BREAKING NEWS

जिनके घर शीशे के होते हैं, वो दूसरों पर पत्थर नहीं फेंका करते.....सिद्धू का केजरीवाल पर तंज ◾उमर अब्दुल्ला ने कांग्रेस की चुप्पी पर उठाए सवाल, बोले- अनुच्छेद 370 की बहाली के लिए NC अपने दम पर लड़ेगी◾चीन के राष्ट्रपति शी चिनफिंग ने कहा- भविष्य में युद्ध जीतने के लिए नई प्रतिभाओं की भर्ती की जरूरत◾शशि थरूर की महिला सांसदों सग सेल्फी हुई वायरल, कैप्शन लिखा- कौन कहता है लोकसभा आकर्षक जगह नहीं?◾ओवैसी बोले- CAA को भी रद्द करे मोदी सरकार..पलटवार करते हुए केंद्रीय मंत्री ने कहा- इनको कोई गंभीरता से नहीं लेता◾ 'ओमीक्रोन' के बढ़ते खतरे के चलते जापान ने विदेशी यात्रियों के प्रवेश पर प्रतिबंध लगाने की घोषणा की◾IND VS NZ के बीच पहला टेस्ट मैच हुआ ड्रा, आखिरी विकेट नहीं ले पाई टीम इंडिया ◾विपक्ष को दिया बड़ा झटका, एक साथ किया इतने सारे सांसदों को राज्यसभा से निलंबित◾तीन कृषि कानून: सदन में बिल पास कराने से लेकर वापसी तक, जानिये कैसा रहा सरकार और किसानों का गतिरोध◾कृषि कानूनों की वापसी पर राहुल का केंद्र पर हमला, बोले- चर्चा से डरती है सरकार, जानती है कि उनसे गलती हुई ◾नरेंद्र तोमर ने कांग्रेस पर लगाया दोहरा रुख अपनाने का आरोप, कहा- किसानों की भलाई के लिए थे कृषि कानून ◾ तेलंगाना में कोविड़-19 ने फिर दी दस्तक, एक स्कूल में 42 छात्राएं और एक शिक्षक पाए गए कोरोना संक्रमित ◾शीतकालीन सत्र में सरकार के पास बिटक्वाइन को करेंसी के रूप में मान्यता देने का कोई प्रस्ताव नहीं: निर्मला सीतारमण◾विपक्ष के हंगामे के बीच केंद्र सरकार ने राज्यसभा से भी पारित करवाया कृषि विधि निरसन विधेयक ◾कृषि कानूनों की वापसी का बिल लोकसभा में हुआ पारित, टिकैत बोले- यह तो होना ही था... आंदोलन रहेगा जारी ◾बिना चर्चा कृषि कानून बिल वापसी को विपक्ष ने बताया लोकतंत्र के लिए काला दिन, मिला ये जवाब ◾प्रदूषण के मद्दे पर SC ने अपनाया सख्त रुख, कहा- राज्य दिशानिर्देश नहीं मानेंगे, तो हम करेंगे टास्क फोर्स का गठन ◾कांग्रेस का केंद्र पर निशाना -बिल वापसी नहीं हुई चर्चा क्योंकि सरकार को हिसाब और जवाब देना पड़ता◾पीएम मोदी ने निभाया किसानों को दिया वादा, लोकसभा में हंगामे के बीच पास हुआ कृषि कानून वापसी बिल ◾प्रधानमंत्री मोदी की अपील का नहीं हुआ विपक्ष पर असर, हंगामेदार हुई दोनों सदनों की शुरुआत ◾

साव, इशांत को मौका मिलेगा : विराट कोहली

भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान विराट कोहली ने बुधवार को संकेत दिये कि वरिष्ठ तेज गेंदबाज इशांत शर्मा और युवा सलामी बल्लेबाज पृथ्वी साव न्यूजीलैंड के खिलाफ पहले टेस्ट मैच में अंतिम एकादश में शामिल हो सकते हैं। बुधवार को हुए नेट अभ्यास पर गौर करें तो शुक्रवार से शुरू हो रही टेस्ट सीरीज के पहले मैच में ऋद्धिमान साहा टीम में विकेटकीपर के रूप में ऋषभ पंत की जगह ले सकते हैं।  जसप्रीत बुमराह, मोहम्मद शमी और इशांत शर्मा टीम के तीन विशेषज्ञ तेज गेंदबाज हो सकते हैं जबकि छठे स्थान के बल्लेबाज हनुमा विहारी पांचवें गेंदबाज की भूमिका निभा सकते हैं।

रविचंद्रन अश्विन अकेले विशेषज्ञ फिरकी गेंदबाज हो सकते हैं जबकि रविंद्र जडेजा की हरफनमौला प्रतिभा को भी नजरअंदाज नहीं किया जा सकता है। इशांत शर्मा रणजी ट्रॉफी के दौरान टखने में चोट लगने के बाद तीन सप्ताह से टीम से बाहर थे। उन्होंने नेट में सधी गेंदबाजी की और बल्लेबाजों को गति एवं उछाल से हैरान कर उन्होंने सराहना भी बटोरी। कोहली ने कहा कि वह (इशांत) बिल्कुल सामान्य दिखे और चोट लगने से पहले की तरह ही गेंदबाजी करते दिखे। वह फिर से अच्छी जगहों पर गेंद डालने लगे हैं। वह पहले भी न्यूजीलैंड में टेस्ट क्रिकेट खेल चुके हैं, अत: उनका अनुभव हमारे लिये लाभदायक होगा। 

उन्हें अच्छी गति से गेंदबाजी करते और अच्छी जगहों पर गेंद डालते देखना वास्तव में सुखद है। कप्तान ने कहा कि टीम साव की नैसर्गिक बल्लेबाजी में बदलाव नहीं करना चाहेगी। यह इस बात के स्पष्ट संकेत हैं कि शुभमन गिल को बेंच पर बैठे रहना पड़ सकता है। कोहली ने कहा कि पृथ्वी एक प्रतिभावान खिलाड़ी है और उसके पास खेलने का अपना तरीका है। हम चाहेंगे कि वह अपना सहज खेल जारी रखे और नैसर्गिक तरीके से खेलता रहे। इन लड़कों के ऊपर किसी भी तरीके से बेहतर प्रदर्शन करने जैसा कोई बोझ नहीं है। कोहली ने कहा कि उन्हें विदेश में अच्छा खेलने को लेकर कोई घबराहट नहीं है। मयंक ने जिस तरह से ऑस्ट्रेलिया में प्रदर्शन किया था, पृथ्वी भी न्यूजीलैंड में ठीक वैसा कर सकता है। उन्होंने कहा कि बिना डर के खेलने वाले कुछ खिलाड़ियों का होना पूरी टीम का मनोबल बढ़ाता है, इससे हमें ऐसी शुरुआत मिलती है जो टीम चाहती है और विपक्ष से किसी भी तरह से इसपर असर नहीं पड़ता है। 

कप्तान ने तीन मैचों की एकदिवसीय सीरीज में भारत के खराब प्रदर्शन को परे हटाने की कोशिश की।उन्होंने कहा कि पृथ्वी, मुझे लगता है कि आप उसे अपेक्षाकृत कम अनुभवी कह सकते हैं, और मयंक, मैं उसे कम अनुभवी कहना पसंद नहीं करूंगा क्योंकि उसने पिछले साल काफी रन बनाये हैं।अत: वह समझता है कि टेस्ट क्रिकेट में किस तरह का खेल दिखाना होता है। उन्होंने कहा कि मुझे लगता है कि सफेद गेंद के खेल में हम बहुत कुछ करने की कोशिश करते हैं, लेकिन जब आप लाल गेंद वाली क्रिकेट खलते हैं, आप अनुशासित बल्लेबाजी करने लगते हैं, जो निश्चित तौर पर इस अवस्था में उसके ऊपर ठीक लगता है।