अंतिम ओवरों में रोहित ने की गेंदबाजों से ये ‘खास’ बात


हैदराबाद: मुंबई इंडियंस के कप्तान रोहित शर्मा ने इस जीत का श्रेय अपने गेंदबाजों को देते हुए कहा कि उन्हें अपने गेंदबाजों पर पूरा विश्वास था। फाइनल मुकाबले में मुंबई ने आठ विकेट पर 129 रन का मामूली स्कोर बनाने के बावजूद पुणे को छह विकेट पर 128 रन पर थामकर एक रन से खिताब जीत लिया।

मुंबई ने तीसरी बार आईपीएल खिताब जीतकर हैट्रिक बना दी। रोहित ने कहा, मुझे अब शांति मिली। यह क्रिकेट का एक शानदार मैच था। मुझे विश्वास है कि दर्शकों ने इसका आनंद उठाया होगा। छोटे स्कोर का बचाव करना बेहतरीन प्रयास कहा जाएगा। मैं इससे ज्यादा की उम्मीद नहीं कर सकता।

रोहित आईपीएल में कप्तान के रूप में अब तीन बार और कुल मिलाकर चार खिताब जीत चुके हैं। रोहित की कप्तानी में मुंबई ने इससे पहले 2013 और 2015 में यह खिताब जीता था। इसके अलावा 2009 में वह डेक्कन चार्जस की तरफ से खिलाड़ी के रूप में एक खिताब जीत चुके हैं।

रोहित ने कहा, जब आप छोटे स्कोर का बचाव करने के लिए उतरते हो तो आपका खुद पर विश्वास होना जरूरी है। मैंने अपने खिलाड़यिों से कहा कि अगर हम कोलकाता के खिलाफ छोटे स्कोर का बचाव कर सकते हैं तो यहां भी ऐसा कर सकते हैं। हमें पिच से भी मदद मिली जिसका हमने भरपूर फायदा उठाया।

रोहित बोले, आखिर के तीन ओवर बचे थे तब भी मुझे अपने गेंदबाजों पर विश्वास था। उन्होंने हमेशा अपनी भूमिका अच्छी तरह से निभाई है। मैंने उन्हें पूरी स्वतंत्रता दी। मैंने उनसे कहा कि वे जिस तरह से क्षेत्ररक्षण सजाना चाहते हैं वैसा सजाएं। फाइनल में जीत के हीरो रहे क्रुणाल पांड्या ने 38 गेंदों में तीन चौके और दो छक्के की मदद से 47 रन बनाया। उनके इस शानदार प्रदर्शन के लिये उन्हें मैन आफ द मैच का पुरस्कार मिला।

क्रुणाल ने कहा, जब लगातार विकटें गिर रही थी तो मैं पूरे 20 ओवर तक खेलना चाहता था। मुझे पता था कि अगर मैं 19-20 ओवर तक टिक गया तो मैं गेंद को हिट कर सकता हूं। टूर्नामेंट शुरु होने से पहले मैंने इसकी पूरी तैयारी की थी और परिणाम आप सबके सामने हैं। फाइनल में मैन आफ द मैच बनना किसी सपने के पूरे होने से कम नहीं है।