BREAKING NEWS

कोरोना संकट के बीच वाराणसी में स्वास्थ्य केंद्र प्रभारियों के सामूहिक इस्तीफे से मचा हड़कंप ◾मथुरा-वृन्दावन में धूम धाम के साथ मनाई गयी कृष्ण जन्माष्टमी लेकिन श्रद्धालुओं बिना सूनी रहीं सड़कें ◾महाराष्ट्र में कोरोना वायरस संक्रमण के 12,712 नए मामले, 344 मरीजों ने गंवाई जान ◾भाजपा विधायक के साथ थाने में मारपीट पर यूपी सरकार का एक्शन, थानाध्यक्ष को निलंबित करने के आदेश ◾कांग्रेस के राष्ट्रीय प्रवक्ता राजीव त्यागी का दिल का दौरा पड़ने से निधन, शाम 5 बजे की थी लाइव डिबेट ◾दिल्ली : पिछले 24 घंटों में कोरोना के 1113 नए केस की पुष्टि, संक्रमितों की संख्या 1 लाख 49 हजार के करीब ◾अमेरिका के साथ द्विपक्षीय संबंधों की समीक्षा में पाकिस्तान ने की भारत के साथ तनाव कम कराने की अपील ◾भारत में कोरोना से स्वस्थ होने की दर 70 प्रतिशत से अधिक हुई, एक दिन में रिकॉर्ड 56,110 मरीज हुए ठीक ◾सुशांत मामले में बोले शरद पवार-मुझे मुंबई पुलिस पर पूरा भरोसा, CBI जांच का नहीं करूंगा विरोध◾बेंगलुरू हिंसा को लेकर कांग्रेस ने बीजेपी पर साधा निशाना, कहा-क्या सो रही थी येदियुरप्पा सरकार◾NCP नेता माजिद मेमन का ट्वीट, सुशांत अपने जीवनकाल में उतने प्रसिद्ध नहीं थे, जितने मरने के बाद◾बेंगलुरु हिंसा के दौरान मुस्लिम युवाओं ने पेश की एकता की मिसाल, मानव श्रृंखला बनाकर उपद्रवियों से बचाया मंदिर◾सुशांत सिंह केस : माफी की मांग पर बोले राउत-मैंने जो कहा जानकारी के आधार पर कहा◾GDP को लेकर राहुल का केंद्र सरकार पर तंज- ‘मोदी है तो मुमकिन है’◾बेंगलुरु हिंसा : शहर में धारा 144 लागू, 110 लोग गिरफ्तार, CM येदियुरप्पा ने की शांति की अपील◾हम अपने सभी मतभेदों को दूर करके राज्य की सेवा के संकल्प को पूरा करेंगे : CM गहलोत◾कोविड-19 : देश में पिछले 24 घंटे में 60 हजार से अधिक नए मामलों की पुष्टि, संक्रमितों का आंकड़ा 23 लाख के पार◾दुनियाभर में कोरोना संक्रमितों का आंकड़ा 2 करोड़ 20 लाख के पार, अमेरिका में 51 लाख से अधिक मामले ◾US चुनाव में हुई भारत की एंट्री, भारतीय मूल की सीनेटर कमला हैरिस को चुना गया VP कैंडिडेट◾J&K में एनकाउंटर के दौरान सुरक्षाबलों ने एक आंतकवादी को मार गिराया, एक जवान भी हुआ शहीद ◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

क्या पिंकी के बाद जरीन का करियर भी होगा तबाह?

नई दिल्ली : इसमें दो राय नहीं कि मैरी कॉम ना सिर्फ भारत की अपितु विश्व मुक्केबाजी में सबसे अनुभवी, सबसे बड़ी उम्र की और सबसे ज़्यादा कामयाब मुक्केबाज है। वह तीन बच्चों की मां होते हुए भी किसी भी युवा मुक्केबाज़ को सबक सिखाने का माद्दा रखती है। लेकिन पता नहीं कि वह क्यों  अपने से कहीं छोटी और उभरती मुक्केबाज निकहत जरीन से टकराना नहीं चाहती। क्या वह जरीन से  डरती है? दरअसल मैरी और जरीन  51 किलो वर्ग में ओलंपिक दावेदारी चाहती हैं। फिलहाल, कोई भी क्वालीफाई नहीं कर पाया है और अगला ट्रायल फरवरी 2020 में होना है, जिसके लिए जरीन कह रही है कि पहले मैरी और उसका मुकाबला हो जाए और जो जीतेगा उसे ट्रायल के लिए भेजा जाए। 

लेकिन मुक्केबाजी फेडरेशन पहले ही मैरी के हक में फ़ैसला कर चुकी है और उसके बेहतरीन रिकार्ड को देखते हुए ट्रायल की ज़रूरत नहीं समझती। उधर जरीन लगातार दबाव बना रही है। ऐसा स्वाभाविक भी है। जूनियर विश्व चैम्पियन में दम-खम की कमी नहीं है उसने विश्व चैंपियनशिप से पहले भी मैरी से भिड़ने का दावा पेश किया था पर फेडरेशन नहीं मानी। छह बार विश्व खिताब जीतने वाली मैरी काम कांस्य पदक ही अर्जित कर पाई। अर्थात नियमानुसार उसे अब ट्रायल से गुज़रना चाहिए। ऐसा बॉक्सिंग फेडरेशन का नियम है। 

विश्व चैंपियनशिप में गोल्ड और सिल्वर जीतने वाली मुक्केबाजों को सीधे ओलंपिक टिकट मिलना था। इस कसौटी पर मैरी खरी नहीं रही। देखा जाए तो जरीन अपनी जगह एकदम ठीक है। आम खेल जानकार और पूर्व मुक्केबाज मानते हैं कि मैरी काम के लिए अलग से नियम नहीं होना चाहिए। बेशक, वह चैम्पियन और राज्य सभा सांसद है भारत और दुनिया भर में उसका बड़ा सम्मान है पर नियम तो सभी के लिए एक समान होने चाहिए। यह ना भूलें कि मेरी काम की बादशाहत के चलते पिंकी जांगडा जैसी प्रतिभा पहले ही कुर्बान हो चुकी है। 

यदि जरीन कि अनदेखी हुई तो मेरी की उत्तराधिकारी खोजना आसान नहीं होगा। इस मुद्दे पर भारत के एकमात्र स्वर्ण विजेता निशानेबाज अभिनव बिंद्रा ने भी ट्रायल के पक्ष में बयान देकर मामले को गरमा दिया है। हालांकि खेल मंत्रालय ने अपना पल्ला झाड़ते हुए हल के लिए गेंद फ़ेडेरेशन के कोर्ट में डाल दी है। बेशक मैरीकाम के कद को देखते हुए सभी डरे हुए हैं। लेकिन जरीन, उसके परिजन और चाहने वालों को ज़रा भी खौफ नहीं है। वैसे तो जरीन भी अपनी सीनियर का सम्मान करती है पर वह मुकाबला चाहती है। उसे रोका गया तो यह सज़ा भी नरसिंह जैसी होगी। फ़र्क सिर्फ़ यह है कि निर्दोष चैम्पियन का ओलंपिक सपना टूट जाएगा।