15 साल बाद दादा ने करा ऐसा काम लोगों की उड़ी रातों की नींद


टीम इंडिया के पूर्व कप्तान सौरव गांगुली ने 15 सालों में पहली बार किया ट्रेन में सफर। गांगुली ने यह सफर किसी खास बात के लिए किया है। गागुंली ने ट्रेन में यात्रा बालुरघाट में अपनी 8 फीट उंची प्रतिमा का अनावरण करने के लिए गांगुली ने यह ट्रेन की यात्रा की। आज सुबह मालदा में पदाटिक एक्सप्रेस ली। तो उनके फैंस उनका इंतजार कर रहे थे। इसके बाद ही दादा बालुरघाट के लिए रवाना हो गए।

देखिए सौरव गांगुली का ट्रेन सफर

दादा ने बताया कि 2001 के बाद वह अब ट्रेन में यात्रा कर रहें हैं। यह लगभग 15 साल बाद हुआ। उन्होंने बालुरघाट पर अपनी प्रतिमा के साथ कुछ तस्वीरे लेकर ट्वीट भी किया। ‘यह मेरी तरह दिखता है’।

यह प्रतिमा 2003 में खेले उनके ऑस्ट्रेलिया में खेले ब्रिसबेन टेस्ट की याद दिलाती है। गांगुली ने टेस्ट में ऑस्टे्रलिया के खिलाफ सेंचुरी बनाई थी और सेंचुरी के बाद गांगुली ने बैट उठा कर अभिवादन किया था।