GJM को लेकर दार्जिलिंग में फिर भड़की हिंसा


दार्जीलिंग : दार्जिलिंग में आज गोरखा जनमुक्ति मोर्चा (जीजेएम) के प्रदर्शनकारियों ने सुरक्षा कर्मियों पर पथराव किया और बोतलें फेंकी जिन्होंने जवाबी कार्रवाई में आंसू गैस के गोले छोड़े। पुलिस ने फायरिंग भी की। आंसू गैस के गोले दागे और लाठीचार्ज किया। इस घटना में कई लोग घायल हो गए जिसकी वजह से प्रशासन को इलाके में सेना की तैनाती करनी पड़ी। वहीं पुलिस ने जीजेएम नेता के यहां छापेमारी भी की।

                                                                                                Source

अलग राज्य की मांग को लेकर अनिश्चितकालीन बंद के तीसरे दिन गोरखा जनमुक्ति मोर्चा के कार्यकर्ताओं ने सिंगमारी में जीजेएम मुख्यालय से प्रदर्शन रैली निकाली। इलाके में निषेधाज् लागू होने के कारण पुलिस ने राष्ट्रध्वज और जीजेएम झंडे हाथ मे लेकर चल रहे प्रदर्शनकारियों से लौटने के लिए कहा नारे लगा रहे प्रदर्शनकारी वापस नहीं लौटे और उन्होंने पुलिस पर पत्थर तथा बोतलें फेंकनी शुरू कर दी। एक वाहन में भी आग लगा दी गई। पुलिस ने प्रदर्शनकारियों पर आंसू गैस के गोले दागे और लाठीचार्ज किया।

                                                                                               Source

एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने कहा, हमने उन्हें वापस लौटने के लिए कहा लेकिन उन्होंने पत्थर, बोतलें और पेट्रोल बम फेंकना शुरू कर दिया। हमें लाठीचार्ज करना पड़ा। पुलिस ने बताया कि झड़प में कुछ पुलिसकर्मी और जीजेएम कार्यकर्ता घायल हो गए। पुलिस अधीक्षक और अन्य वरिष्ठ आईपीएस अधिकारी की कमांड में पुलिस और अर्द्धसैन्य बल का बड़ा दल घटनास्थल पर पहुंचा।दवा की दुकानों को छोड़कर दार्जीलिंग में सभी अन्य दुकानें और होटल बंद हैं। आज की हिंसा पर प्रतिक्रऊिया देते हुए पर्यटन मंत्री गौतम देब ने कहा, सरकार जीजेएम की गुंडागर्दी स्वीकार नहीं करेगी।

                                                                                              Source

जीजेएम नेता विक्रऊम राय के बेटे एवं जीजेएम विधायक अमर राय को पुलिस ने दार्जीलिंग से पकड़ लिया। विक्रऊम जीजेएम की मीडिया शाखा का प्रभारी है। पुलिस ने कल रात वरिष्ठ जीजेएम नेता बिनय तमांग के आवास पर छापा मारा था जिसके बाद पार्टी कार्यकर्ताओं ने यहां बिजनबाडी इलाके में पीडब्ल्यूडी का कार्यालय फूंकने की कोशिश की।

                                                                                                Source

सियासी साजिश की इशारा

ममता बनर्जी ने GJM को हिंसा के लिए जिम्मेदार ठहराया और कहा कि पांच साल तक ये लोग चुप थे और चुनाव नजदीक देखकर हिंसा की साजिश की गई| ममता बनर्जी ने लोगों ने शांति की अपील की| साजिश की ओर इशारा करते हुए ममता बनर्जी ने कहा कि जीजेएम के नेताओं के घर इतने हथियार कहां से आए? ममता बनर्जी ने कहा कि इससे पहले, शनिवार को जीजेएम की महिला मोर्चा ने बड़ी रैली निकाली| ममता बनर्जी ने कहा कि अदालत ने जीजेएम के प्रोटेस्ट को अवैध करार दिया वे अदालत की बात भी नहीं मान रहे. दार्जिलिंग में जो कुछ हो रहा है वह गुंडागर्दी है |