कप्तान कोहली के नेतृत्व में भारतीय टीम लगातार दमदार प्रदर्शन करती रही है। टीम में चयन और सीनियर खिलाड़ियों को आराम दिए जाने के मामले में कप्तान विराट कोहली के साथ टीम चयन समिति पर भी सवाल उठते रहे है। कप्तान पर उठते सवलों के बीच तेज गेंदबाज मोहम्मद शमी ने बयान दिया है। भारतीय टीम के गेंदबाज मोहम्मद शमी ने कप्तान विराट कोहली की घरेलू सीरीज में रोटेशन पॉलिसी का समर्थन किया है। मोहम्मद शमी ने कहा है कि इससे उनकी तरह के खिलाड़ियों को अपने आप को लंबी अवधि के लिए तरोताजा रखने का पर्याप्त समय मिलता है। शमी ने कहा, ‘मैं पूरी तरह से कोहली की रोटेशन पॉलिसी का समर्थन करता हूं. इससे मुझे जैसे खिलाड़ियों को सिर्फ टेस्ट ही नहीं, बाकी के प्रारूपों के लिए भी रेस्ट करने का मौका मिलता है।’

श्रीलंका के खिलाफ खेली जाने वाली टेस्ट सीरीज में रविचंद्रन अश्विन और रवींद्र जडेजा जैसे खिलाड़ियों की वापसी हुई, जिन्हें न्यूजीलैंड के खिलाफ खेली जाने वाली टी-20 सीरीज में नहीं चुना गया। ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ खेली गई सीरीज में शमी भी टीम का हिस्सा थे। उन्होंने इस सीरीज में सिर्फ एक मैच बेंगलुरू में खेला था। जिसमे वह महंगे साबित हुए थे और एक भी विकेट नहीं ले पाए थे।

उमेश यादव और शमी दोनों टेस्ट क्रिकेट ज्यादा खेलते हैं, जबकि भुवनेश्वर कुमार और जसप्रीत बुमराह वनडे में टीम की पहली पसंद हैं। इस रोटेशन प्रणाली पर पिछले दिनों टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली ने कहा था कि टीम मैनेजमेंट एक ऐसा गेंदबाजी पूल चाहता है, जो हर परिस्थिति के लिए तैयार रहे। खासकर लंबे समय तक टीम फिट रहे, इसलिए जरूरी है कि टीम के पास ऐसा पूल मौजूदी हो।