कजान : पहले मैच में मैक्सिको से हार के बाद दूसरे मैच में टोनी क्रूस के गोल के रूप संजीवनी पाने वाले जर्मनी की आगे की डगर ग्रुप एफ की अन्य टीमों की तरह अगर-मगर में फंसी हुई है और ऐसे में दक्षिण कोरिया के खिलाफ यहां होने वाले मैच में छोटी सी भी चूक मौजूदा चैंपियन को भारी पड़ सकती है। क्रूस ने स्वीडन के खिलाफ दूसरे हाफ के इंजुरी टाइम के पांचवें मिनट में गोल करके जर्मनी को 2-1 से जीत दिलायी लेकिन टीम को अब भी मैक्सिको के खिलाफ 0-1 से हार कचोट रही है। जोकिम लियु की टीम को अगर विश्व कप के पहले दौर में बाहर होने वाली मौजूदा चैंपियन टीमों की सूची में छठे स्थान पर नाम दर्ज कराने से बचना है तो उसे दक्षिण कोरिया के खिलाफ पिछली गलतियों को भुलाकर नये सिरे से शुरुआत करनी होगी। जर्मनी की टीम 1938 के बाद से पहले दौर से बाहर नहीं हुई है लेकिन ग्रुप एफ में स्थिति बड़ी जटिल बनी हुई है।

मैक्सिको के छह अंक हैं लेकिन उसकी नाकआउट में जगह पक्की नहीं है जबकि दक्षिण कोरिया का एक भी अंक नहीं है लेकिन वह भी अंतिम-16 में पहुंचने की दौड़ में बना हुआ है। जर्मनी और स्वीडन दोनों के तीन-तीन अंक हैं और जीत दर्ज करने पर भी उनका अंतिम-16 में स्थान तय नहीं हो पाएगा। ऐसे में उन दोनों की निगाह बड़ी जीत दर्ज करने पर लगी है। जर्मनी अगर दक्षिण कोरिया को दो गोल के अंतर से हरा देता है तो वह अंतिम-16 में पहुंच जाएगा। दक्षिण कोरिया ने भले मैक्सिको से 1-2 और स्वीडन से 0-1 से हार गया लेकिन वह भी बड़ी जीत दर्ज करने की कोशिश करेगा।

अगर स्वीडन हार जाता है और दक्षिण कोरिया बड़ी जीत दर्ज करता है तो यह एशियाई टीम बेहतर गोल अंतर से क्वालीफाई कर जाएगी। अगर जर्मनी और स्वीडन दोनों ड्रा खेलते हैं तो फिर जिसके अधिक गोल होंगे तो वह टीम आगे बढ़ेगी। अगर गोल अंतर समान रहता है तो फिर जर्मनी अंतिम-16 में पहुंचेगा क्योंकि उसने पिछले मैच में स्वीडन को हराया था। जर्मनी की निगाह फिर से मार्को रेयुस और क्रूस पर टिकी रहेगी जिन्होंने पिछले मैच में गोल दागे थे। रेयुस भी जानते हैं कि उनकी टीम को अब बड़े अंतर से जीत दर्ज करनी होगी। उन्होंने कहा कि हम अपनी जिम्मेदारी निभा रहे हैं और हमें हर हाल में यह मैच जीतना होगा केवल 1-0 से नहीं बल्कि बड़े अंतर से। जर्मनी को फिर से आक्रामक खेल दिखाना होगा लेकिन दक्षिण कोरिया भी उसकी चुनौती के लिये तैयार है।

देश और दुनिया का हाल जानने के लिए जुड़े रहे पंजाब केसरी के साथ।