सहवाग दे सकते है शास्त्री को चुनौती


मुंबई : भारतीय क्रिकेट टीम के नए कोच का फैसला होने में 24 घंटे का समय शेष रह गया है और टीम इंडिया के पूर्व निदेशक रवि शास्त्री का इस पद के लिए पलड़ा भारी माना जा रहा है लेकिन उन्हें पूर्व दिग्गज ओपनर वीरेंद्र सहवाग से कड़ी चुनौती मिल सकती है। भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) को मुख्य कोच के पद के लिए अब तक 10 आवेदन मिले हैं। रवि शास्त्री, वीरेंद, सहवाग, टॉम मूडी, रिचर्ड पायबस, डोडा गणेश, लालचंद राजपूत, लांस क्लूजनर, राकेश शर्मा (ओमान राष्ट्रीय टीम कोच), फिल सिमंस और उपेंद, ब्रह्मचारी (इंजीनियर, क्रिकेट की पृष्टभूमि नहीं) ने इस पद के लिए आवेदन किया है। नए कोच से दो साल का अनुबंध भी किया जाएगा जो 2019 विश्व कप तक के लिए होगा।

अनिल कुंबले के इस्तीफे के बाद यह पद रिक्त हुआ है। पहले कुंबले ने भी इस पद के लिए आवेदन किया था लेकिन बाद में उन्होंने एक पत्र में कप्तान विराट कोहली के साथ संबंधों में खटास जाहिर कर खुद को इस दौड़ से हटा लिया था। बोर्ड ने इसके बाद आवेदन स्वीकार करने की तारीख रविवार नौ जुलाई तक बढ़ा दी थी। बीसीसीआई के कार्यवाहक अध्यक्ष सी के खन्ना ने कहा था कि टीम इंडिया को 26 जुलाई से उसका श्रीलंका दौरा शुरू होने से पहले नया कोच मिल जाएगा। लोढा सुधारों पर विशेष समिति की रिपोर्ट पर चर्चा के लिये भारतीय क्रिकेट बोर्ड की विशेष आम बैठक (एसजीएम) मंगलवार को दिल्ली में आयोजित की जायेगी लेकिन इससे एक दिन पहले कोच का साक्षात्कार मुंबई में हो जाएगा।

सचिन तेंदुलकर, सौरभ गांगुली और वी वी एस लक्ष्मण की तीन सदस्यीय सलाहकार समिति शॉर्टलिस्ट उम्मीदवारों का इंटरव्यू करेगी। समझा जाता है कि छह उम्मीदवारों सहवाग , पायबस , राजपूत , शास्त्री , सिमंस और मूडी का इंटरव्यू किया जाएगा और इस बात की पूरी सम्भावना है कि शास्त्री के नाम पर मोहर लग जायेगी और नए कोच की घोषणा सोमवार शाम तक हो जायेगी। कोच के चयन के लिए इंटरव्यू की शुरुआत एक बजे होगी। हालांकि इसे साढ़े 12 बजे से होना था लेकिन इस समय लंदन में मौजूद सचिन ने लंदन समय के हिसाब से सुबह 8.30 बजे का आग्रह किया था। समझा जाता है कि बोर्ड की तरफ से समिति को स्पष्ट सन्देश है कि कोच वही चुना जाना चाहिए जिसके साथ काम करते हुए कप्तान और टीम को कोई परेशानी न महसूस हो। शास्त्री के कप्तान विराट के साथ मधुर संबंधों को देखते हुए शास्त्री की दावेदारी मजबूत मानी जा रही है। शुरुआत में शास्त्री ने इस पद के लिए आवेदन नहीं किया था, लेकिन जब बीसीसीआई ने आवेदन स्वीकार करने की तारीख 9 जुलाई तक बढ़ा दी, तो उन्होंने भी इस पद के लिए आवेदन कर मु़काबले को दिलचस्प बना दिया।