BREAKING NEWS

झारखंड : नक्सली हमले में एएसआई समेत 4 पुलिसकर्मी शहीद ◾कांग्रेस ने झारखंड चुनाव के लिए उम्मीदवारों की आखिरी सूची जारी की◾शेख हसीना के साथ बैठक सौहार्दपूर्ण रही : ममता ◾राजनाथ ने डीआरडीओ और घरेलू रक्षा उद्योगों के बीच सामंजस्य बनाने की अपील की ◾चुनावी बॉन्ड पर सरकार के पास जवाब नहीं : प्रियंका गांधी वाड्रा◾ कांग्रेस नेता अहमद पटेल बोले- बैठक अभी अधूरी है, कल हम फिर करेंगे बैठक ◾BHU में प्रो. फिरोज खान नियुक्ति विवाद पर छात्रों का धरना समाप्त,विरोध जारी◾राज्यसभा में उठा जेएनयू में फीस बढ़ोतरी का मुद्दा ◾TOP 20 NEWS 22 NOV : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾कांग्रेस, NCP और शिवसेना गठबंधन पर बोले गडकरी- वे महाराष्ट्र को एक स्थिर सरकार नहीं दे पाएंगे◾मुंबई में शिवसेना ने मारी बाजी, किशोरी पेडनेकर बीएमसी की नई मेयर चुनीं गईं◾प्रकाश जावड़ेकर बोले- बीजिंग से कम समय में दिल्ली में प्रदूषण से निपट लेंगे◾CM केजरीवाल का बड़ा ऐलान, बोले-पानी और सीवर के नए कनेक्शन पर देने होंगे 2,310 रुपये ◾NCP ने ली भाजपा की चुटकी, कहा- 'शरद पवार ने राजनीति के चाणक्य को दी मात'◾महाराष्ट्र : सरकार गठन को लेकर मुंबई में शाम 4 बजे होगी शिवसेना, NCP और कांग्रेस की बैठक◾संसद परिसर में कांग्रेस ने 'Electoral Bond' के खिलाफ किया प्रदर्शन◾गठबंधन पर संजय निरुपम तंज, कहा- 'तीन तिगाड़े काम बिगाड़े' वाली सरकार चलेगी कब तक?◾महाराष्ट्र में 5 साल के लिए शिवसेना का ही होगा मुख्यमंत्री : संजय राउत◾इजराइल के PM बेंजामिन नेतन्याहू पर भ्रष्टाचार, धोखाधड़ी और विश्वासघात मामले में आरोप तय◾सत्यपाल मलिक बोले- अयोध्या में बनने वाले राम मंदिर में केवट-शबरी की भी हों मूर्तियां, ट्रस्ट को लिखूंगा चिट्ठी◾

खेल

पीवी सिंधु का सुनहरा कारनामा, बैडमिंटन वर्ल्ड चैम्पियनशिप जीतने वाली पहली भारतीय ख़िलाड़ी

 1531

भारत की पीवी सिंधू ने जापान की नोजोमी ओकुहारा को रविवार को एकतरफा अंदाज में 2-7, 2-7 से हराकर विश्व बैडमिंटन प्रतियोगिता में स्वर्ण पदक जीतकर नया इतिहास रच दिया। सिंधू विश्व चैंपियनशिप में स्वर्ण जीतने वाली पहली भारतीय ख़िलाड़ी बन गईं हैं। 


सिंधू ने बड़ टूर्नामेंटों के फाइनल में हारने का गतिरोध आखिर आज तोड़ दिया और वह भारत की बैडमिंटन में पहली विश्व चैंपियन बन गईं। सिंधू पिछले दो साल विश्व चैंपियनशिप के फाइनल में हारी थीं लेकिन इस बार उन्होंने कोई चूक नहीं की और जबरदस्त प्रदर्शन करते हुए ओकुहारा को पराजित कर दिया। 


ओलंपिक रजत विजेता सिंधू का विश्व चैंपियनशिप में यह पांचवा पदक है। वह इससे पहले दो रजत और दो कांस्य पदक जीत चुकी हैं। पांचवीं सीड सिंधू ने तीसरी सीड ओकुहारा को 37 मिनट में पराजित कर भारत में जश्न की लहर दौड़ दी।


सिंधू को 2016 के रियो ओलंपिक में रजत, 2017 की विश्व चैंपियनशिप में रजत, 2018 के राष्ट्रमंडल खेलों में रजत और 2018 की विश्व चैंपियनशिप में भी रजत पदक मिला था लेकिन उन्होंने इस बार अपने पदक का रंग बदलते हुए उसे पीला कर दिया। 

सिंधू का 2019 में यह पहला खिताब है और यह खिताब भी उन्हें विश्व चैंपियनशिप में मिला जिसका भारत को कई वर्षों से इंतजार था। सिंधू ने फाइनल में जो प्रदर्शन किया वह बेमिसाल था और इस प्रदर्शन को लंबे अरसे तक याद रखा जाएगा। 

ओकुहारा जैसी खिलाड़ को दोनों गेम में 2।7, 2।7 से हराकर सिंधू ने साबित किया कि वह अगले साल होने वाले टोक्यो ओलंपिक में स्वर्ण पदक की सबसे प्रबल दावेदार रहेंगी। सिंधू ने विश्व रैंकिंग में चौथे नंबर की खिलाड़ ओकुहारा के खिलाफ अपना करियर रिकॉर्ड 9-7 कर लिया है। 

ओलम्पिक रजत विजेता सिंधू ने क्वार्टरफाइनल में विश्व की दूसरे नंबर की खिलाड़ ताइपे की ताई जू यिंग को, सेमीफाइनल में विश्व रैंकिंग में तीसरे नंबर की खिलाड़ चीन की यू फेई को और फाइनल में विश्व रैंकिंग में चौथे नंबर की खिलाड़ ओकुहारा को हराया। 

सिंधू का इस साल यह दूसरा और विश्व चैंपियनशिप में लगातार तीसरा फाइनल था। वह इस साल इससे पहले इंडोनेशिया ओपन के फाइनल में पहुंचीं थीं। सिंधू ने पिछले साल विश्व चैंपियनशिप में और वर्ल्ड टूर फाइनल्स में भी ओकुहारा को हराया था।

विश्व चैंपियनशिप में 2017 और 2018 में रजत पदक तथा 2013 और 2014 में कांस्य पदक जीत चुकी सिंधू ने खिताबी मुकाबले में ओकुहारा के खिलाफ तूफानी शुरुआत की और लगातार आठ अंक लेकर 8-1 की बढ़त बना ली। ओकुहारा ने जब अपना दूसरा अंक हासिल किया उस समय तक सिंधू के 16 अंक हो चुके थे। जापानी खिलाड़ भारतीय खिलाड़ के आक्रमक प्रदर्शन के सामने पूरी तरह बेबस हो चुकी थीं। सिंधू ने 2।7 पर पहले गेम को समाप्त कर दिया। 

दूसरे गेम में भी पहले गेम जैसी ही कहानी रही। सिंधू ने 3-2 स्कोर पर लगातार छह अंक लिए और 9-2 से आगे हो गयीं। ओकुहारा के लिए अब सिंधू को रोकना मुश्किल हो गया। सिंधू ने फिर लगातार सात अंक लिए और 16-4 की बढ़त बनाकर खिताब पर अपना कब्जा सुनिश्चित कर लिया। उन्होंने इस गेम को भी 2।7 पर समाप्त किया और भारत की पहली विश्व बैडमिंटन चैंपियन बन गईं। 

भारतीय बैडमिंटन इतिहास में 25 अगस्त 2019 का दिन स्वर्णाक्षरों में दर्ज हो गया। सिंधू ने इस तरह पिछले आठ महीने का खिताबी सूखा शानदार अंदाज में समाप्त किया। सिंधू ने अपनी खिताबी जीत से भारतीयों का पहले विश्व बैडमिंटन खिताब का सपना पूरा कर दिया।