भारतीय टीम के शानदार सलामी बल्लेबाज Gautam Gambhir ने मंगलवार को क्रिकेट के सारे प्रारूपों से संन्यास ले लिया है। भारतीय टीम ने साल 2007 और 2011 में विश्व कप जीता था गौतम गंभीर उस टीम का हिस्सा रहे थे।

गुरुवार को दिल्ली और आंध्र प्रदेश के बीच फिरोजशाह कोटला मैदान पर रणजी मैच खेला जाना है जो उनके क्रिकेट कैरियर का आखिर मैच होगा।

Gautam Gambhir ने लिया संन्यास

Gautam Gambhir ने अपने क्रिकेट कैरियर में 58 टेस्ट और 147 वनडे मैच खेले हैं। गौतम गंभीर ने अपने संन्यास की जानकारी ट्विटर पर दी है और साथ में अपने आखिरी मैच के बारे में भी बताया है। गौतम गंभीर ने ट्वीट में लिखा, “आंध्र प्रदेश के साथ होने वाला रणजी ट्रॉफी मुकाबला मेरे कैरियर का अंतिम मैच होगा। मेरे कैरियर का अंत वहीं होने जा रहा है, जहां (कोटला स्टेडियम) से मैंने शुरुआत की थी। एक बल्लेबाज के तौर पर मैंने टाइमिंग का सम्मान किया है। मेरे लिए यह संन्यास लेने का सही समय है और मुझे लगता है कि यह मेरे शॉट्स की तरह ही स्वीट है।”

ऐसा रहा है Gautam Gambhir का क्रिकेट कैरियर

भारत की तरफ से Gautam Gambhir ने अपने क्रिकेट कैरियर का आखिरी टेस्ट मैच साल 2016 में खेला था। गौतम गंभीर ने अपने क्रिकेट कैरियर की शुरूआत साल 1999 में की थी। गौतम गंभीर ने टेस्ट मैचों में 41.95 की औसत से कुल 4154 रन बनाए हैं और वनडे कैरियर में उनके नाम 5238 रन रहे हैं।

भारत के लिए गंभीर ने 37 टी20 मैच भी खेले हैं। गौतम गंभीर ने टेस्ट मैचों में 9 शतक तो वनडे में कुल 11 शतक बनाए हैं। इसके साथ ही टी20 में गौतम गंभीर के नाम 7 अर्धशतक भी हैं। गौतम गंभीर ने अपने डेढ़ दशक के क्रिकेट कैरियर के दौरान भारत के अलावा दिल्ली, दिल्ली डेयरडेविल्स, एसेक्स, कोलकाता नाइट राइडर्स के लिए खेले हैं।

कोलकाता नाइट राइडर्स के कप्तान के तौर पर गंभीर ने दो बार आईपीएल खिताब जीते हैं। वह दिल्ली की रणजी टीम तथा डेयडेविल्स टीम के भी कप्तान रहे हैं।