BREAKING NEWS

'ओमिक्रॉन' के बढ़ते खतरे के बीच क्या भारत में लगेगी बूस्टर डोज! सरकार ने दिया ये जवाब ◾2021 में पेट्रोल-डीजल से मिलने वाला उत्पाद शुल्क कलेक्शन हुआ दोगुना, सरकार ने राज्यसभा में दी जानकारी ◾केंद्र सरकार ने MSP समेत दूसरे मुद्दों पर बातचीत के लिए SKM से मांगे प्रतिनिधियों के 5 नाम◾क्या कमर तोड़ महंगाई से अब मिलेगाी निजात? दूसरी तिमाही में 8.4% रही GDP ग्रोथ ◾उमर अब्दुल्ला का BJP पर आरोप, बोले- सरकार ने NC की कमजोरी का फायदा उठाकर J&K से धारा 370 हटाई◾LAC पर तैनात किए गए 4 इजरायली हेरॉन ड्रोन, अब चीन की हर हरकत पर होगी भारतीय सेना की नजर ◾Omicron वेरिएंट को लेकर दिल्ली सरकार हुई सतर्क, सीएम केजरीवाल ने बताई कितनी है तैयारी◾NIA की हिरासत मेरे जीवन का सबसे ‘दर्दनाक समय’, मैं अब भी सदमे में हूं : सचिन वाजे ◾भाजपा की चिंता बढ़ा सकता है ममता का मुंबई दौरा, शरद पवार संग बैठक के अलावा ये है दीदी का प्लान ◾ओमीक्रोन के बढ़ते खतरे पर गृह मंत्रालय का एक्शन - कोविड प्रोटोकॉल गाइडलाइन्स 31 दिसंबर तक बढा़ई ◾निलंबन वापसी पर केंद्र करेगी विपक्ष से बात, विधायी कामकाज कल तक टालने का रखा गया प्रस्ताव, जानें वजह ◾राहुल के ट्वीट पर पीयूष गोयल ने निशाना साधते हुए पूछा तीखा सवाल, खड़गे द्वारा लगाए गए आरोपों की कड़ी निंदा की ◾कश्मीर में सामान्य स्थिति लाने के लिए बहाल करनी होगी धारा 370 : फारूक अब्दुल्ला◾स्वास्थ्य मंत्री मंडाविया ने बताया - भारत में अब तक ओमिक्रॉन वेरिएंट का कोई मामला नहीं मिला◾मप्र में शिवराज सरकार के लिए मुसीबत का सबब बने भाजपा के लिए नेताओं के विवादित बयान ◾UP: विधानसभा Election को सियासी धार देने के लिए BJP करेगी छह चुनावी यात्राएं, ये वरिष्ठ नेता होंगे सम्मिलित ◾UP चुनाव को लेकर मायावती खेल रही जातिवाद का दांव, BJP पर लगाए मुसलमानों के उत्पीड़न जैसे कई आरोप ◾12 सांसदों के निलंबन पर राहुल का ट्वीट, 'किस बात की माफी, संसद में जनता की बात उठाने की' ◾ओमीक्रॉन को लेकर केंद्र ने अपनाया सख्त रवैया, सभी राज्यों को दिए जांच बढ़ाने समेत कई निर्देश, जानें क्या कहा ◾राज्यसभा सभापति वेंकैया नायडू ने ठुकराया 12 सांसदों का निलंबन रद्द करने का अनुरोध ◾

T20 वर्ल्ड कप से राशिद खान ने कप्तानी छोड़ने के पीछे की अब बताई असली वजह

अफगानिस्तान क्रिकेट चयनकर्ताओं ने आईसीसी टी20 विश्व कप 2021 के लिए 10 सितंबर यानि शुक्रवार को अपनी 15 सदस्यीय टीम का ऐलान कर दिया। लेकिन इसी बीच कप्तान राशिद खान ने अपना पद छोड़ने का फैसला ले लिया। वहीं टीम अब टी20 वर्ल्ड कप में अब मोहम्मद नबी की कप्तानी में खेलेगी। लेकिन हाल ही में राशिद के कप्तानी छोड़ने की वजह सामने आई है। दरअसल तालिबान ने साफ तौर पर कहा है कि वह अफगानिस्तान में मेंस क्रिकेट को सपोर्ट करेगा, लेकिन जिस तरह से एसीबी मैनेजमेंट काम कर रहा है, वह तरीका राशिद खान को कुछ पसंद नहीं आया।

अफगानिस्तान के मौजूदा हालात कुछ सही नहीं चल रहे हैं। दरअसल जब से तालिबान ने अफगान पर अपना कब्जा किया तभी से वहां पर स्पोर्ट्स को लेकर भी अनिश्चितता के बादल छाए हुए हैं।  वहीं एक तरफ अफगानिस्तान क्रिकेट बोर्ड ने 10 सितंबर को आईसीसी टी20 वर्ल्ड कप के लिए टीम का ऐलान जरूर कर दिया हो, लेकिन इसी बीच कप्तान राशिद खान ने अपना पद छोड़ने का निर्णय लिया है। 

राशिद खान ने साझा की पोस्ट...

 राशिद खान ने अपने पद से  इस्तीफा देते हुए ट्विटर पर लिखा था, 'एक कप्तान और देश के जिम्मेदार नागरिक होने के नाते टीम सिलेक्शन का हिस्सा होना मेरा अधिकार है। एसीबी मीडिया ने जो टीम अनाउंस की, उसके लिए मेरी मर्जी नहीं पूछी गई थी। मैं अपना पद छोड़ने का फैसला लेता हूं। अफगानिस्तान के लिए खेलना हमेशा से मेरे लिए गर्व की बात रही है।

दरअसल राशिद खान का मानना है कि जो टीम चुनी गई है, वह फिटनेस, परफॉर्मेंस और अनुशासन के आधार पर नहीं चुनी गई है। वहीं एसीबी के स्पोक्सपरसन ने क्रिकबज से कहा, 'राशिद खान टीम सिलेक्शन को लेकर खुश नहीं थे। जब उसने स्क्वॉड देखी, तो वह नाराज हुए और कप्तानी छोड़ने का फैसला ले लिया। अब वह टीम की अगुवाई नहीं करेंगे।  

राशिद खान का कप्तानी से किनारा कर लेना और मोहम्मद नबी को कप्तान नियुक्त किया जाना, ये सब टीम घोषित करने के कुछ ही घंटे के भीतर हुआ। हमारे एक्टिंग चेयरमैन ने सबकुछ जोर जबरदस्ती से किया है। राशिद इस बात से नाराज हैं कि क्यों फिटनेस, प्रदर्शन और अनुशासन के आधार पर टीम नहीं चुनी गई।

बताते चले, अफगान क्रिकेट बोर्ड में अब तालिबान अपनी दखल कर सकता है। यही नहीं तालिबान के शामिल होने के बाद ही ओमान और यूएई में होने वाले आगामी टी20 वर्ल्ड कप के लिए अफगानिस्तान क्रिकेट बोर्ड ने 18 सदस्यीय टीम को चुना है। इसके अलावा टीम में 2 अन्य खिलाड़ियों को रिजर्व भी रखा गया है।  

लेकिन इस बीच टीम के कप्तान से कोई सलाह मशविरा नहीं किया गया। तो बस यही बात कहीं न कहीं राशिद को पसंद नहीं आई और उन्होंने कप्तान के पद से किनारा कर लिया है। वैसे तालिबान राज आने के बाद क्रिकेटर राशिद खान शुरुआत से ही इसका विरोध करते देखे गए हैं।