माल्या ने खुद पर लगे आरोपों को ख़ारिज किया ,4 दिसम्बर तक मिली बेल


Vijay Mallya

नई दिल्लीः भारतीय बैंकों का 9 हजार करोड़ लेकर विदेश भाग चुके विजय माल्या के केस पर आज लंदन कि अदालत ने सुनवाई की , लंदन के कोर्ट ने विजय माल्या पर प्रत्यर्पण की सुनवाई जारी कि है | खबर अनुसार अभी तक बताया जा रहा है कि माल्या ने कोर्ट द्वारा लगाए गए अपने ऊपर सारे आरोप खारिज कर दिए हैं |

                                                                                           Source

लंदन मै अदालत के बाहर मीडिया से बात करते हुए विजय माल्या ने कहा कि उसके पास पर्याप्त सबूत हैं जो उसके केस को अदालत में मजबूत साबित करने के लिए काफी हैं |भारत के शराब कारोबारी विजय मालिया पर भारत के 18 बैंको से 9 हजार करोड़ रुपये गबन का आरोप है | जिसके खिलाफ आज लंदन के कोर्ट में सुनवाई चल रही है | सूत्रों के हवाले से खबर है कि भारत की जांच एजेंसियों कोर्ट में माल्या के खिलाफ दोहरी अपराधिता का मामला उठाएगी |

                                                                                         Source

दोहरी आपराधिकता का मतलब ये है कि सिर्फ भारतीय कानून ही नहीं ब्रिटेन के फ्राड एक्ट 2006 के हिसाब से भी माल्या को आरोपी बताया जाएगा | भारतीय कोर्ट एजेंसियां कोर्ट में ये साबित करने की कोशिश करेंगी कि ब्रिटिश कानून के नजर में भी माल्या ने बैंक से लेनदेन में ईमानदारी नहीं दिखाई भारतीय जांच एजेंसियों ने इस मामले में अपने बयानों की कॉपी क्राउन प्रोसीक्यूशन सर्विस के वकीलों को पहले ही सौंप दी थी | सीबीआई और प्रवर्तन निदेशालय के अधिकारियों ने लंदन जाकर CPS के वकीलों से मुलाकात की थी |

                                                                                      Source

भारत कि तरफ से लंदन ले कोर्ट में सुनवाई के दौरान यह साबित किया जायेगा कि सौदे या लेनदेन के प्रति माल्या ने कोई ईमानदारी नहीं दिखाई | ऐसे में अगर कोर्ट भारतीय पक्ष की दलीलों से सहमत हो जाता है तो माल्या को भारत वापस लाने की संभावना बढ़ जाएंगी | विजय माल्या पर अलग-अलग बैंकों के नौ हजार करोड़ रुपये का कर्ज है |

बैंकों का कर्ज चुकाने के बजाय माल्या देश छोड़कर फरार हो गये | माल्या 2016 से ही लंदन में है|जिसके बाद भारत ने ब्रिटेन सरकार से माल्या को भारत भेजने की अपील की थी | भारत की मांग पर सुनवाई करते हुए लंदन प्रशासन ने माल्या को रेड कॉर्नर नोटिस के आधार पर गिरफ्तार किया था, जिसके बाद उन्हें जमानत मिल गई थी |