नये लक्ष्य बनाना मुश्किल : पेस


Leander Paes

नई दिल्ली: अठारह ग्रैंडस्लैम और एक ओलंपिक पदक जीत चुके 44 बरस के लिएंडर पेस ने कहा कि उनके लिये नये लक्ष्य तय करना मुश्किल है लेकिन आफ सीजन में दमखम के खेल बने आधुनिक टेनिस के मानदंडों पर खरे उतरने की कोशिश में जुटे रहे। पेस के कई समकालीन कोच बन गए और उनके कई जूनियर्स ने संन्यास ले लिया लेकिन टेनिस के लिये पेस की भूख कम नहीं हुई है। उन्होंने कहा, मेरे लिये आफ सीजन का मतलब कौशल, दमखम, वजन और अपने खेल को तरोताजा बनाये रखना है क्योंकि अब खेल में ताकत का बोलबाला है। सभी खिलाड़ी छह फुट से ऊंचे हैं और अधिक बलशाली है।

ऐसे में आपके लिये जवाबी हमले का समय बहुत कम रहता है क्योंकि गेंद काफी मजबूती से आती है। पेस ने कहा, ताकत के मायने हैं कि सर्विस और फोरहैंड दमदार होने चाहिये। युगल में नयी शैली के साथ वापसी कर सकते हैं। मेरे लिये आफ सीजन शारीरिक क्षमता बढाने और नये लक्ष्य तय करने का था। वैसे नये लक्ष्य तय करना बहुत मुश्किल है। टेनिस से संन्यास के बार बार उठते सवाल पर उन्होंने कहा कि फिलहाल मैं अपने टेनिस कैरियर के खूबसूरत मोड़ से गुजर रहा हूं जिसमें मुझे कुछ साबित नहीं करना है। अभी भी गेंद और कोर्ट पर नियंत्रण बनाने में कामयाब रहना ही मेरी प्रेरणा है। उन्होंने कहा कि मैं खेल का मजा ले रहा हूं।

हमारी मुख्य खबरों के लिए यहां क्लिक करें।