धोनी ने बनाया भारतीय क्रिकेट इतिहास का दूसरा सबसे धीमा अर्धशतक, 16 साल पुराना रकॉर्ड टूटा


भारतीय बल्लेबाज लंबे शॉट्स लगाने के लिए जाने जाते हैं। इतिहास गवाह है कि भारतीय खिलाड़ियों का फोकस दौड़कर रन बनाने से ज्यादा बाउंड्री मारने पर होता है और भारतीय क्रिकेट टीम के धुआंधार बल्लेबाज महेंद्र सिंह धोनी को मैच फिनिशर के रूप में पूरा विश्व जानता है, लेकिन इस रविवार वेस्ट इंडीज के खिलाफ चौथे एक दिवसीय मैच में धोनी का खेलने का तरीका बिलकुल विपरीत था। इस मैच में भारत वेस्टइंडीज के खिलाफ 11 रनों की हार से शर्मिंदा हो गया।

                                                                                                   source

बल्लेबाजों ने बेहद धीमी गति से रन बनाते हुए 190 के निर्णायक लक्ष्य को एक मुश्किल काम की तरह बनाया। दिनेश कार्तिक के आउट होने के बाद 13 वें ओवर में बल्लेबाजी करने आए पूर्व कप्तान 108 गेंद खेलकर 46 वें ओवर में पचास रन बनाये। इस इनिंग में धोनी की 70 बॉल्स डॉट थी। … धोनी 108 गेंदों में एक ओडीआई पचास सुनने में बड़ा अटपटा सा लगता है। इस इनिंग में धोनी की 70 बॉल्स डॉट थी।

                                                                                                    source

विकेट के लगातार गिरने से प्रभावित पारी की वजह से 16 वर्षों में धोनी की यह एक भारतीय द्वारा सबसे धीमा एकदिवसीय पचास है। धोनी 114 गेंदों में 53 रन बनाकर आउट हो गए। यह भी उनका सबसे धीमा अर्धशतक है, जो कि 2013 में ईडन गार्डंस में पाकिस्तान के खिलाफ 88 गेंद के अर्धशतक से हार गया।

                                                                                                     source

पूर्व बल्लेबाज सदगोपपन्ना रमेश भारतीय क्रिकेटर द्वारा सबसे धीमा एकदिवसीय पचास का रिकॉर्ड है।उन्होंने 1999 में केन्या के खिलाफ 50 रन के स्कोर तक पहुंचने के लिए 117 गेंदों खेली थी। पूर्व कप्तान सौरव गांगुली ने 2005 में श्रीलंका के खिलाफ 105 गेंद में 50 रनों के साथ तीसरे स्थान पर हैं।

                                                                                                     source

आमतौर पर टेस्ट क्रिकेट में बैट्समैन क्रीज पर समय बिताने के बाद शॉट्स लगाने शुरू करते हैं, हालांकि पिछले कुछ साल में खेल के प्रारूप में भी खेल का तरीका बदल चुका है। वहीं वनडे और टी20 ताबड़तोड़ बैटिंग के लिए ही जाना जाता है। ऐसे में सीमित ओवरों वाले क्रिकेट फॉर्मेट में जो भी बैट्समैन अपनी पारी में ज्यादा गेंदों में कम रन बनाते हैं उसकी तुलना टेस्ट से की जाती है। वेस्टइंडीज के खिलाफ धोनी अर्धशतकीय पारी को भी शायद फैंस इसी कैटेगरी में रखना चाहेंगे।

                                                                                                source

वेस्टइंडीज के खिलाफ पिछले मैच में धोनी ने शानदार बैटिंग का मुजायरा किया था, जिसके बाद उन्होंने मीडिया के सामने कहा था कि वे उस पुरानी शराब की तरह हैं जो समय बितने के साथ ज्यादा कारगर होता जाता है। इस बयान के दो दिन बाद ही धोनी की इतनी धीमी पारी को लेकर फैंस सोशल मीडिया पर मायूसी जाहिर कर रहे हैं।

                                                                                                      source