीजेपी के नए अध्यक्ष, अमित शाह समेत कई नेताओं ने दी बधाई ◾पंचतत्व में विलीन हुए श्री अश्विनी कुमार चोपड़ा 'मिन्ना जी' ◾BJP के पूर्व सांसद और वरिष्ठ पत्रकार अश्विनी कुमार चोपड़ा जी का निगम बोध घाट में हुआ अंतिम संस्कार◾पंचतत्व में विलीन हुए पंजाब केसरी दिल्ली के मुख्य संपादक और पूर्व भाजपा सांसद श्री अश्विनी कुमार चोपड़ा◾अश्विनी कुमार चोपड़ा - जिंदगी का सफर, अब स्मृतियां ही शेष...◾करनाल से बीजेपी के पूर्व सांसद अश्विनी कुमार चोपड़ा के निधन पर राजनाथ सिंह समेत इन नेताओं ने जताया शोक ◾अश्विनी कुमार की लेगब्रेक गेंदबाजी के दीवाने थे टॉप क्रिकेटर◾

खिलाड़ियों को तैयार करने वाले कोचों को सम्मान मिले

नई दिल्ली : यह तो वक्त ही बताएगा कि खेलो इंडिया की शुरुआत से इंडिया कितना और कैसे खेलता है किंतु प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का विजन काबिले तारीफ़ है। देर से ही सही किसी प्रधानमंत्री और उनकी सरकार ने खेलों के महत्व को समझा है। हालांकि कई जानकार और खेलों की गहरी समझ रखने वाले कहते हैं कि इंडिया 17 साल की उम्र में ही क्यों खेले। शुरुआत 12-14 साल से की जाती तो बेहतर रहता। खैर, अब शुरुआत हो चुकी है और उम्मीद की जानी चाहिए कि भारतीय खेलों को आगे बढ़ने का सही प्लेटफॉर्म मिल गया है। सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि मोदी सरकार ने गुरु-शिष्य परंपरा को खास महत्व दिया है। उद्घाटन अवसर पर गोपी चन्द, सतपाल, हरेन्द्र सिंह, संधु आदि कोचों और सुशील, सिंधु, श्रीकांत सरदार, रानी रामपाल, दीपिका करमारकर जैसे खिलाड़ियों को सम्मान देना शानदार रहा।

भारतीय खेलों के इतिहास पर नज़र डालें तो गुरु-शिष्य परंपरा की आड़ में बहुत कुछ गलत होता रहा है। देश के अस्सी फीसदी खिलाड़ियों को तैयार करने वाले गुरुओं को या तो सम्मान नहीं मिला या उनमे से ज़्यादातर को खेल मंत्रालय और खेल प्राधिकरण की साजिश का शिकार होना पड़ा है। खेल संघों का भ्रष्टाचार भी उनको झेलना पड़ा। देश के अंतरराष्ट्रीय, विश्व विजेता और ओलंपिक पदक विजेता खिलाड़ियों पर नज़र डालें तो उनमे से ज़्यादातर को जिस गुरु ने पाठ पढ़ाया, काबिल बनाया उसे कभी द्रोणाचार्य अवॉर्ड नहीं मिला। सरकारी दया पर पलने वाले और फेडरेशन से सांठ-गांठ करने वाले और अवसरवादी कोच द्रोणाचार्य बनते रहे हैं।

हैरानी वाली बात यह है कि देश के लिए ओलंपिक पदक जीतने वाले चार पांच खिलाड़ी ऐसे हैं जिनके कोच का कोई अता-पता नहीं है। इसी प्रकार कुछ पदक विजेताओं की आड़ में एक से ज़्यादा और चार-पांच अवसरवादी द्रोणाचार्य अवॉर्ड ले उड़े। इतना ही नहीं कई महिला खिलाड़ियों ने अपने पति को कोच बताया और सम्मान दिलाया। उन्हें जिस कोच ने गुर सिखाए वह गुमनामी में खो गया। यह घोटाला सरकारों की देखरेख में हुआ। लेकिन शायद अब ऐसा नहीं होगा। खेलो इंडिया गुरु-शिष्य परंपरा को नई पहचान देगा ऐसी उम्मीद है।

अधिक लेटेस्ट खबरों के लिए यहाँ क्लिक  करें। (राजेंद्र सजवान)