नई दिल्ली : पांच बार की विश्व चैम्पियन भारत की एमसी मैरीकॉम, सरिता देवी और पिंकी रानी सहित भारत के 18 मुक्केबाजों ने बेहतरीन प्रदर्शन करते हुए यहां जारी स्पाइसजेट इंडिया ओपन अंतर्राष्ट्रीय मुक्केबाजी टूर्नामेंट के फाइनल में बुधवार को जगह बना ली और वे स्वर्ण पदक से एक पंच दूर रह गये हैं। त्यागराज स्टेडियम में जारी इस टूर्नामेंट में भारत के 10 पुरुष और आठ महिला मुक्केबाजों ने फाइनल में जगह बना ली है। उज्बेकिस्तान के सभी सात मुक्केबाजों और क्यूबा के तीन मुक्केबाजों ने खिताबी मुकाबले में जगह बनाई है। मैरीकॉम, सरिता और पिंकी के अलावा पुरुष वर्ग में मनीष कौशिक तथा दिनेश भी फाइनल में पहुंच गए हैं।

लेकिन स्टार मुक्केबाज शिवा थापा को सेमीफाइनल में हार मिली। कलाई की चोट के कारण वह मनीष कौशिक का जमकर सामना नहीं कर सके। मनीष ने लाइटवेट कटेगरी के इस एकतरफा मुकाबले में शिवा को 5-0 से हराया। मैच के बाद मनीष ने कहा, ‘मुझ पर कोई दबाव नहीं था और इसी लिए मैं खुलकर खेला। मैंने शिवा को हमले के लिए उकसाया।’ पांच बार की विश्व चैम्पियन मैरी को लाइटफ्लाइ वेट कटेगरी में मंगोलिया की अल्टानसेगसेग लुटसैखान के खिलाफ पहले राउंड की शुरुआत में कुछ परेशानी हुई लेकिन बाद में मैरी ने अपनी रणनीति बदलते हुए दूसरे दौर में शानदार वापसी की।

मंगोलियाई खिलाड़ी काफी आक्रामक होकर खेल रही थी और मैरी ने भी काफी करीब से हमले करते हुए शुरुआत की लेकिन बाद में उन्हें लगा कि यह सही रणनीति नहीं है। मंगोलियाई खिलाड़ की ऊंचाई, पहुंच और शक्ति उसके लिए मजबूती का कारण बन रही थी। आगे के राउंड में मैरी ने सुरक्षित दूरी बनाए रखा और तेजी से हमले किए। इससे मंगोलियाई खिलाड़ की लय बिगड़ गयी और मैरी ने यह मुकाबला 4-1 से जीत लिया। फाइनल में मैरी का सामना फिलीपींस की जोसी गाबुको से होगा।

अधिक जानकारियों के लिए यहाँ क्लिक करें।