BREAKING NEWS

नफ्ताली बेनेट ने ली इजराइल के प्रधानमंत्री पद की शपथ ,नेतन्याहू का 12 साल का कार्यकाल खत्म◾LJP में टूट की खबर : पार्टी के 5 सांसदों ने छोड़ा चिराग पासवान का साथ, JDU में हो सकते हैं शामिल ◾दिल्ली और तमिलनाडु में ‘अनलॉक’ प्रक्रिया को मिली गति, दूसरे राज्यों में भी प्रतिबंधों में छूट◾राहुल ने बीजेपी पर साधा निशाना, कहा - Modi सरकार में झूठ और खोखले नारों का मंत्रालय सबसे कुशल◾गोवा सरकार ने कोरोना वायरस संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए 21 जून तक बढ़ाया गया कर्फ्यू◾मिल्खा सिंह की पत्नी का कोरोना से निधन, अंतिम संस्कार में नहीं हो पाए शामिल◾मुख्यमंत्री पद 5 साल के लिए शिवसेना के पास ही रहेगा, नहीं हो सकता कोई समझौता : राउत◾अगर किसी को भाजपा में रहना है तो उसे बलिदान देना होगा : दिलीप घोष◾राम जन्मभूमि ट्रस्ट पर लगे भ्रष्टाचार के गंभीर आरोप, 'AAP' ने की सीबीआई व ईडी से जांच कराने की मांग◾कांग्रेस जड़ता की स्थिति में नहीं, यह दिखाने के लिये पार्टी में व्यापक सुधार की जरूरत : कपिल सिब्बल◾कोटकपूरा गोलीकांड : SIT ने पंजाब के पूर्व CM प्रकाश सिंह बादल को किया तलब◾महाराष्ट्र : संजय राउत का बड़ा आरोप- पूर्ववर्ती भाजपा सरकार में शिवसेना के साथ किया जाता था ‘गुलामों’ की तरह व्यवहार ◾अगले 3 दिनों में राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को 4 लाख से अधिक कोरोना वैक्सीन मिलेगी ◾केजरीवाल का ऐलान- कल से खुलेंगे मॉल और बाजार, 50 प्रतिशत क्षमता के साथ मिली रेस्तरां खोलने की अनुमति ◾उत्तराखंड : कांग्रेस की वरिष्ठ नेता इंदिरा हृदयेश का निधन, दिल्ली में ली अंतिम सांस◾अमित मित्रा के आरोपों पर बोले अनुराग ठाकुर-वित्त मंत्री ने कभी अनसुनी नहीं की किसी की बात◾कोरोना आंकड़ों पर राहुल गांधी ने उठाए सवाल, पूछा- भारत सरकार का सबसे कुशल मंत्रालय कौन सा है◾यमुना एक्सप्रेस-वे पर भीषण सड़क हादसा, ट्रक में जा घुसी कार, 3 की मौत ◾देश में पिछले 24 घंटे में कोरोना के 80834 नए मामलों की पुष्टि, 3303 लोगों ने गंवाई जान ◾दुनियाभर में कोरोना महामारी का प्रकोप जारी, संक्रमितों का आंकड़ा 17.55 करोड़ से अधिक ◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

माइकल वॉन को विराट कोहली को लेकर विवादित बयान देना पड़ा महंगा, अब सलमान बट ने लगाई क्लास

इंग्लैंड के पूर्व कप्तान माइकल वॉन और पाकिस्तान क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान सलमान बट के बीच जुबानी जंग ने अब तूल पकड़ ली है। वॉन और बट दोनों ही एक दूसरे को जवाब देने के मामले में पीछे  नहीं हट रहें हैं। दरअसल ये मामला तब शुरू हुआ था जब वॉन ने विराट कोहली को लेकर जहर उगलते हुए एक विवादित बयान दिया,उन्होंने इस बार विराट की तुलना विलियमसन से की। लेकिन इस मुद्दे पर सलमान बट ने जब वॉन की बोलती बंद की, तो चिड़े हुए वॉन ने उन्हें मैच फिक्सिंग का किस्सा याद दिया दिया, जिसके बाद सलमान बट ने उन्हें मेंटल कॉन्स्टिपेशन से ग्रसित बताया है।

इसकी शुरुआत वॉन के न्यूजीलैंड के मेजबान प्रसारक स्पार्क स्पोर्ट को दिये गये साक्षात्कार से हुई जिसमें उन्होंने कहा कि यदि विलियमसन भारतीय होता तो उन्हें विश्व का सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ी आंका जाता। उन्होंने कहा, लेकिन ऐसा नहीं है और आपको यह कहने का अधिकार नहीं है कि विराट कोहली सर्वश्रेष्ठ नहीं है क्योंकि सोशल मीडिया पर लोग आप पर बरसने लगेंगे। इसलिए कुछ अधिक क्लिक और लाइक के लिये आप कहते हो कि विराट सर्वश्रेष्ठ है। केन विलियमसन भी सभी प्रारूपों में समान रूप से सर्वश्रेष्ठ हैं।

स्पाट फिक्सिंग मामले के कारण 2010 में 10 साल (जिसे बाद में पांच साल कर दिया गया) का प्रतिबंध झेलने वाले सलमान बट ने कोहली और विलियमसन के बीच गैरजरूरी तुलना करके विवाद पैदा करने के लिये वॉन की कड़ी आलोचना की। 

बट ने कहा, कोहली ऐसे देश से है जहां की जनसंख्या बहुत अधिक है और इसलिए उनके प्रशंसकों की संख्या अधिक है। इसके अलावा वर्तमान समय में दुनिया के किसी भी अन्य बल्लेबाज के नाम पर 70 अंतरराष्ट्रीय शतक दर्ज नहीं हैं। वह लंबे समय से बल्लेबाजी रैंकिंग में दबदबा बनाये हुए है क्योंकि उसका प्रदर्शन बेजोड़ रहा है। इसलिए तुलना का क्या मतलब बनता है।

उन्होंने कहा, और इन दोनों के बीच तुलना कौन कर रहा है? माइकल वॉन। वह इंग्लैंड के लिये अच्छा कप्तान रहा होगा लेकिन वह जिस तरह से बल्लेबाजी करते थे वह आंकड़ों में नहीं दिखता है। वह अच्छे टेस्ट बल्लेबाज थे लेकिन उन्होंने वनडे में एक भी शतक नहीं लगाया।

वॉन इससे चिढ़ गये और उन्होंने 2010 में इंग्लैंड के खिलाफ टेस्ट मैच में स्पॉट फिक्सिंग के बहाने बट की खिल्ली उड़ायी। वान ने ट्वीट किया,मुझे नहीं पता कि हेडलाइन क्या है लेकिन मैंने देखा है कि सलमान ने मेरे बारे में क्या कहा है। वह अपने विचार रखने के लिये स्वतंत्र है लेकिन मैं चाहता था कि 2010 में जब वह मैच फिक्स कर रहे थे तब भी उनके दिमाग में इस तरह के स्पष्ट विचार होते। फिलहाल मौजूदा हालात देखकर तो सिर्फ यही लग रहा है कि इन दोनों के बीच जुबानी जंग इतनी जल्दी खत्म नहीं होने वाली है।