BREAKING NEWS

अयोध्या के विवादित ढांचा को ढहाए जाने के मामले में कल्याण सिह को समन जारी◾‘Howdy Modi’ के लिए ह्यूस्टन तैयार, 50 हजार टिकट बिके ◾‘Howdy Modi’ कार्यक्रम के लिए PM मोदी पहुंचे ह्यूस्टन◾प्रधानमंत्री का ह्यूस्टन दौरा : भारत, अमेरिका ऊर्जा सहयोग बढ़ाएंगे ◾क्या किसी प्रधानमंत्री को ऐसे बोलना चाहिए : पाक को लेकर मोदी के बयान पर पवार ने पूछा◾कश्मीर पर भारत की निंदा करने के लिये पाकिस्तान सबसे ‘अयोग्य’ : थरूर◾राजीव कुमार की अग्रिम जमानत अर्जी खारिज ◾AAP ने अनधिकृत कॉलोनियों को नियमित करने में देरी पर ‘धोखा दिवस’ मनाया ◾ शिवसेना, भाजपा को महाराष्ट्र चुनावों में 220 से ज्यादा सीटें जीतने का भरोसा◾आधारहीन है रिहाई के लिए मीरवाइज द्वारा बॉन्ड पर दस्तखत करने की रिपोर्ट : हुर्रियत ◾TOP 20 NEWS 21 September : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾रामदास अठावले ने किया दावा - गठबंधन महाराष्ट्र में 240-250 सीटें जीतेगा ◾कृषि मंत्रालय से मिले आश्वासन के बाद किसानों ने खत्म किया आंदोलन ◾फडणवीस बोले- भाजपा और शिवसेना साथ मिलकर लड़ेंगे चुनाव, मैं दोबारा मुख्यमंत्री बनूंगा◾चुनावों में जनता के मुद्दे उठाएंगे, लोग भाजपा को सत्ता से बाहर करने को तैयार : कांग्रेस◾चुनाव आयोग का ऐलान, महाराष्ट्र-हरियाणा के साथ इन राज्यों की 64 सीटों पर भी होंगे उपचुनाव◾महाराष्ट्र और हरियाणा में 21 अक्टूबर को होगी वोटिंग, 24 को आएंगे नतीजे◾ISRO प्रमुख सिवन ने कहा - चंद्रयान-2 का ऑर्बिटर अच्छे से कर रहा है काम◾विमान में तकनीकी खामी के चलते जर्मनी के फ्रैंकफर्ट में रुके PM मोदी, राजदूत मुक्ता तोमर ने की अगवानी◾जम्मू-कश्मीर के पुंछ और राजौरी जिलों में पाकिस्तान ने फिर किया संघर्ष विराम का उल्लंघन◾

खेल

पीवी सिंधु का सुनहरा कारनामा, बैडमिंटन वर्ल्ड चैम्पियनशिप जीतने वाली पहली भारतीय ख़िलाड़ी

भारत की पीवी सिंधू ने जापान की नोजोमी ओकुहारा को रविवार को एकतरफा अंदाज में 2-7, 2-7 से हराकर विश्व बैडमिंटन प्रतियोगिता में स्वर्ण पदक जीतकर नया इतिहास रच दिया। सिंधू विश्व चैंपियनशिप में स्वर्ण जीतने वाली पहली भारतीय ख़िलाड़ी बन गईं हैं। 


सिंधू ने बड़ टूर्नामेंटों के फाइनल में हारने का गतिरोध आखिर आज तोड़ दिया और वह भारत की बैडमिंटन में पहली विश्व चैंपियन बन गईं। सिंधू पिछले दो साल विश्व चैंपियनशिप के फाइनल में हारी थीं लेकिन इस बार उन्होंने कोई चूक नहीं की और जबरदस्त प्रदर्शन करते हुए ओकुहारा को पराजित कर दिया। 


ओलंपिक रजत विजेता सिंधू का विश्व चैंपियनशिप में यह पांचवा पदक है। वह इससे पहले दो रजत और दो कांस्य पदक जीत चुकी हैं। पांचवीं सीड सिंधू ने तीसरी सीड ओकुहारा को 37 मिनट में पराजित कर भारत में जश्न की लहर दौड़ दी।


सिंधू को 2016 के रियो ओलंपिक में रजत, 2017 की विश्व चैंपियनशिप में रजत, 2018 के राष्ट्रमंडल खेलों में रजत और 2018 की विश्व चैंपियनशिप में भी रजत पदक मिला था लेकिन उन्होंने इस बार अपने पदक का रंग बदलते हुए उसे पीला कर दिया। 

सिंधू का 2019 में यह पहला खिताब है और यह खिताब भी उन्हें विश्व चैंपियनशिप में मिला जिसका भारत को कई वर्षों से इंतजार था। सिंधू ने फाइनल में जो प्रदर्शन किया वह बेमिसाल था और इस प्रदर्शन को लंबे अरसे तक याद रखा जाएगा। 

ओकुहारा जैसी खिलाड़ को दोनों गेम में 2।7, 2।7 से हराकर सिंधू ने साबित किया कि वह अगले साल होने वाले टोक्यो ओलंपिक में स्वर्ण पदक की सबसे प्रबल दावेदार रहेंगी। सिंधू ने विश्व रैंकिंग में चौथे नंबर की खिलाड़ ओकुहारा के खिलाफ अपना करियर रिकॉर्ड 9-7 कर लिया है। 

ओलम्पिक रजत विजेता सिंधू ने क्वार्टरफाइनल में विश्व की दूसरे नंबर की खिलाड़ ताइपे की ताई जू यिंग को, सेमीफाइनल में विश्व रैंकिंग में तीसरे नंबर की खिलाड़ चीन की यू फेई को और फाइनल में विश्व रैंकिंग में चौथे नंबर की खिलाड़ ओकुहारा को हराया। 

सिंधू का इस साल यह दूसरा और विश्व चैंपियनशिप में लगातार तीसरा फाइनल था। वह इस साल इससे पहले इंडोनेशिया ओपन के फाइनल में पहुंचीं थीं। सिंधू ने पिछले साल विश्व चैंपियनशिप में और वर्ल्ड टूर फाइनल्स में भी ओकुहारा को हराया था।

विश्व चैंपियनशिप में 2017 और 2018 में रजत पदक तथा 2013 और 2014 में कांस्य पदक जीत चुकी सिंधू ने खिताबी मुकाबले में ओकुहारा के खिलाफ तूफानी शुरुआत की और लगातार आठ अंक लेकर 8-1 की बढ़त बना ली। ओकुहारा ने जब अपना दूसरा अंक हासिल किया उस समय तक सिंधू के 16 अंक हो चुके थे। जापानी खिलाड़ भारतीय खिलाड़ के आक्रमक प्रदर्शन के सामने पूरी तरह बेबस हो चुकी थीं। सिंधू ने 2।7 पर पहले गेम को समाप्त कर दिया। 

दूसरे गेम में भी पहले गेम जैसी ही कहानी रही। सिंधू ने 3-2 स्कोर पर लगातार छह अंक लिए और 9-2 से आगे हो गयीं। ओकुहारा के लिए अब सिंधू को रोकना मुश्किल हो गया। सिंधू ने फिर लगातार सात अंक लिए और 16-4 की बढ़त बनाकर खिताब पर अपना कब्जा सुनिश्चित कर लिया। उन्होंने इस गेम को भी 2।7 पर समाप्त किया और भारत की पहली विश्व बैडमिंटन चैंपियन बन गईं। 

भारतीय बैडमिंटन इतिहास में 25 अगस्त 2019 का दिन स्वर्णाक्षरों में दर्ज हो गया। सिंधू ने इस तरह पिछले आठ महीने का खिताबी सूखा शानदार अंदाज में समाप्त किया। सिंधू ने अपनी खिताबी जीत से भारतीयों का पहले विश्व बैडमिंटन खिताब का सपना पूरा कर दिया।