10 साल बाद सायना बनी राष्ट्रीय चैंपियन


sayna

नागपुर : दूसरी वरीयता प्राप्त सायना नेहवाल ने अपनी प्रबल प्रतिद्वंद्वी और ओलंपिक रजत विजेता पीवी सिंधू की कड़ी चुनौती पर बुधवार को 21-17, 27-25 से काबू पाते हुए 82वीं सीनियर राष्ट्रीय बैडमिंटन प्रतियोगिता में महिला एकल चैंपियन बनने का गौरव हासिल कर लिया। सायना ने दस साल बाद एक बार फिर राष्ट्रीय चैंपियन बनने का गौरव पाया। सायना ने तीसरी बार राष्ट्रीय चैंपियनशिप में खिताब जीता है। इससे पहले वह 2006 और 2007 में चैंपियन रह चुकी हैं।

सायना ने टॉप सीड सिंधू की चुनौती पर 54 मिनट में काबू पाया। इस हार के साथ सिंधू तीसरी बार राष्ट्रीय चैंपियन बनने से दूर रह गईं। सिंधू ने 2011 और 2013 में यह खिताब जीता था। भारतीय बैडमिंटन की दो क्वीन कहे जाने वाली सायना और सिंधू के बीच जबर्दस्त मुकाबले का दर्शकों ने पूरा आनंद लिया। सीधे प्री क्वार्टरफाइनल में जगह पाने वाली इन दोनों खिलाड़ियाें के बीच कांटे का मुकाबला हुआ। दूसरे गेम में तो यह स्थिति थी कि इस गेम को कोई भी जीत सकती थी। पहले गेम में सायना ने 5-3 की बढ़त बनाई और लगातार अपनी बढ़त मजबूत करती रही।

उन्होंने 14-9 और 17-12 की बढ़त बनाई। लेकिन सिंधू ने वापसी करते हुए स्कोर 17-18 कर दिया। सायना ने फिर लगातार तीन अंक लेकर पहला गेम 21-17 पर समाप्त किया। दूसरा गेम तो रोमांच की पराकाष्ठा पर पहुंच गया। सिंधू ने 5-1 की बढ़त बनाई और वह एक समय 18-14 के स्कोर से अच्छी स्थिति में थी। लेकिन सायना ने लगातार पांच अंक लेकर 19-18 की बढ़त बनाई। सायना फिर 20-19 से आगे हुई और उनके पास एक मैच अंक था। लेकिन सिंधू ने दो अंक लेकर 2।20 की बढ़त बनाई। सायना फिर लगातार दो अंक लेकर 22-21 के साथ मैच जीतने से एक अंक दूर रह गई। सायना के पास चार बार मैच अंक आए। लेकिन हर बार सिंधू ने बराबरी कर ली। स्कोर 25-25 पहुंच चुका था और हर अंक के साथ दर्शकों की सांसें तेज होती जा रही थी। आखिर सायना ने लगातार दो अंक लेकर 27-25 के स्कोर के साथ गेम और मैच समाप्त कर दिया।