पर्थ : गेंद से छेड़छाड़ की घटना के बाद से अपनी खोयी प्रतिष्ठा हासिल करने के लिये जूझ रहे आस्ट्रेलिया ने अपने खिलाड़ियों में अनुशासित बनाने के लिये ‘कुलीन ईमानदारी’ जैसे कुछ शब्द गढ़े हैं लेकिन अपने जमाने के दिग्गज स्पिनर शेन वार्न को टीम प्रबंधन का यह रवैया कतई पसंद नहीं है और उनका मानना है कि शब्दों से नहीं बल्कि काम से बदलाव लाया जाना चाहिए।

दक्षिण अफ्रीका में गेंद से छेड़छाड़ की घटना के बाद आस्ट्रेलिया का किसी भी तरह से जीत दर्ज करने का रवैया खुलकर सामने आ गया। इसके बाद जस्टिन लैंगर को कोच बनाया गया जिन्होंने आस्ट्रेलियाई क्रिकेट को आगे बढ़ाने के लिये कुछ नये शब्द गढ़े हैं। इससे पहले क्रिकेट आस्ट्रेलिया की संस्कृति पर पिछले सप्ताह एक समीक्षा रिपोर्ट आयी थी जिसमें क्रिकेटरों से खेल की परंपराओं का सम्मान करने और आस्ट्रेलिया को गौरवान्वित करने की अपील की गयी थी।

रिपोर्टों के अनुसार दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ पर्थ में खेले गये पहले एकदिवसीय मैच के दौरान टीम के ड्रेसिंग रूम में कुछ शब्द लिखे गये थे जिनमें ‘कुलीन ईमानदारी’ भी एक शब्द था। प्रशंसक सोसल मीडिया पर इन शब्दों का खूब मजाक बना रहे हैं।