BREAKING NEWS

IPL नीलामी से पहले कोहली, रोहित, धोनी रिटेन ; दिल्ली की कमान संभालेंगे ऋषभ पंत, पढ़ें रिटेंशन की पूरी लिस्ट ◾गृह मंत्री अमित शाह दो दिन के राजस्थान दौरे पर जाएंगे, BSF जवानों की करेंगे हौसला अफजाई◾पंजाबः AAP नेता चड्ढा ने सभी राजनीतिक दलों पर लगाया आरोप, कहा- विधानसभा चुनाव में केजरीवाल बनाम सभी पार्टी होगा◾'ओमिक्रॉन' के बढ़ते खतरे के बीच क्या भारत में लगेगी बूस्टर डोज! सरकार ने दिया ये जवाब ◾2021 में पेट्रोल-डीजल से मिलने वाला उत्पाद शुल्क कलेक्शन हुआ दोगुना, सरकार ने राज्यसभा में दी जानकारी ◾केंद्र सरकार ने MSP समेत दूसरे मुद्दों पर बातचीत के लिए SKM से मांगे प्रतिनिधियों के 5 नाम◾क्या कमर तोड़ महंगाई से अब मिलेगाी निजात? दूसरी तिमाही में 8.4% रही GDP ग्रोथ ◾उमर अब्दुल्ला का BJP पर आरोप, बोले- सरकार ने NC की कमजोरी का फायदा उठाकर J&K से धारा 370 हटाई◾LAC पर तैनात किए गए 4 इजरायली हेरॉन ड्रोन, अब चीन की हर हरकत पर होगी भारतीय सेना की नजर ◾Omicron वेरिएंट को लेकर दिल्ली सरकार हुई सतर्क, सीएम केजरीवाल ने बताई कितनी है तैयारी◾NIA की हिरासत मेरे जीवन का सबसे ‘दर्दनाक समय’, मैं अब भी सदमे में हूं : सचिन वाजे ◾भाजपा की चिंता बढ़ा सकता है ममता का मुंबई दौरा, शरद पवार संग बैठक के अलावा ये है दीदी का प्लान ◾ओमीक्रोन के बढ़ते खतरे पर गृह मंत्रालय का एक्शन - कोविड प्रोटोकॉल गाइडलाइन्स 31 दिसंबर तक बढा़ई ◾निलंबन वापसी पर केंद्र करेगी विपक्ष से बात, विधायी कामकाज कल तक टालने का रखा गया प्रस्ताव, जानें वजह ◾राहुल के ट्वीट पर पीयूष गोयल ने निशाना साधते हुए पूछा तीखा सवाल, खड़गे द्वारा लगाए गए आरोपों की कड़ी निंदा की ◾कश्मीर में सामान्य स्थिति लाने के लिए बहाल करनी होगी धारा 370 : फारूक अब्दुल्ला◾स्वास्थ्य मंत्री मंडाविया ने बताया - भारत में अब तक ओमिक्रॉन वेरिएंट का कोई मामला नहीं मिला◾मप्र में शिवराज सरकार के लिए मुसीबत का सबब बने भाजपा के लिए नेताओं के विवादित बयान ◾UP: विधानसभा Election को सियासी धार देने के लिए BJP करेगी छह चुनावी यात्राएं, ये वरिष्ठ नेता होंगे सम्मिलित ◾UP चुनाव को लेकर मायावती खेल रही जातिवाद का दांव, BJP पर लगाए मुसलमानों के उत्पीड़न जैसे कई आरोप ◾

खेलते खेलते क्यों राजनीति खेल गई सायना!

सायना नेहवाल खेलते खेलते राजनीति में कूद पड़ी है। 2012 के लंदन ओलंपिक में कांस्य पदक जीतने वाली सायना को आठ साल बाद 2020 के टोक्यो ओलंपिक में भी पदक की दावेदार के  रूप में देखा जाता रहा है।  लेकिन खेल की समझ और ओलंपिक के मायने समझने वाले इसलिए हैरान हैं क्योंकि सायना पिछले कुछ समय से टाप फार्म में नहीं चल रही है।  

इसके मायने यह नहीं कि उसमें अब पदक जीतने की क़ाबलियत नहीं रही। दरअसल, उसकी स्थिति अब ऐसी है कि खिताब जीतना तो दूर ओलंपिक क्वालीफायर के बारे में भी शायद ही कोई सोच सकता है।  जो खिलाड़ी लगातार नौ बड़े आयोजनों में पहले राउंड में हार कर बाहर हो जाए और जिसकी वर्तमान विश्व  रैंकिंग 22 वें स्थान की हो तो उसे ओलंपिक खेलने का हक भी शायद ही मिल पाए।  

नियमों के हिसाब से 16-16 पुरुष और महिला खिलाड़ी ओलंपिक में खेलेंगे| अर्थात सायना को आगामी कुछ आयोजनों में चमत्कारी प्रदर्शन करना होगा और कई बड़े नाम वाली लड़कियों को परास्त करना है।  यह ना भूलें कि विश्व चैम्पियन और रियो ओलंपिक की रजत पदक विजेता सिंधु भी काफ़ी पिछड़ गई हैं| फिरभी छठे रैंकिंग की सिंधु को शायद ही कोई रोक पाए।

जहां तक सायना की बात है तो दलगत राजनीति में उतरने का उसका फैसला बताता है कि शायद वह यह मान बैठी कि उसके लिए अब मौके ज्यादा नहीं हैं और सही समय पर राजनीति का दामन थामना ही बेहतर रहेगा। डबल्स खिलाड़ी रही ज्वाला गुट्टा ने तो उसके फैसले पर  तंज कसा है और यहां तक कह डाला 'बेवजह खेलना शुरू किया और बेवजह राजनीति ज्वाइन कर ली'। लेकिन सायना के पिता कहते हैं कि उनकी बेटी टोक्यो ओलंपिक में खेलेगी और पदक भी जीतेगी।

 खैर कुछ एक महीनों में पता चल जाएगा कि सायना कब तक जारी रख पाएगी। लगातार हार का सिलसिला थम नहीं पा रहा। बेशक, वह अपने फैसले लेने के लिए स्वतंत्रहै। लेकिन उसकी ओलंपिक तैयारियों पर देश ने करोड़ों खर्च किये हैं। पहले शादी और फिर राजनीति में प्रवेश ने निश्चित तौर पर उसके ओलंपिक क्वालीफायर को  चुनौतीपूर्ण बना दिया है। उपर से खराब फार्म से भी जूझना पड़ रहा है। उसके प्रशंसक अब भी उम्मीद कर रहे हैं।

 लेकिन भारतीय बैडमिंटन से जुड़े दिग्गज कह रहे हैं कि सायना को शायद पता चल गया है कि आगे की राह  मुश्किल है और अब राजनीति में खेल से बेहतर मौके हैं। वरना एन ओलंपिक से पहले ऐसा कदम नहीं उठाती।