सूरत में नाबालिग से रेप के मामले में पुलिस ने तफ्तीश तेज कर दी है। इस मामले में सूरत पुलिस को अहम सुराग भी हाथ लगे हैं। पुलिस ने इस दिल दहलाने वाली घटना में इस्तेमाल हुए वाहन की भी की है और शक की सुई बच्ची के रिश्तेदार तक पहुंच रही है। इन सबूतों तक पहुंचने के लिए पुलिस सीसीटीवी फुटेज और कॉल डिटेल्स खंगाल रही है।

आपको बता दे कि पुलिस ने इस मामले में 3 लोगों को गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस गिरफ्त में आए तीनों आरोपी राजस्थान के रहने वाले है। तीनों आरोपी गुजरात के सूरत में टाइल्स लगाने का काम करते थे। यही पर बच्ची की मां भी मजदूरी करती थी। लेकिन, हादसे के बाद से ही बच्ची की मां गायब है। पुलिस ने शुक्रवार को दो लोगों को राजस्थान के गंगानगर से अरेस्ट किया।

अहमदाबाद क्राइम ब्रांच ने उस गाड़ी को भी बरामद कर लिया है जिससे बच्ची के शव को पांडेसरा इलाके में फेंका गया था। पुलिस को शक है कि बच्ची की मां का भी कत्ल कर फेंक दिया गया है। पिछले दिनों पुलिस को तीन महिलाओं के शव मिले थे। अब पुलिस बच्ची और इन शवों के डीएनए का मिलान कराएगी।

पुलिस को यह भी शक है कि बच्ची के किसी रिश्तेदार ने ही घटना को अंजाम दिया था। पुलिस ने कहा कि आरोपी पर जल्द ही शिकंजा कसा जा सकता है। वहीं, बच्ची की पोस्टमार्टम रिपोर्ट में बच्ची के साथ क्रूरता की सारी हदें पार कर दी गई है। पुलिस को इस बात का भी शक है कि बच्ची की मां की मौत भी प्राकृतिक नहीं थी। दरअसल, मार्च-अप्रैल में पुलिस को पांडेसेरा पुलिस क्षेत्र में तीन महिलाओं और दो पुरुषों के शव मिले हैं। बच्ची के साथ उन पांचों के डीएनए भी मैच कराए जा रहे हैं।

आपको बता दे कि सूरत के पांडेसरा इलाके में 6 अप्रैल को क्रिकेट के एक मैदान के पास पुलिस को 11 साल की एक बच्ची की लाश क्षत विक्षत अवस्था में मिली थी। मेडिकल जांच में बच्ची के साथ रेप कि आशंका जताई गई, साथ ही बच्ची के शरीर पर जख्म के 86 निशान मिले।

24X7 नई खबरों से अवगत रहने के लिए क्लिक करे।