चेन्नई सुपर किंग्स के कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने किंग्स इलेवन पंजाब के खिलाफ रविवार को खेले गए मुकाबले में आतिशी पारी खेली लेकिन अफसोस इस बात का रहा कि वह अपनी टीम को जीत नहीं दिला सके।

 

लेकिन इस मैच में करोड़ो क्रिकेट प्रेमियों का दिल चेन्नई सुपर किंग के कप्तान एम एस धोनी ने जीता। आपकों बता दे, कि चेन्नई सुपर किंग के कप्तान एम एस धोनी ने इस मैच में 44 गेंदों पर 79 रन की एक विस्फोटक पारी खेली।

उनकी यह पारी ने करोड़ो क्रिकेट प्रेमियों का दिल जीत लिया। उन्होंने अपनी इस शानदार पारी में 6 चौके व 5 छक्के लगाये। मैदान पर धोनी का मैच देखने के लिए उनकी बेटी जीवा भी वहीं थी।

धोनी जब गगनचुंबी छक्के लगा रहे थे तो पवेलियन में बैठी जीवा अपने पापा को मैदान पर खेलता देख उत्साहित हो उठी और उसी वक्त जीवा ने पापा को हग करने की जिद कर डाली। लेकिन बल्लेबाजी के दौरान ऐसा करना बेहद मुश्किल था। जीवा बार-बार पापा को बुलाने के लिए कह रही थी। धोनी ने जीवा की इस जिद का एक वीडियो इस्टाग्राम पर अपलोड किया है।

When Ziva wanted to give a hug to papa during the match

A post shared by M S Dhoni (@mahi7781) on

पहले तो वह खुद ही पापा…..पापा…… कहते हुए धोनी को अपने पास बुलाने का प्रयास करती रही, लेकिन जब उन्हें लगा, कि उनकी आवाज उनके पापा तक नहीं पहुंच रही है, तो जीवा पास में बैठे अपने किसी रिश्तेदार से धोनी को अपने पास बुलाने के लिए कहने लगी।

इस दिलचस्प वाक्ये के बीच चेन्नई के कप्तान एम एस धोनी की बेटी जीवा का अपने पापा के तरह ही तेज दिमाग देखने को मिला। दरअसल, जब जीवा की आवाज देने के बावजूद नहीं आ पा रहे थे, तो उन्होंने अपने एक रिश्तेदार से धोनी को अपने पास बुलाने के लिए कहने लगी।

जब उस रिश्तेदार ने जीवा से कहा, कि मैं धोनी को कैसे बुलाऊ,तो जीवा ने इसके जवाब में कहा, “आपने मेरे पापा के तरह जर्सी पहनी है। आप वहां जा सकते है और आप मेरे पापा को बुला सकते है।” जीवा के इन शब्दों से कही ना कही उनके दिमाग और उनकी समझ का अंदाजा लगाया जा सकता है।

मैच के बाद धोनी ने अपनी बेटी की चाहत को पूरा करते हुए उसे प्यार से गले लगाया और बीच मैदान पर जीवा को गोदी लेकर घूमते दिखे।

धोनी की पत्नी साक्षी और बेटी लगातार इस सीजन में CSK के मैच देखने के लिए पवेलियन में मौजूद रहती हैं। साक्षी और जीवा दोनों टीम और धोना को चियर्स करती रहती हैं।

अधिक जानकारियों के लिए बने रहिये पंजाब केसरी के साथ