चुनाव आयोग का EVM Challenge शुरू हुआ


चुनाव आयोग द्वारा ईवीएम पर उठे सवालों के लेकर ईवीएम चैलेंज (EVM Challenge) शुरू हो गया है | अभी तक की जानकारी के अनुसार चुनाव आयोग ने कुल 14 ईवीएम को चैलेंज के लिए रखा है | इस चैलेंज का आयोजन राजधानी दिल्ली स्थित चुनाव आयोग के मुख्यालय में हो रहा है | अभी तक केवल दो ही दलों के प्रतिनिधि वहां पहुंचे हैं | इस चैलेंज का सामना करने के लिए अभी तक सीपीएम और एनसीपी के प्रतिनिधि वहां पर पहुंचे | चुनाव आयोग के अनुसार अभी इन दोनों दलों के प्रतिनिधियों को चार-चार ईवीएम दी जाएंगी | कहा जा रहा हे कि आयोग ने सभी 7 राष्ट्रीय और 48 राज्यस्तरीय पार्टियों को ईवीएम में छेड़छाड़ करके दिखाने के चुनौती दी थी | इस चैलेंज को चुनाव आयोग की तरफ से मीडिया को देखने की इजाजत नहीं है |

चुनाव आयोग ने कहा कि वह पीआईपी के ट्विटर हैंडल के जरिए जानकारी लगातार साझा करते रहे हैं | मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक चुनाव आयोग ने पंजाब, उत्तराखंड और उत्तर प्रदेश में हुए विधानसभा चुनावों में इस्तेमाल हुई 14 ईवीएम इस चैलेंज में शामिल करी हे | आप पार्टी जो एवं में गड़बड़ी का हल्ला लगातार कर रही थी उस पार्टी ने इस चैलेंज से किनारा कर लिया है | आप का कहना है कि चुनाव आयोग सबकुछ अपने मुताबिक कर रहा है | दरअसल केजरीवाल पार्टी चाहती थी कि चुनाव आयोग उसको मदर बोर्ड से छेड़छाड़ की इजाजत दे जबकि चुनाव आयोग ने मदर बोर्ड को खोलने की इजाजत देने से साफ इंकार कर दिया था |

माना जाता है कि 8 साल बाद एक बार फिर EVM को लेकर उपजे विवाद के चलते आखिरकार चुनाव आयोग ने इससे जुड़ी शंकाओं के दूर करने के लिए ईवीएम और वीवीपीएटी का डेमो दिया था | हाल ही में इस मौके पर बोलते हुए मुख्‍य निर्वाचन आयुक्‍त(सीईसी) नसीम जैदी ने कहा कि हालिया पांच राज्‍यों के चुनावों के बाद इस संबंध में कई शिकायतें एवं सुझाव मिले हैं लेकिन कमीशन को कोई सबूत नहीं दिया गया है | इस बारे में किसी ने भी कोई विश्‍वसनीय सबूत नहीं दिए |