अभ्यास मैच में जीता भारत


लंदन : भुवनेश्वर कुमार और मोहम्मद शमी की घातक गेंदबाजी और कप्तान विराट कोहली की नाबाद अर्धशतकीय पारी से मौजूदा चैंपियन भारत ने बारिश से प्रभावित आईसीसी चैंपियन्स ट्राफी अभ्यास क्रिकेट मैच में आज यहां न्यूजीलैंड को डकवर्थ लुईस पद्धति से 45 रन से हराया। भुवनेश्वर (28 रन देकर 3 विकेट) और शमी (47 रन देकर 3 विकेट) ने अपनी तेज, सटीक, सीम और स्विंग गेंदबाजी का अद्भुत नजारा पेश किया तथा न्यूजीलैंड को 38.4 ओवर में 189 रन पर ढेर करने में अहम भूमिका निभायी।

इसके जवाब में भारत ने जब 26 ओवरों में तीन विकेट पर 129 रन बनाये थे तभी भारी बारिश के कारण खेल रोकना पड़ा। इसके बाद आगे का खेल नहीं हो पाया और भारतीय टीम ने इस तरह से इंग्लैंड दौरे का जीत से आगाज किया। जब बारिश के कारण खेल रोका गया तब कोहली 52 और पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी 17 रन पर खेल रहे थे। सलामी बल्लेबाज शिखर धवन ने 40 रन बनाये। टास जीतकर पहले बल्लेबाजी के लिये उतरे न्यूजीलैंड के केवल चार बल्लेबाज दोहरे अंक में पहुंचे। इनमें से सलामी बल्लेबाज ल्यूक रोंची ने सर्वाधिक 66 रन का योगदान दिया जबकि आलराउंडर जेम्स नीशाम 46 रन बनाकर नाबाद रहे। भारतीय गेंदबाजों ने उसके अन्य बल्लेबाजों को टिककर नहीं खेलने दिया। भारत के लिये भुवनेश्वर और शमी के अलावा रविंद्र जडेजा ने दो विकेट तथा उमेश यादव और रविचंद्रन अश्विन ने एक-एक विकेट हासिल किया।

भारतीय गेंदबाजों में केवल हार्दिक पंड्या (छह ओवर में 49 रन) ही प्रभावित नहीं कर पाये।  बल्लेबाजों में केवल कोहली और धवन को ही क्रीज पर अच्छा समय बिताने का मौका मिला। भारत ने अंजिक्य रहाणे (7) का विकेट जल्दी गंवा दिया था जो टिम साउथी के बाउंसर को पूरे नियंत्रण के साथ हुक नहीं कर पाये और लांग आन पर कैच दे बैठे। उनका स्थान लेने के लिये आये कोहली ने अपने प्रिय शाट कवर ड्राइव से कुछ दर्शनीय शाट लगाये और धवन के साथ दूसरे विकेट के लिये 68 रन जोड़े। धवन ने क्रीज पर कुछ उपयोगी समय बिताया। उन्होंने नीशाम की शार्ट पिच गेंद पर कोरे एंडरसन को आसान कैच थमाया। धवन ने 59 गेंदें खेली तथा 5 चौके लगाये। मनीष पांडे की जगह टूर्नामेंट के लिये टीम में शामिल किये गये दिनेश कार्तिक को चौथे नंबर पर बल्लेबाजी के लिये उतारा गया लेकिन वह खाता भी नहीं खोल पाये और ट्रेंट बोल्ट की आफ स्टंप से बाहर की गेंद को पुल करके मिडविकेट पर कैच दे बैठे।

इसके बाद धोनी ने क्रीज पर कदम रखा। उन्होंने सदाबहार अंदाज में बल्लेबाजी की। बोल्ट की गेंद को उन्होंने छह रन के लिये भेजा लेकिन तब भाग्य ने भी उनका साथ दिया क्योंकि कोलिन डि ग्रैंडहोम ने उसे लगभग कैच में तब्दील कर दिया लेकिन आखिर में वह उनके हाथ से सीमा रेखा के बाहर गिर गयी। कोहली ने इस बीच 52 गेंदों पर अपना अर्धशतक पूरा किया। इसके बाद बारिश आ गयी और आखिर में मैच यहीं पर समाप्त घोषित कर दिया गया। इससे पहले कोहली ने शमी और पंड्या से गेंदबाजी की शुरूआत करायी। पंड्या नई गेंद से किसी भी समय प्रभाव नहीं छोड़ पाये तथा कीवी बल्लेबाज ने उन पर आसानी से रन बटोरे। शमी जरूर शुरू से हावी हो गये हालांकि रोंची ने उनके खिलाफ बीच में आक्रामक रवैया भी अपनाया। इस तेज गेंदबाज ने अपने दूसरे ओवर में ही अतिरिक्त उछाल लेती गेंद पर मार्टिन गुप्टिल (9) को मिड आफ पर कैच कराया और फिर कप्तान केन विलियमसन (8) और नील ब्रूम को लगातार गेंदों पर पवेलियन भेजा।
रोंंची जब 26 रन पर थे तब जसप्रीत बुमराह की गेंद पर अश्विन ने मिडआन पर मुश्किल कैच छोड़ा। इसके अगले ओवर में रोंची ने शमी पर लगातार दो चौके और मिडविकेट पर छक्का जमाया। शमी के इसी ओवर में रहाणे ने स्लिप में डाइव लगाकर विलियमसन का कैच लिया जबकि ब्रूम ने बाहर की तरफ मूव करती गेंद पर विकेटकीपर धोनी को कैच दिया।