चाइनीज माल ज्यादा देर नहीं चलता: विजेन्दर


vijender singh

नयी दिल्ली : नॉकआउट किंग बन चुके भारत के प्रो मुक्केबाज विजेन्दर सिंह ने अपने अगले प्रतिद्वंद्वी चीन के नंबर एक मुक्केबात्र जुल्पिकार मैमाताली की चुनौती को उभरने से पहले ही यह कहकर ध्वस्त कर दिया कि चाइनीज माल ज्यादा देर नहीं चलता। प्रो मुक्केबात्री में अपने आठ मुकाबलों में सात नॉकआउट से जीत चुके विजेन्दर को पांच अगस्त को मुंबई में बैटलग्राउंड एशिया में जुल्पिकार से भिडऩा है जो उनके करियर का नौवां मुकाबला होगा। इस मुकाबले से पहले विजेन्दर का प्लेटिनम हैवी ड्यूटी सीमेंट के साथ सोमवार को एक करार हुआ और इसके साथ ही प्लेटिनम हैवी ड्यूटी सीमेंट बैटलग्राउंड एशिया का टाइटल प्रायोजक भी बन गया। विजेन्दर इस कंपनी के नये ब्रांड एम्बेसेडर बन गये हैं।

विजेन्दर ने अपने अगले मुकाबले के चीनी प्रतिद्वंद्वी के हाल के जोरदार दावों को हवा में उड़ाते हुये कहा चाइनीत्र माल ज्यादा देर नहीं चलता है। मैं उसे कुछ राउंड में ही निपटा देने की कोशिश करूंगा। मुझे यकीन है कि मेरे पंचों के सामने वह ज्यादा देर नहीं टिक पाएगा जुल्पिकार के उनसे नौ साल युवा होने के बारे में पूछे जाने पर विजेन्दर ने कहा इस बात से कोई फर्क नहीं पड़ता कि वह मुझसे उम, में नौ वर्ष कम है। जब आप रिंग में उतरते हैं तो मुकाबले में आपका अनुभव काम आता है। वह कितना युवा है इसका मुझे कोई फर्क नहीं पड़ता है। मैं उसे पीटने के लिये तैयार हूं।

डब्ल्यूबीओ एशिया पैसिफिक सुपर मिडलवेट चैंपियन विजेन्दर ने विश्व के पूर्व नंबर एक मुक्केबाज तंजानिया के फ्रांसिस चेका को हराकर अपने खिताब का बचाव किया था जो उन्होंने 2016 में आस्ट्रेलिया के कैरी होप को हराकर जीता था। विजेन्दर के खाते में अब तक 30 राउंड आ चुके हैं और बैटलग्राउंड एशिया में वह जुल्पिकार के खिलाफ उतरेंगे। इस मुकाबले के लिये मुंबई के 5000 दर्शकों की क्षमता वाले स्टेडियम की अधिकतर टिकटें बिक चुकी हैं। विजेन्दर का नौवां मुकाबला हालांकि गत एक अप्रैल को होना था लेकिन तकनीकी कारणों से वह मुकाबला रद्द कर दिया गया था और अब पांच अगस्त को वह अपना नौवां मुकाबला लडऩे उतरेंगे। इस अंतराल के बारे में पूछने पर विजेन्दर ने कहा मुझपर इसका कोई असर नहीं पड़ा। तकनीकी कारणों से वह मुकाबला नहीं हो पाया था। मैं अपनी तैयारी करता रहा और जिम में खुद को तैयार करता रहा।

भारतीय मुक्केबाज के विश्व खिताब के लिये उतरने की संभावनाओं के बारे में पूछने पर विजेन्दर के प्रमोटर आईओएस बाङ्क्षक्सग प्रमोशंस के नीरव तोमर ने कहा अभी इसमें समय है। विजेन्दर को अभी कम से कम पांच छह मुकाबले और लडऩे होंगे जिसके बाद ही वह डब्ल्यूबीओ विश्व खिताब के लिये अपना दावा पेश कर पाएंगे। तोमर ने साथ ही कहा विजेन्दर को कॉमनवेल्थ और इंटरकांटिनेंटल मुकाबले भी लडऩे होंगे। यह एक क्रम है जिससे विजेन्दर को गुत्ररना होगा। मुझे लगता है कि वह 2018 की समाप्ति तक विश्व खिताब के लिये उतर पाएंगे। बैटलग्राउंड एशिया में भारत के दो अनुभवी मुक्केबाज और ओलंपियन अखिल कुमार तथा जितेंद, कुमार भी अपना प्रो मुक्केबाजी पदार्पण करेंगे। इनके प्रतिद्वंद्वियों की भी घोषणा हो चुकी है। इनके अलावा नीरज गोयत, प्रदीप खरेरा, धर्मेंद, ग्रेवाल, कुलदीप ढांडा और आसिफ खान भी बैटलग्राउंड एशिया में अपनी चुनौती रखेंगे। नौ साल बाद यह पहला मौका होगा जब विजेन्दर, अखिल और जितेंद, एक साथ रिंग में उतरेंगे।