दिल्ली से सटे ग्रेटर नोएडा के शाहबेरी गांव में मंगलवार रात दो इमारत के ढहने से 3 लोगों की मौत हुई है। यहां 6 और 7 मंजिल की दो बिल्डिंग भर भराकर गिर गईं। बिल्डिंग के मलबे में कई लोगों के दबे होने की आशंका है। एनडीआरएफ की टीम पुलिस और फायर बिग्रेड लोगों की मदद से राहत और बचाव कार्य में जुटी हैं।

ndrf-team

बिल्डर समेत तीन गिरफ्तार

greater noida

बताया जा रहा है कि शाहबेरी में निर्माणाधीन बिल्डिंग के बगल में पहले से ही एक बिल्डिंग बनी हुई थी। निर्माणाधीन इमारत पुरानी इमारत पर गिर गई। पुरानी इमारत में कुछ परिवार रह रहे थे। नई इमारत में मजदूर सो रहे थे। इस दुर्घटना से दोनों इमारतों में सो रहे लोग फंसे हुए हैं। वहीं, मुख्य बिल्डर समेत तीन लोगों को पुलिस ने गिरफ्तार किया है। बता दें कि गिरफ्तार बिल्डर गंगा शरण द्विवेदी जमीन का मालिक है।

लोगों की जान बचाना हमारी प्राथमिकता : केंद्रीय मंत्री

एनडीआरएफ के कमांडेंट पीके श्रीवस्ताव ने बताया कि नेशनल डिजास्टर रेस्पॉन्स फोर्स (एनडीआरएफ) की चार टीमें और डॉग स्क्वायड मौके पर मौजूद है। इधर, केंद्रीय मंत्री महेश शर्मा घटनास्थल पर पहुंचे। उन्होंने कहा कि लोगों की जान बचाना हमारी प्राथमिकता है।

Mahesh Sharma

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इस मामले का संज्ञान लिया है। उन्होंने जिलाधिकारी से बात कर कहा है कि एनडीआरएफ और पुलिस की मदद से तुरंत राहत और बचाव कार्य को अंजाम दिया जाए।

अधिकारियों ने बताया कि परिवारों को अभी इस इमारत में शिफ्ट नहीं किया गया था लेकिन कुछ दुकानें चलाई जा रही थी। रीजनल चीफ फायर ऑफिसर अरूण कुमार सिंह ने मरनेवालों की संख्या में इजाफे की आशंका जाहिर करते हुए कहा- “हमारे में इस बात के कोई पुख्ता साक्ष्य नहीं है कि जिस वक्त हादसा हुआ उस समय इमारत में कितने लोग मौजूद थे।”

बुधवार की सुबह पीड़ितों की तलाशी की जा रही थी और कम से कम 100 आपातकालीन कर्मी स्टील कटर्स और हैवी मशीन का इस्तेमाल कर रहे थे ताकि उस जगह को साफ किया जा सके। बताया जा रहा है एक बिल्डिंग में कुछ परिवार रहते थे और दूसरी में कुछ अन्य समेत लगभग 30-40 लोग मौजूद थे।

लोग हादसे की वजह मानकों से कम निर्माण सामग्री और कम मंजिल की अनुमति के बाद अधिक मंजिलें खड़ी करना बता रहे हैं। बिसरख कोतवाली क्षेत्र के ग्रेटर नोएडा वेस्ट में शाहबेरी गांव के खेत में कुछ वर्ष पूर्व कॉलोनी काटी गई। बताया गया है कि इसी भूमि पर बिल्डरों ने कई मंजिलों भवनों का निर्माण शुरू कर दिया।