जानिये सस्पेंड होने के बाद क्यों खुश है रविन्द्र ‘SIR’ जडेजा


रविन्द्र जडेजा को ‘सर जडेजा’ क्यों कहा जाता है ये उन्होंने एक बार फिर साबित कर दिया है। हाल ही में चल रही भारत – श्रीलंका सीरीज में भारत ने दुरसा टेस्ट मैच जीत कर सीरीज तो अपने नाम कर ली है साथ ही जडेजा ने वो कारनामा कर दिखाया जो क्रिकेट के दिग्गज गेंदबाज भी नहीं कर पाए है। हालांकि इस मैच में अश्विन ने भी शानदार गेंदबाज़ी करते हुए टेस्ट क्रिकेट मे 26वीं दफ़ा पाँच विकेट लेने का कारनामा किया।

बाएँ हाथ के गेंदबाज़ जडेजा ने श्रीलंका की पहली पारी का 6वाँ विकेट लेते ही सबसे तेज 150 विकेट लेने वाले भारत के दूसरे सितारे बन गए हैं| उन्होनें धनंजय डी सिल्वा को पहली ही गेंद पर आउट कर सिर्फ 32 मैचों में इस कारनामे को अंजाम दिया|

उनसे आगे सिर्फ रविचंद्रन अश्विन हैं| अनिल कुंबले और एरापल्ली प्रसन्ना ने 34-34 मैचों में अपने 150 विकेट पूरे किए थे।इस कारनामे में जडेजा सबसे बड़ा हाथ विराट कोहली का मानते है।

दरअसल अब तक जडेजा ने विराट कोहली की कप्तानी में अब तक 19 मैच खेले हैं जिनमे उनका प्रदर्शन बेहद लाजवाब रहा है। इस मैच के बाद उन्हें तीसरे मैच से निलंबित होने की मायूसी तो है पर ये रिकॉर्ड उनके लिए ख़ुशी जरूर लाया है।

रिकार्ड्स के अनुसार जडेजा ने विराट की कप्तानी में 19.89 की औसत के साथ कुल 100 विकेट झटके हैं| ऐसा नहीं है की धोनी और अजिंक्य रहाणे की कप्तानी में वो बेअसर साबित हुए है।

धोनी की कप्तानी में जडेजा ने 12 टेस्ट में 45 विकेट झटके। इस दौरान उनका गेंदबाजी औसत 30.37 का रहा जबकि दो बार वो पारी में पांच विकेट लेने में कामयाब रहे।

रहाणे की कप्तानी में जडेजा ने एक टेस्ट ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ खेला और चार विकेट झटके पर विराट कोहली की कप्तानी उन्हें कुछ ज्यादा ही रास आ रही है। साथ ही जडेजा अब भारत की तरफ से सबसे तेज 150 विकेट और 1,000 रन बनाने वाले गेंदबाज बन गए हैं।