भारत और इंग्लैंड के बीच वनडे सीरीज खत्म हो चुकी है और आच यानी 1 अगस्त से दोनों के बीच में 5 टेस्ट मैचों की सीरीज शुरू हुई है। टेस्ट सीरीज से पहले भारत और इंग्लैंड के बीच टी20 सीरीज और वनडे सीरीज खेली गई थी। जिसमें टी20 सीरीज को भारत ने 2-1 से जीत लिया था और वनडे सीरीज को इंग्लैंड ने 2-1 से जीत लिया था।

Test series

भारत और इंग्लैंड के बीच टेस्ट सीरीज का हुआ आगाज

England cricket team

भारतीय टीम को इंग्लैंड की सरजमी पर हमेशा से ही टेस्ट सीरीज में बहुत कठिनाईयों का सामना करना पड़ा है। भारतीय टीम ने अब तक इंग्लैंड में 17 टेस्ट सीरीज खेली हैं जिसमें से भारत महज 3 ही टेस्ट सीरीज में जीत हासिल हुई है।

indian cricket team

जबकि 1 सीरीज को भारत ने ड्रॉ कर दिया था। आज हम आपको भारतीय टीम के एक ऐसे खिलाड़ी के बारे में बताएंगे जो इंग्लैंड में किसी और मकसद से गया था। लेकिन अंग्रेजों की टीमों से 12 टेस्ट खेला था।

दलीप इंग्लैंड पढ़ाई करने के लिए गए थे

Duleep Singh Ji

आज हम आपको जिस भारतीय खिलाड़ी के बारे में बता रहे हैं उस खिलाड़ी का नाम दलीप सिंहजी है। दलीप सिंहजी का जन्म गुजरात के कठियावाड़ में 13 जून 1905 में हुआ था। दलीप ने अपनी पढ़ार्ई की शुरूआत राजकोट के राजकुमार कॉलेज से शुरू की थी।

Duleep Singh Ji

हालांकि इसके बाद की पढ़ाई के लिए वह इंग्लैंड चले गए थे। दलीप ने इंग्लैंड केशेल्टनहेम कॉलेज में दाखिला ले लिया था। दलीप पढ़ार्ई के साथ-साथ क्रिकेट के भी बड़े दीवाने थे। जिसके कारण जल्द ही वह कॉलेज की टीम का हिस्सा बन गए थे। कॉलेज की टीम के लिए खेलते-खेलते वह इंग्लैंड की काउंटी क्रिकेट में पहुंच गए थे।

Duleep Singhji

दलीप सिंहजी ने तिहरा शतक जड़ा 5 घंटे में

Duleep Singhji

दलीप सिंहजी ने 7 मई 1930 को इंग्लिश घरेलू क्रिकेट टीम ससेक्स की ओर से खेलते हुए नॉर्थेंप्टनशॉयर के खिलाफ 333 रनों की आतिशी पारी खेली थी। जिस समय यह पारी खेली गई उस समय बल्लेबाजों का बल्लेबाजी स्ट्राइक रेट बेहद कम हुआ करता था।

Duleep Singhji

दलीप सिंहजी कभी भी टीम इंडिया के लिए इंटरनेशनल क्रिकेट नहीं खेले, लेकिन बीसीसीआई ने उनके नाम पर एक घरेलू टूर्नामेंट शुरू किया।

Duleep Singhji

जिसे अब भारतीय क्रिकेट फैन्स दलीप ट्रॉफी के नाम से जानते हैं। साल 1959 में उनका निधन हो गया था, जबकि इसके दो साल 1961 में दलीप ट्राफी की शुरूआत की गई थी।

Duleep Singhji