भारतीय पुरूष हॉकी टीम ने चार देशों के इन्विटेशनल हॉकी टूर्नामेंट में धमाकेदार आगाज करते हुये जापान को 6-0 से धो दिया। रूपिंदर पाल सिंह और पदार्पण खिलाड़ विवेक सागर प्रसाद ने शुरूआती दो-दो गोल किये और भारत की बढ़त को बनाये रखा। दिलप्रीत सिंह और हरमनप्रीत सिंह ने बाद के दो गोल किये। भारतीय खिलाड़यिं ने मैच की शुरूआत से ही जापान के खिलाफ अपना हमला जारी रखा और उसे बढ़त का एक भी मौका नहीं लेने दिया। ड्रैग फिल्कर रूपिंदर ने पेनल्टी स्ट्रोक को सफलतापूर्वक गोल में बदलते हुये सातवें मिनट में ही पहला गोल दाग दिया। वहीं राष्ट्रीय टीम की ओर से पहला मैच खेल रहे प्रसाद ने पांच मिनट बाद गोल कर स्कोर 2-0 और 15 मिनट बाद एक और गोल कर भारत का स्कोर 3-0 पहुंचा दिया।

मैच के शुरू होने के बाद एक अन्य पदार्पण खिलाड़ दिलप्रीत ने भी टीम के लिये गोल दाग दिया और इस तरह मैच में भारत के लिये पदार्पण खिलाड़यिं ने तीन गोल दाग दिन को यादगार बना दिया। जापान जैसे ही भारत को जवाबी हमले की तैयारी में था तभी भारत को पेनल्टी कार्नर हासिल हो गया और इस बार हरमनप्रीत ने इस पर गोल कर स्कोर 4-0 पहुंचाया। जापान को इसके दो मिनट बाद ही गोल का मौका मिला लेकिन एक अन्य पदार्पण खिलाड़ कृष्ण बी पाठक ने इसका बेहतरीन ढंग से बचाव किया। मैच का तीसरा क्वार्टर जापान के लिये और भी खराब रहा और आखिरी 15 मिनट में भी भारतीय टीम के खिलाड़यिं ने अपनी आक्रामकता को जारी रखा। मैच बारिश से भी प्रभावित हुआ लेकिन 41वें मिनट में हरमनप्रीत और 45वें मिनट में दिलप्रीत के गोलों से भारत ने स्कोर को 6-0 पहुंचाते हुये एकतरफा अंदात्र में जीत दर्ज की।

अधिक जानकारियों के लिए बने रहिये पंजाब केसरी के साथ।