नडाल ने तीसरा अमेरिकी ओपन जीता


एंडरसन को हरा 16वां ग्रैंडस्लैम अपने नाम किया

न्यूयार्क: दुनिया के नंबर एक खिलाड़ी राफेल नडाल ने फाइनल में दक्षिण अफ्रीका के केविन एंडरसन को सीधे सेटों में 6-3, 6-3, 6-4 से आसानी से पस्त करते हुए तीसरा अमेरिकी ओपन और 16वां ग्रैंडस्लैम खिताब अपनी झोली में डाला। नडाल यहां 2010 और 2013 में भी ट्राफी जीत चुके हैं, उन्होंने जून में रिकार्ड 10वां फ्रेंच ओपन खिताब हासिल किया था। वह अपने पुराने प्रतिद्वंद्वी रोजर फेडरर से ग्रैंडस्लैम के मामले में सिर्फ तीन खिताब पीछे हैं।

स्विट्जरलैंड का धुरंधर रिकार्ड 19 ग्रैंडस्लैम अपने नाम कर चुका है, फेडरर ने सत्र के दो अन्य ग्रैंडस्लैम आस्ट्रेलियन ओपन और विम्बलडन में खिताबी जीत दर्ज की थी। नडाल को आस्ट्रेलियाई ओपन के फाइनल में फेडरर से हार का मुंह देखना पड़ था।

नडाल के लिये यह साल का पांचवां और करियर का 74वां खिताब था। एंडरसन के लिये यह निराशाजनक दोपहर रही क्योंकि दुनिया का 32वें नंबर का खिलाड़ 34वें प्रयास में अपना पहला ग्रैंडस्लैम फाइनल खेल रहा था। वह 1965 में क्लिफ ड्रिसडेल के बाद अमेरिकी चैम्पियनिशप के फाइनल में पहुंचने वाला पहला दक्षिण अफ्रीकी खिलाड़ी बना और 1981 आस्ट्रेलियाई ओपन में जोहान क्रिक के बाद देश का पहला ग्रैंडस्लैम चैम्पियन बनने की कोशिश में जुटा था। नडाल ने मैच के बाद इस वर्ष को अपने करियर के सर्वश्रेष्ठ वर्ष में से एक करार दिया। उन्होंने कहा, नतीजों के लिहाज से यह निश्चित रूप से मेरे करियर के सर्वश्रेष्ठ सत्र में से एक रहा। उन्होंने अपने करियर में चौथी बार वर्ष के दो ग्रैंडस्लैम जीता

नडाल ने कहा, मैं खिताब जीत रहा हूं, ग्रैंडस्लैम के तीन फाइनल खेले इसलिये यह काफी है। यह भी काफी मुश्किल था। उन्होंने कहा, इसलिये यह मेरे लिये काफी प्रतिस्पर्धी वर्ष रहा। क्ले पर मैंने लगभग सारे मैच जीते। निश्चित रूप से यह भावुक सत्र भी रहा क्योंकि मैं चोटों के मामलों में काफी मुश्किल दौर से गुजर रहा था।

जोहांसबर्ग में जन्में एंडरसन ने दो घंटे 28 मिनट तक चले मुकाबले में 40 अनफोर्स्ड गलतियां की जबकि नडाल की गलतियां 11 रहीं। नडाल ने एंडरसन के खिलाफ शुरू से ही मैच में दबदबा बनाये रखा जिन्हें वह जूनियर टेनिस के दिनों से ही जानते हैं। 28वें वरीय एंडरसन ने जूझने के बाद तीसरे और पांचवें गेम में दो ब्रेक अंक तो बचा लिये लेकिन स्पेनिश खिलाड़ ने जल्द ही 4-3 से बढ़त बना ली। इसके बाद उन्होंने फिर सर्विस तोड़ और चतुराई से सेट प्वाइंट हासिल कर दक्षिण अफ्रीकी खिलाड़ को 58 मिनट में पछाड़ दिया।

शुरूआती सेट के बाद नडाल ने केवल पांच अनफोर्स्ड गलतियां की जबकि एंडरसन ने 23 गलतियां कर डालीं और वह एक भी ब्रेक प्वाइंट हासिल नहीं कर सका। इसके बाद नडाल की बढ़त का सिलसिला दूसरे सेट में जारी रहा और लगातार तीन वॉली से 4-2 से आगे हो गये। एंडरसन की परेशानी समय सीमा के उल्लघंन ने भी बढ़ दी जिससे उनका खुद को शांत रखने का प्रयास बुरी तरह विफल रहा।

नडाल ने क्रासकोर्ट फारहैंड विनर से दूसरा सेट भी 6-3 से अपने नाम कर लिया। तीसरे सेट के शुरूआती गेम में एंडरसन सर्विस गंवा बैठे। पांचवें गेम के दौरान उनकी दायें हाथ की तर्जनी उंगली में चोट लग गयी जिससे खून निकल रहा था जिससे उन्हें अपने ट्रेनर को बुलाना पड़। उन्होंने मैच प्वाइंट बचाया लेकिन नडाल ने शानदार बैकहैंड वॉली से इसे जीत कर खिताब हासिल किया।