नई दिल्ली : विश्व कप शुरू होने में अब जबकि केवल ढाई महीने का समय बचा है तब जिस तरह की परिस्थितियां नजर आ रही है उसे देखकर लगता है कि भारतीय टीम प्रबंधन बल्लेबाजी लाइनअप में सबसे महत्वपूर्ण चौथे स्थान को लेकर असंमजस में है क्योंकि पिछले चार साल में उसने जिन 11 बल्लेबाजों को (आस्ट्रेलिया के खिलाफ पांचवें वनडे से पूर्व) इस स्थान पर आजमाया वे अपेक्षाओं पर खरे नहीं उतरे।

भारत विश्व कप से पहले अपना आखिरी मैच खेलने के लिये फिरोजशाह कोटला मैदान पर उतरा तो उसने चौथे नंबर पर एक नये बल्लेबाज को आजमाना उचित समझा। भारत मैच में चार विशेषज्ञ बल्लेबाजों के साथ उतरा लेकिन इनमें विकेटकीपर ऋषभ पंत भी शामिल थे जो बाद में चौथे नंबर पर बल्लेबाजी के लिये उतरे। यह पहला अवसर है जबकि पंत इस नंबर पर बल्लेबाजी करने के लिये आये।

भारत ने शुरूआती लाइनअप में हालांकि विजय शंकर को चौथे नंबर पर रखा था लेकिन शिखर धवन और विराट कोहली के जल्दी आउट होने के कारण उसे अपना निर्णय बदलना पड़ा। भारत ने विश्व कप 2015 के बाद जिन बल्लेबाजों को चौथे नंबर पर आजमाया है उनमें से सर्वाधिक 14 मैच अंबाती रायुडु ने खेले हैं।

आस्ट्रेलिया के खिलाफ श्रृंखला से पहले रायुडु की नंबर चार पर जगह पक्की लग रही थी लेकिन पहले तीन मैचों में वह केवल 33 रन बना पाये और टीम प्रबंधन ने 30 मई से ब्रिटेन में शुरू होने वाले विश्व कप से पहले के आखिरी दो मैचों में इस नंबर पर किसी अन्य खिलाड़ी को आजमाने का फैसला किया।